संस्करणों
प्रेरणा

गरीब एवं पिछड़े छात्रों के मसीहा "सुपर 30" आनंद कुमार

आर्थिक रूप से कमजोर बच्चों को इंजीनियर बना रही है ‘सुपर 30′ संस्था आईआईटी में पढ़ने का सपना सच कराने वाली संस्था नि:शुल्क शिक्षा से संवरी है 300 से ज्यादा छात्रों की ज़िंदगी आंनद कुमार की मेहनत और नतीजा है "सुपर-30" की अद्वितीय सफलता

2nd Apr 2015
Add to
Shares
45
Comments
Share This
Add to
Shares
45
Comments
Share

अपने और माता-पिता के सपनों को तो लगभग हर इंसान साकार करने की इच्छा रखता है। यह अच्छा भी है लेकिन ऐसे लोग बहुत कम होते हैं जो गरीब और अभावहीन बच्चों के सपनों को पूरा करना ही अपने जीवन का लक्ष्य बना लेते हैं। पटना में जन्में, पले और शिक्षित हुए आनंद कुमार ऐसे ही व्यक्ति हैं। आज दुनिया आनंद कुमार को सुपर 30 संस्था के संस्थापक के रूप में जानती है। हर साल आईआईटी रिजल्ट्स के दौरान उनके सुपर 30 की चर्चा अखबारों में खूब सुर्खियां बटोरती हैं। 2014 में भी सुपर 30 के 30 बच्चों में से 27 बच्चों को आईआईटी में प्रवेश मिला है। सन 2003 से हर साल आईआईटी में सुपर 30 से आए बच्चे सफलता हासिल कर रहे हैं। इतनी बड़ी कामयाबी आनंद कुमार को यूं ही नहीं मिली। इसके पीछे उनकी जिंदगी का लंबा संघर्ष और मजबूत इरादों की बहुत भावुक और संघर्षमयी प्रेरक कहानी है।

आनंद कुमार, संस्थापक, सुपर 30

आनंद कुमार, संस्थापक, सुपर 30


आनंद कुमार का परिवार बहुत साधारण मध्यवर्गीय परिवार था। पिता पोस्टल विभाग में क्लर्क थे। बच्चों को अंग्रेजी स्कूल में पढ़ाने का खर्च निकालना उनके लिए मुश्किल था। इसलिए बच्चों को हिंदी माध्यम के सरकारी स्कूल में ही पढ़ाया। बच्चों की शिक्षा के प्रति वे बहुत जागरूक थे। आनंद भी जानते थे कि उन्हें मौजूदा सीमित साधनों से ही जितना बेहतर हो सकता है वह करना है।गणित में आनंद की विशेष रुचि थी और वे बड़े होकर इंजीनियर या वैज्ञानिक बनना चाहते थे। सभी ने कहा यदि इंजीनियर या वैज्ञानिक बनना चाहते हो तो विज्ञान विषय को ध्यान से पढ़ो। आनंद ने पटना विश्वविद्यालय में प्रवेश लिया। जहां उन्होंने गणित के कुछ फॉर्मूले इजाद किए। इन फॉर्मूलों को देखने के बाद आनंद के अध्यापक देवीप्रसाद वर्मा जी ने उन्हें इन फॉर्मूलों को इंग्लैंड भेजने और वहां प्रकाशित कराने की सलाह दी। गुुरुजी के कहे अनुसार आनंद ने अपने पेपर्स इंग्लैंड भेजे और पेपर्स प्रकाशित भी हो गए। फिर कैम्ब्रिज से आनंद को बुलावा आ गया। गुरुजी ने कहा बेटा कैम्ब्रिज जाओ और अपना नाम रौशन करो। आनंद के घर में भी खुशी का माहौल था। हर कोई आनंद को बधाईयां दे रहा था। आनंद के कैम्ब्रिज जाने के लिए सबसे बड़ी समस्या पैसे की आ रही थी। कॉलेज ने कहा कि हम सिर्फ ट्यूशन फीस माफ कर सकते हैं। कैम्ब्रिज जाने और रहने के लिए लगभग पचास हजार रुपयों की जरूरत थी। आनंद के पिताजी ने अपने ऑफिस में बेटे की आगे की पढ़ाई के लिए पैसों की मदद की मांग रखी और दिल्ली कार्यालय तक पत्राचार हुआ। आनंद की काबलियत को देखते हुए दिल्ली ऑफिस से मदद का भरोसा दिया गया। एक अक्तूबर 1994 को आनंद को कैम्ब्रिज जाना था लेकिन कहते हैं न होता वही है जो नियति को मंजूर होता है। 23 अगस्त 1994 को आनंद के पिताजी का देहांत हो गया। इस घटना ने न केवल आनंद की जिंदगी बदल ली बल्कि पूरे परिवार को घोर आर्थिक संकट में भी डाल दिया। घर में पिताजी ही अकेले कमाने वाले थे। चाचा अपाहिज और अब पूरे संयुक्त परिवार की जिम्मेदारी आनंद के कंधों पर आ गई। ऐसे में आनंद ने कैम्ब्रिज जाने का विचार छोड़ दिया और पटना में रहकर ही परिवार के भरण पोषण में लग गए। पिता की मौत के साथ ही जैसे आनंद का कैरियर भी समाप्त हो गया था। अच्छा यह था कि अब तक आनंद की ग्रेजुएशन पूरी हो चुकी थी।

image


बेशक हालात नाजुक थे लेकिन आनंद जिंदगी भर क्लर्क की नौकरी नहीं करना चाहते थे इसलिए उन्होंने पिता की अनुकंपा से प्राप्त नौकरी नहीं करने का निश्चय किया। अब आनंद अपने प्रिय विषय गणित पढ़ाकर ही थोड़ा बहुत पैसा कमाने लगे। लेकिन जितना वे कमा रहे थे उससे घर का खर्च पूरा नहीं हो पा रहा था इसलिए आनंद की माताजी ने घर में पापड़ बनाने शुरू किया और आनंद रोज शाम को चार घंटे मां के बनाए पापड़ों को साइकिल में घूम-घूम कर बेचते। ट्यूशन और पापड़ से हुई कमाई से घर चलता। आखिर ऐसा कब तक चलेगा आनंद यही सोचते रहते। फिर आनंद ने गणित को आधार बनाया और रामानुजम स्कूल ऑफ मैथेमेटिक्स खोला। इस स्कूल में हर तरह की प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्रों को कोचिंग कराई जाने लगी। कोई छात्र सौ रुपए देता, कोई दो सौ तो कोई तीन सौ रुपए। आनंद रख लेते, किसी से पैसे को लेकर बहस नहीं करते। आनंद ने इस कोचिंग सेंटर में दो बच्चों को पढ़ाने से शुरुआत की और देखते ही देखते बच्चों की संख्या तेजी से बढ़ती चली गई और जगह कम पडऩे लगी। फिर आनंद ने एक बड़े हॉल की व्यवस्था की और पांच सौ रुपए की सालाना फीस निश्चित कर दी।

image


एक बार आनंद के पास अभिषेक नाम का एक बच्चा आया और बोला, सर हम गरीब हैं मैं पांच सौ रुपए आपको एक साथ नहीं दे पाऊंगा। किश्तों में दे सकूंगा, जब मेरे पिताजी खेत से आलू निकालेंगे और वे आलू बिक जाएंगे, तब। अब सवाल पटना में रहने और खाने का खड़ा हुआ। उस बच्चे ने बताया कि वह एक नामी वकील के घर की सीढिय़ों के नीचे रहता है। इस घटना के दो-तीन दिन के बाद जब आनंद वहां गए तो देखा वह लड़का भरी दोपहरी में सीढिय़ों के नीचे पसीने से भीगा हुआ बैठा था और गणित की किताब पढ़ रहा था। इस घटना ने आनंद को झकझोर दिया। घर आकर आनंद ने अपनी मां और भाई को उस बच्चे के बारे में बताया और कहा कि हमें ऐसे बच्चों के लिए भी कुछ करना चाहिए जिनमें पढऩे की लगन है लेकिन आर्थिक आभाव के चलते वे पढ़ नहीं पाते। मां ने भी इस विचार में अपनी सहमति जताई। फिर प्रश्न यह खड़ा हुआ कि अगर साल में तीस ऐसे गरीब बच्चों को चुना भी जाए तो वे रहेंगे कहां, खाएंगे क्या? फिर आनंद ने एक मकान लेने की योजना बनाई ताकि सभी बच्चे वहां रह सकें। तीस बच्चों के लिए भोजन पकाने का काम आनंद की मां ने अपने हाथ में ले लिया। इस प्रकार आनंद का सुपर 30 इंस्टीट्यूट खोलने का सपना पूरा हो गया।

सन 2002 में आनंद ने सुपर 30 की शुरुआत की और तीस बच्चों को नि:शुल्क आईआईटी की कोचिंग देना शुरु किया। पहले ही साल यानी 2003 की आईआईटी प्रवेश परीक्षाओं में सुपर 30 के 30 में से 18 बच्चों को सफलता हासिल हो गई। उसके बाद 2004 में 30 में से 22 बच्चे और 2005 में 26 बच्चों को सफलता मिली। इस प्रकार सफलता का ग्राफ लगातार बढ़ता गया। सन 2008 से 2010 तक सुपर 30 का रिजल्ट सौ प्रतिशत रहा।

सुपर 30 को मिल रही अपार सफलता से वहां के कोचिंग माफिया परेशान हो गए। उन्होंने आनंद पर मुफ्त में न पढ़ाने का दबाव डालना शुरू कर दिया। आनंद नहीं माने तो उनपर हमले किए गए, बम फेंके, गोलियां चलाईं और एक बार तो चाकू से हमला भी किया। लेकिन चाकू आनंद के शिष्य को लग गया। तीन महीने तक वह अस्पताल में रहा और इस दौरान सभी बच्चों ने उसकी खूब सेवा की और वह स्वस्थ हो गया।

image


आनंद कुमार के सुपर 30 को मिली अपार सफलता के बाद कई लोग सहयोग के लिए आगे आए। बड़े-बड़े उद्योगपतियों ने आनंद को मदद की पेशकश की। प्रधानमंत्री तक की ओर से आनंद को मदद की पेशकश की गई लेकिन आनंद कुमार ने सुपर 30 के संचालन के लिए किसी से भी आर्थिक मदद लेने से इंकार कर दिया। क्योंकि यह काम वे खुद बिना किसी की मदद से करना चाहते हैं। सुपर 30 का खर्च उनके कोचिंग सेंटर रामानुजम स्टडी सेंटर से चलता है।

image


आज आनंद राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय मंचों को संबोधित करते हैं। उनके सुपर 30 की चर्चा विदेशों तक फैल चुकी हैं। कई विदेशी विद्वान उनका इंस्टीट्यूट देखने आते हैं और आनंद कुमार की कार्यशैली को समझने की कोशिश करते हैं।

आनंद मानते हैं कि उन्हें जो भी सफलता मिली उसका पूरा श्रेय उनके छात्रों को जाता है। छात्रों की मेहनत और लगन को जाता है। जबकि आईआईटी में हर साल पास होने वाले उनके सभी शिष्य अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने गुरू आनंद कुमार को देते हैं। सुपर 30 आनंद कुमार जैसे गुरू व शिष्यों की लगन और कठोर परिश्रम का नतीजा है। आनंद कुमार को कई पुरस्कारों से भी सम्मानित किया जा चुका है।

आनंद कुमार मानते हैं कि सफल होने के लिए प्रबल प्रयास, सकारात्मक सोच, कठोर परिश्रम और धैर्य की जरूरत होती है।

सन 2003 से 2014 तक सुपर 30 के 360 बच्चे आईआईटी की प्रवेश परीक्षा में बैठे, जिसमें से 308 को सफलता मिली। यह आंकड़े किसी भी कोचिंग सेंटर के लिए मिसाल है। न जाने कितने ही बच्चों के सपनों को साकार करने वाले आनंद कुमार का सपना है कि एक ऐसा स्कूल खोला जाए जहां छठी कक्षा से छात्रों को गणित, भौतिकी और रासायन की शिक्षा दी जाए। यकीनन आनंद कुमार अपने इस सपने को भी जल्द पूरा कर लेंगे। क्योंकि आनंद जो सोचते हैं उसे करने का सामर्थ भी रखते हैं।

Add to
Shares
45
Comments
Share This
Add to
Shares
45
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

    Latest Stories

    हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें