संस्करणों

‘हे नेबर’ के ज़रिए जुड़िए अनजान पड़ोसियों से, काम आइए एक दूसरे के

Ashutosh khantwal
21st Jan 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

सितंबर 2015 में हुई ‘हे नेबर’ मोबाइल ऐप्प लांच...

25 हजार से ज्यादा लोग डाउनलोड कर चुके हैं ऐप्प...

पुणे, मुंबई और बेंगलुरू में एक्टिव है ऐप्प...



कहते हैं काम के समय जो आपकी मदद करे असली करीबी वही होता है। अक्सर देखा जाता है कि रिश्तेदार लोग अमूमन घर में जब कोई बड़ा काम होता है तभी दिखाई देते हैं लेकिन अगर हमारी अपने आस पड़ोसियों से अच्छी जान पहचान है तो वे हर छोटी बड़ी दिक्कत में हमारे साथ खड़े होते हैं। इसलिए जरूरी है कि हम अपने आस पास के लोगों के साथ अच्छा रिश्ता बनाएं और एक दूसरे की मदद करे। एक अच्छा पड़ोसी केवल काम पड़ने पर ही काम नहीं आता बल्की वो हमारे साथ हर समय खड़ा रहता है और हमारी जिंदगी को सुगम बनाता है। एक अच्छा पड़ोसी ही सही मायने में हमारा पहला रिश्तेदार होता है।

image


कश्मीरा च्हवाक, गौरव श्रीवास्तव, अरविंद रवि, हरीश वी और सत्यजीत साहू ये सभी मित्र भी अक्सर बैठ कर कुछ नया शुरू करने की सोचा करते थे, ये सभी लोगों से जुड़ा कुछ काम करना चाहते थे और लोगों को एक दूसरे से जोड़ना चाहते थे। उसी दौरान एक बार गौरव के बेटे की तबीयत खराब हुई लेकिन उन्हें उनके घर के आस पास कोई भी 24 घंटे खुली रहने वाली दवा की दुकान नहीं मिली उस समय एक मेडिकल स्टोर खोजने में उन्हें खासी दिक्कत का सामना करना पड़ा और आनन फानन में दोस्तों और परिवार वालों को दवा लाने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ी। लेकिन इस कटु अनुभव ने भी सबको सोचने पर मजबूर कर दिया कि क्यों न एक ऐसी मोबाइल ऐप्प डेवलप की जाए जो आस पास के लोगों को जोड सके और वक्त आने पर हर कोई एक दूसरे के काम आ सके और इसी दिशा में काम करते हुए उन्होंने सितंबर 2015 में ‘हे नेबर’ नाम से एक मोबाइल ऐप्प लांच की।

‘हे नेबर’ ऐप्प लोकल लोगों को एक मंच पर लाता है जहां पर लोग एक दूसरे से कनेक्ट हो सकते हैं तथा आपस में संपर्क साध सकते हैं। इस ऐप्प की मदद से आप कार पूलिंग के लिए पार्टनर खोज सकते हैं। आपको जिम में यदि कोई पार्टनर की तलाश है तो भी आपके लिए ये ऐप्प काफी मददगार सिद्ध होगी। आपको अपने घर के आस पास से कोई भी सर्विस लेनी है चाहे वो किसी अच्छे डॉक्टर की जानकारी हो, चाहे किसी मेडिकल स्टोर के बारे में जानना हो, इसके अलावा भी कोई भी जानकारी हो आप लोकल लोगों से संपर्क साध कर उनसे जानकारी व उनकी राय ले सकते हैं।

सरल भाषा में कहें तो ये ऐप्प घर के पास रह रहे लोगों को जोडने का काम कर रही है ताकि लोग आपस में जुड़ें और एक दूसरे की मदद कर सकें।

इतने कम समय में ही इस ऐप्प को 25 हजार से ज्यादा डाउनलोड किया जा चुका है। सबसे अच्छी बात है कि लगभग 40 प्रतिशत लोग इस ऐप्प से प्रतिदिन जुड रहे हैं। यह ऐप्प अभी बेंगलुरू, मुंबई और पुणे में एक्टिव है।

हे नेबर की क-फाउंडर, 30 वर्षीय कश्मीरा बताती हैं, 

यह ऐप्प पहली ऐप्प है जो लोगों को इतनी अच्छी तरह से एक दूसरे से जोड़ती है और लोगों को लगता है कि हर समय उनके साथ कोई मौजूद है। आप यहां पर कोई कॉफी पार्टनर खोज सकते हैं और आपकी हर दिक्कत का निबटारा कर सकते हैं जो आपको अमूमन आती है। 

कश्मीरा इससे पहले टेलीविजन में बतौर पत्रकार काम कर चुकी हैं। आगे वे बताती हैं कि हम लोगों ने प्रोडक्ट की डेवलपमेंट व उसकी मार्केटिंग का खास ध्यान रखा और इसके परिणाम सबके सामने है।

चूंकि ऐप्प हाइपर लोकल अप्रोच के साथ काम कर रही है इसलिए कई लोकल कंपनियां इसकी तरफ आकर्षित हो रही हैं और इनके माध्यम से वे अपने बिजनेस को प्रमोट करना चाहती हैं। जिससे कंपनी के लिए रेवेन्यू जनरेट होगा।

कश्मीरा बताती हैं, "हम लोग काफी रिसर्च के बाद ही आगे बढ़ रहे हैं। हम पहले कस्टमर की जरूरतें व उनका रिस्पॉन्स देख रहे हैं उसे एनालाइज कर रहे हैं और उसी आधार पर अपने आगे के प्लान पर काम कर रहे हैं। हर महीने हे नेबर को पसंद और डाउनलोड करने वालों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। और कंपनी को जबर्दस्त सफलता मिल रही है।"

कश्मीरा कहती हैं कि बाजार में कई कंपनियां हैं जिससे उनका कांपटीशन है लेकिन उनको अपने प्रोडक्ट पर पूरा भरोसा है। जिस तरह से उनके प्रोडक्ट को रिस्पांस मिल रहा है उसने उनके आत्मविश्वास को और बढ़ा दिया है।


लेखक- तौसीफ आलम

अनुवादक- आशुतोष खंतवाल

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें