संस्करणों
विविध

रात्रिभोज के लिए मोदी को गाड़ी में बैठाकर रेस्तरां ले गए मैक्सिको के राष्ट्रपति

मोदी और नीतो ने व्यापार एवं निवेश में सहयोग बढ़ाने पर विस्तार से विचार विमर्श किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मैक्सिको के राष्ट्रपति की उनकी सुधारात्मक पहलों के लिए सराहना की और कहा कि वह भारत के आर्थिक एवं शासन संबंधी सुधारों पर ध्यान दे रहे हैं। सर्वश्रेष्ठ कार्यप्रणालियों को साझा करने से दोनों देशों को लाभ हो सकता है।

9th Jun 2016
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीतो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी खास मेहमानवाजी करते हुए रात के खाने के लिए अपनी गाड़ी में बैठाकर उनको एक रेस्तरां ले गए।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा, ‘‘यह बहुत विशिष्ट सम्मान था। राष्ट्रपति खुद गाड़ी चलाकर नरेंद्र मोदी को शाकाहारी भोज के लिए एक रेस्तरां ले गए।’’ स्वरूप ने रेस्तरां में मोदी और नीतो के साथ बैठे होने की तस्वीर भी ट्वीट की है।

स्वरूप ने कहा, ‘‘राष्ट्रपति नीतो और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साथ भोजन किया।’’ इससे पहले नीतो ने ट्विटर के जरिए मोदी का स्वागत किया। मोदी वाशिंगटन से मैक्सिको पहुंचे।

नीतो ने लिखा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आपका स्वागत करना सम्मान की बात है। मुझे विश्वास है कि मैक्सिको में आपका आना उपयोगी और खुशगवार होगा।’’

मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘मैक्सिको आपका धन्यवाद। भारत-मैक्सिको संबंधों में नये युग की शुरूआत हुई है और यह रिश्ता हमारे लोगों और पूरी दुनिया को फायदा पहुंचाने जा रहा है।’’

मोदी और नीतो ने व्यापार एवं निवेश में सहयोग बढ़ाने पर विस्तार से विचार विमर्श किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मैक्सिको के राष्ट्रपति की उनकी सुधारात्मक पहलों के लिए सराहना की और कहा कि वह भारत के आर्थिक एवं शासन संबंधी सुधारों पर ध्यान दे रहे हैं। सर्वश्रेष्ठ कार्यप्रणालियों को साझा करने से दोनों देशों को लाभ हो सकता है।

मोदी ने कहा, ‘‘मैक्सिको भारत की उर्जा सुरक्षा के लिए एक महत्वपूर्ण साझीदार है। हम अब क्रेता-विक्रेता के संबंध से आगे जाना चाहते हैं और एक दीर्घकालिक साझीदारी करना चाहते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘सूचना प्रौद्योगिकी, उर्जा, फार्मास्यूटिकल्स और ऑटोमोटिव उद्योग हमारे वाणिज्यिक संबंधों के अहम विकास क्षेत्रों में शामिल हैं लेकिन हमारे वाणिज्य एवं निवेश और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी साझेदारी को नए क्षेत्रों में विस्तार देने की संभावना है।’’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘इस मामले में मैंने और राष्ट्रपति ने अंतरिक्ष और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में हमारे सहयोग को और गहरा करने के तरीके खोजने पर सहमति व्यक्त की।

उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों ने कृषि संबंधी अनुसंधान, जैव प्रौद्योगिकी, अपशिष्ट प्रबंधन, आपदा चेतावनी एवं प्रबंधन और सौर उर्जा के क्षेत्रों में ‘‘ठोस परियोजनाओं’’ को प्राथमिकता देने का निर्णय लिया।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘मैं अंतरराष्ट्रीय सौर गठबंधन में समर्थन देने के लिए विशेष रूप से राष्ट्रपति पेना नीतो को धन्यवाद देना चाहूंगा। यह खासकर विकासशील एवं लघु द्वीपों पर बसे विकासशील देशों के लिए सौर प्रौद्योगिकी के वैश्विक कैनवास में बदलाव लाएगा।’’ मोदी ने जाने माने लेखक ओक्टेवियो पाज का भी जिक्र किया।

उन्होंने कहा, ‘‘मित्रों, महान लेखक ओक्टेवियो पाज ने अपनी पुस्तक ‘इन लाइट ऑफ इंडिया’ में लिखा था, ‘मैं समझ सकता हूं कि भारतीय होना क्या होता है, क्योंकि मैं एक मैक्सिकन हूं।’ मेरा मानना है कि हम इस आपसी समझ को और मजबूत करने में आज सफल हुए हैं।’’ मोदी ने कहा, ‘‘यह शानदार यात्रा रही।’’ इसके बाद दोनों पक्षों ने एक संयुक्त बयान जारी किया जिसमें कहा गया कि दोनों नेताओं ने ‘21वीं सदी के लिए भारत-मैक्सिको विशेष साझीदारी’’ के मार्ग को निर्धारित करने के अवसरों को पहचाना ताकि दीर्घकालिक राजनीतिक, आर्थिक एवं रणनीतिक लक्ष्यों में एक व्यापक समानता को प्रदर्शित करने वाले वैश्विक मामलों में सहयोग एवं द्विपक्षीय संबंधों के विकास को प्रोत्साहित किया जा सके। संयुक्त बयान में कहा गया कि उन्होंने हर प्रकार के आतंकवाद की कड़ी निंदा की बात दोहराई।

दोनों नेताओं ने परमाणु निरस्त्रीकरण एवं अप्रसार के साझे लक्ष्यों और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा मामलों में सहयोग को प्रोत्साहित करते रहने का संकल्प लिया। (पीटीआई)

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags