संस्करणों

चाय के शौकीनों ने विदेश की नौकरी छोड़कर खोल ली चाय की दूकान

चाय पीने के शौकीन अपने शौक के लिए कहां तक जा सकते हैं। आप कहेंगे कि बीस कप चाय पी जाएंगे एक दिन में। या इससे भी अधिक। पर इंजीनियर पंकज शर्मा और कारोबारी आशीष चाय के जूनून में इससे भी आगे निकल गए। इन्होंने चाय की दुकान ही खोल ली।

12th Mar 2017
Add to
Shares
30
Comments
Share This
Add to
Shares
30
Comments
Share

सुनने में हैरानी हो सकती है, लेकिन यह सच्चाई है। चंडीगढ़ के सैक्टर 10 में उम्दा चाय की दुकान खोल ली है। दुकान भी ऐसी कि इसने शहर भर के चाय के शौकीनों को दीवाना बना दिया है।

चायबब्बल- यह है इस चाय की दुकान का नाम। जैसा नाम वैसी ही चाय। भाप उठती, महक भरी। पर यहां सिर्फ एक नहीं दो सौ से अधिक तरह की चाय उपलब्ध हैं। और दो सौ तरह की चाय के आगे ढेरों जायके।

image


चायबब्बल के पीछे की कहानी भी अपने आप में रोचक है। चाय की दीवानगी की दास्तां है। पंकज शर्मा वैसे तो इंजीनियर हैं पर पेशेे के तौर पर इंजीनियरिंग को बहुत ही कम समय के लिए अपनाया। कुछ समय के लिए कपड़े का काम भी किया, लेकिन रास नहीं आया। वह ऐसा कुछ करना चाहते थे जो उनके दिल में कई साल से दबा था।

वे बताते हैं कि कॉलेज के दिनों में वे शे

#x92B; बनना चाहते थे। लेकिन मां-बाप की जिद के आगे कुछ अधिक नहीं कर पाए और इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिला लेना पड़ा। लेकिन ऐसा कुछ करने का शौक खत्म कभी नहीं हुआ।

पिछले पंद्रह साल से पंकज शर्मा देश-विदेश में योगा सिखा रहे हैं और योगी पंकज के नाम से दुनिया भर में जाने जाते हैं। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, यूरोप और जापान सहित कई देशों में पंकज शर्मा को योग ट्रेनिंग देने के लिए विशेष तौर पर आमंत्रित किया जाता है।

लेकिन यह मुकाम हासिल करने के बावजूद उनके मन में चाय के अपने शौक के लिए कुछ करने की इच्छा बनी रही। तीन साल पहले उन्होंने इस बारे में उनके एक दोस्त आशीष से बात की। आशीष भी चाय पीने के शौकीन हैं।

image


आशीष के परिवार का सर्जीकल उपकरण और औज़ार बनाने का काम था। वे यूनीसेफ और विश्व स्वास्थ्य संगठन को सर्जीकल उपकरणों की सप्लाई करते थे। बाद में उन्होंने काम बदला और अमेरिका चले गए। अमेरिका के फिलाडेल्फिया राज्य में उन्होंने अपना कारोबार शुरु किया। वहां उन्होंने कुछ गैस स्टेशन खरीदे। तीन साल पहले भारत आने पर पंकज शर्मा ने उनसे चाय के शौक के बारे में चर्चा की। चर्चा का नतीजा यह निकला कि दोनों ने मिलकर चाय की एक माडर्न दुकान खोलने का फैसला कर लिया।

image


फिर शुरु हुई चाय पर चर्चा और चाय पर रिसर्च। चाय की किस्मों से लेकर चाय की मेडिसिनल प्रॉपर्टी की जानकारी। अन्य देेशों में चाय बनाने और पीने का तरीका और उससे जुड़े विश्वास। इसके बाद पिछले साल नवंबर में चायबब्बल का पहला आऊटलेट चंडीगढ़ के सैक्टर 10 में खुला।

पंकज बताते हैं कि उन्हें यह तो पता था कि शहर में चाय के शौकीन बहुुत हैं, लेकिन चायबब्बल के प्रति लोगों में ऐसी दीवानगी होगी यह अनुमान नहीं था। चाय के शौकीन लोगों ने इसे हाथों-हाथ लिया

चायबब्बल में भारत की कांगड़ा और असम चाय के अलावा नेपाल, श्रीलंका और जापान से आयातित चाय भी उपलब्ध है। चाय के साथ यहां खाने की खास रेसेपीज़ उपलब्ध हैं जिन्हें पंकज और आशीष ने खुद तैयार किया है। चायबब्बल आऊटलेट में बैठकर चाय का मजा लेने के अलावा आप चाहें तो चाय की पैकिंग भी करा सकते हैं। इसके लिए खास तरह के फ्लासक हैं जिनमें चाय डेढ़ घंटे तक गरम रहती है। इसके साथ देसी तरीके से चाय में डुबोकर खाने के लिए टाइगर बिस्कुट भी दिए जाते हैं। बच्चों के लिए खास तरीके की दूध वाली चाय भी उपलब्ध है।

image


आशीष कहते हैं कि शाम के समय जब आजकल के युवा शराब पीने लगते हैं, ऐसे समय में यहां युवाओं को चाय पीते देखना अच्छा लगता है कि वे नशे से दूर हो रहे हैं।

पंकज का कहना है कि चायबब्बल के रिस्पांस को देखते हुए वे जल्दी ही अन्य शहरों में भी आऊटलेट खोलने जा रहे हैं। 

लेखक: रवि शर्मा 

Add to
Shares
30
Comments
Share This
Add to
Shares
30
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags