समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने के फैसले को दो साल हुए, फैसले में था कविताओं और उक्तियों का जिक्र

By yourstory हिन्दी
September 06, 2020, Updated on : Sun Sep 06 2020 01:31:32 GMT+0000
समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने के फैसले को दो साल हुए, फैसले में था कविताओं और उक्तियों का जिक्र
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नयी दिल्ली, उच्चतम न्यायालय ने दो साल पहले समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से बाहर रखने संबंधी फैसला दिया था और एलजीबीटीक्यू समुदाय के लाखों लोगों को आजादी देने वाले इस ऐतिहासिक फैसले को सुनाते हुए गर्ता, लियोनार्ड कोहेन, शेक्सपीयर तथा ऑस्कर विल्डे की उक्तियों को शामिल किया किया।


k

सांकेतिक फोटो (साभार: shutterstock)


तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने छह सितंबर, 2018 को दिये 495 पन्नों के फैसले में आईपीसी की धारा 377 के तहत 158 साल पुराने औपनिवेशिक कानून के हिस्से पढ़ते हुए दार्शनिकों और कवियों के उद्धरणों का उल्लेख किया।


जर्मन लेखक-दार्शनिक गर्ता के प्रसिद्ध शब्द ‘आई एम वॉट आई एम’ हों या ब्रिटिश कवि लॉर्ड अल्फ्रेड डगलस की उक्ति ‘द लव दैट डेयर नॉट स्पीक इट्स नेम’ हो, या फिर कनाडाई गायक लियोनार्ड कोहेन की कविता ‘डेमोक्रेसी इज कमिंग’ हो। पूरा फैसला दुनिया के महान साहित्यकारों और विचारों की उक्तियों से भरा था।


पीठ में न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन, न्यायमूर्ति ए एम खानविलकर, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ और न्यायमूर्ति इंदु मल्होत्रा भी शामिल थे। पीठ ने चार अलग-अलग लेकिन सहमति वाले फैसलों में व्यवस्था दी थी।


(सौजन्य से- भाषा पीटीआई)