संस्करणों

मीठे पेय पदार्थों पर कर की मांग

विश्व स्वास्थ्य संगठन चाहता है कि मीठे पेय पदार्थों पर कर लगे

14th Oct 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मोटापे और मधुमेह जैसे रोगों पर लगाम लगाने के लिए सरकारों से मीठे पेय पदाथरें पर राजकोषीय प्रतिबंध जैसे कि कर इत्यादि लगाने को कहा है ताकि इनके उपभोग को हतोत्साहित किया जा सके।

वैश्विक स्वास्थ्य संगठन ने अपनी नवीनतम रपट में ऐसी राजकोषीय नीति अपनाने की जरूरत को दोहराया गया है जिसमें फलों और सब्जियों पर सब्सिडी दी जाए एवं अस्वास्थ्यकर खाद्य विकल्पों पर कर लगाया जाए।

image


‘खानपान एवं गैर-संक्रामक रोगों की रोकथाम के लिए राजकोषीय नीति’ नाम की इस रपट के अनुसार, ‘‘ऐसे वाकये हैं जिसके हिसाब से मीठे पेय पदाथरें पर कर ढांचे को तर्कसंगत बनाए जाने से उनके उपभोग में कमी देखी गई है विशेषकर जब उनकी खुदरा बिक्री की कीमत को 20 प्रतिशत या उससे अधिक तक बढ़ा दिया जाए।’’ 

रपट में कहा गया है कि ताजे फलों और सब्जियों पर सब्सिडी उपलब्ध कराकर उनके दाम 10-30 प्रतिशत तक कम करने से ऐसे स्वास्थ्यवर्धक उत्पादों के उपभोग को बढ़ाया जा सकता है।

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

    Latest Stories

    हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें