संस्करणों
प्रेरणा

‘सिटीजन कॉप’ की बदौलत बिना परेशानी के कर सकते हैं किसी भी घटना की पुलिस में रिपोर्ट

Geeta Bisht
17th Apr 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

हम में से ज्यादातर लोग जब अपने आसपास कोई अपराध देखते हैं या फिर नगर निगम से जुड़ी समस्या को पाते हैं तो उसकी शिकायत करने से बचते हैं, क्योंकि अक्सर हम ये नहीं जानते की ऐसी चीजों की शिकायत कहां पर और कैसे की जाती है। लेकिन मध्य प्रदेश के इंदौर में रहने वाले सॉफ्टवेयर इंजीनियर राकेश जैन ने इस समस्या का समाधान एक खास तरीके से निकाला है। उन्होने ‘सिटीजन कॉप’ नाम से एक ऐसा ऐप तैयार किया है जिसकी मदद से कोई भी शख्स अपनी शिकायत उचित जगह तक पहुंचा सकता है।


image


राकेश जैन ने जनवरी 2013 में ‘सिटीजन कॉप’ नाम से एक ऐप लॉच किया। तब से इस ऐप के करीब 1 लाख 75 हजार डाउनलोड हो चुके हैं। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड किया जा सकता है। ये एंड्रायड और आईओएस दोनों ही वर्जन में उपलब्ध है। राकेश जैन खुद एक सॉफ्टवेयर प्रोफेशनल हैं वो पिछले 20 सालों से इंदौर में अपनी कंपनी ‘इंफोक्रेट वैब सल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड’ चला रहे हैं। वो बताते हैं कि “पिछले कुछ सालों से समाज में एक अवधारणा सी बन गयी थीं कि हमारी सरकार और पुलिस हमारी सुरक्षा के लिए कुछ नहीं कर रही है। तब मेरे मन में एक विचार आया कि एक जिम्मेदार नागरिक के नाते क्यों ना मैं ही ऐसा कुछ बनाऊं जो कि समाज के लिए उपयोगी हो।”


image


अपने ऐप के बारे में राकेश बताते हैं कि जो भी व्यक्ति मुश्किल हालात में इस ऐप का इस्तेमाल करता है तो इससे पुलिस कंट्रोल रूम को घटना स्थल की जानकारी और सबूत दोनों ही मिल जाते हैं। इस ऐप की सबसे बड़ी विशेषता ये है कि इसमें घटना की जानकारी देने वाले व्यक्ति की गोपनियता बनी रहती हैं। इसके एक खास फीचर में अगर कहीं पर किसी तरह का अपराध हो तो कोई भी व्यक्ति इसकी शिकायत अपनी पहचान बताये बगैर कर सकता है। राकेश का मानना है कि लोग आपराधिक घटनाओं को अनदेखा नहीं करना चाहते लेकिन पुलिस की पूछताछ से बचने के लिए वो मूकदर्शक बने रहते हैं। इसलिए जब उन्होने अपने इस ऐप को लॉच किया तो लोगों से बहुत ही अच्छी प्रतिक्रिया मिली। राकेश कहते हैं कि उनका उद्देश्य ही ये है कि वो इस ऐप को देशभर में लोकप्रिय बना सकें। अब तक उनके ऐप का सबसे ज्यादा इस्तेमाल मध्य प्रदेश और छत्तीगढ़ में हो रहा है। यहां पर इंदौर, भोपाल, जबलपुर के अलावा करीब 18 शहरों में इस ऐप का इस्तेमाल हो रहा है। इसके अलावा छत्तीसगढ़ के लगभग सभी शहर इसमें शामिल हैं। साथ ही पुणे, नवी मुंबई, नोएडा, झांसी, वाराणसी और बैंगलुरू में प्रशासन इसका इस्तेमाल कर रहा है। उनका मानना है कि इस तरह पूरे भारत में अगर इसका इस्तेमाल हो तो व्यक्ति कहीं भी आये जाये वो इस ऐप की सुविधा ले सकता है।


image


‘सिटीजन कॉप’ ऐप के फिलहाल दो वर्जन हैं। ये हैं फुल और लाइट वर्जन। फुल वर्जन में प्रशासन, पुलिस और दूसरी समकक्ष एंजेसी का पूरा योगदान रहता है। फिलहाल ये सुविधा देश के 25 शहरों में उपलब्ध है, धीरे-धीरे दूसरे शहरों में भी इसका विस्तार हो रहा है। जबकि इस ऐप को आम लोगों तक पहुंचाने के लिए इसका लाइट वर्जन काफी मददगार साबित हो रहा है। इसमें पुलिस और प्रशासन से सम्बन्धित 1-2 फीचर कम हो जाते हैं लेकिन आत्मरक्षा वाले सभी फ़ीचर इसमें उपलब्ध हैं। ‘सिटीजन कॉप’ ऐप का लाइट वर्जन ज्यादा से ज्यादा लोग इसका इस्तेमाल करे इसके लिये इन्होने ‘सिटीजन कॉप फाउंडेशन’ नाम से एक संगठन बनाया है। जिसमें इनके साथ 10 दूसरे लोग भी जुड़े हैं। ‘सिटीजन कॉप’ ऐप में पहला इमरजेंसी फीचर है इसका एक बटन। जिसे दबाते ही चार नजदीकी जानकारों को पता चल जाता है कि आप मुसिबत में हैं। जबकि फुल वर्जन ऐप में लोकल डिस्ट्रिक पुलिस कंट्रोल रूम भी इससे जुड़ा होता है। इसके अलावा मुश्किल हालात में मोबाइल को तीन बार हिलाने से और अगर मोबाइल में इयर फोन लगा हो तो उसे हटाने से भी इमरजैंसी का बटन मोबाइल के सामने आ जाता है।


image


इस ऐप में महिलाओं की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए टाइमर का बटन दिया गया है। अगर किसी महिला की ऑफिस से छुट्टी शाम 5:30 बजे होती है और 1 घंटे बाद वह घर नहीं पहुंचती है तो उसके करीबियों और पुलिस तक मैसेज अपने आप पहुंच जाता है। इसमें ट्रैवल सेव का भी विकल्प है जिसे कोई भी महिला सार्वजनिक यात्रा के दौरान इस्तेमाल कर सकती है। इसके लिए महिला को अपनी यात्रा से पहले गाड़ी का नंबर और लोकेशन इस ऐप में डालना होता है सकती है। इतना ही नहीं अगर किसी का मोबाइल खो जाये तो उसे पुलिस भी आसानी से ढूंढ सकती है। इसके लिए किसी भी व्यक्ति को अपने मोबाइल का आईएमए नंबर इस ऐप में डालना होता है और जब कभी उसका फोन चोरी हो जाये तो उसका डेटा पुलिस के पास चला जाता है। ऐसे में अगर कोई चोरी का मोबाइल खरीदता है तो इसकी जानकारी पुलिस को लग जाती है।


image


भविष्य की योजनाओं के बारे में इनका राकेश का कहना है कि जिस भी शहर में प्रशासन का सहयोग मिलेगा वहां पर ये इस ऐप का फुल वर्जन उतारेंगे। फिलहाल इनकी कोशिश है कि इस ऐप का देशभर में प्रसार हो ताकि अलग अलग अपराधों की रिर्पोट सिर्फ एक ऐप के जरिये हो सके।

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें