संस्करणों

11वीं पास होने के बावजूद एक किसान का कमाल, गन्ने की खेती में किया क्रांतिकारी बदलाव

Harish Bisht
12th Oct 2016
Add to
Shares
151
Comments
Share This
Add to
Shares
151
Comments
Share

गन्ने की कलम बनाने की मशीन बनाई...

दुनिया के दूसरे देश अपना रहें हैं तकनीक...



वो किसान हैं, लेकिन लोग उनको इनोवेटर के तौर पर जानते हैं, वो ज्यादा पढ़े लिखे नहीं हैं लेकिन उन्होने वो ईजाद किया जिसका फायदा आज दुनिया भर के किसान उठा रहे हैं। मध्यप्रदेश के नरसिंहपुर जिले के मेख गांव में रहने वाले रोशनलाल विश्वकर्मा ने पहले नई विधि से गन्ने की खेती कर उसकी लागत को कम और उपज को बढ़ाने का काम किया, उसके बाद ऐसी मशीन को ईजाद किया जिसका इस्तेमाल गन्ने की ‘कलम’ बनाने के लिए आज देश में ही नहीं दुनिया के दूसरे देशों में किया जा रहा है।

image


रोशनलाल विश्वकर्मा ने ग्यारवीं क्लास तक की पढ़ाई पास ही के एक गांव से की। परिवार का पुस्तैनी धंधा खेती था। लिहाजा वो भी इसी काम में जुट गए। खेती के दौरान उन्होने देखा कि गन्ने की खेती में ज्यादा मुनाफा है। लेकिन तब किसानों को गन्ना लगाने में काफी लागत आती थी इसलिए बड़े किसान ही अपने खेतों में गन्ने की फसल उगाते थे। तब रोशनलाल ने ठाना कि वो भी अपने दो-तीन एकड़ खेत में गन्ने की खेती करेंगे इसके लिए उन्होने नये तरीके से गन्ना लगाने का फैसला लिया। रोशनलाल का कहना है कि “मेरे मन में ख्याल आया कि जैसे खेत में आलू लगाते हैं तो क्यों ना वैसे ही गन्ने के टुकड़े लगा कर देखा जाए।” उनकी ये तरकीब काम आ गई और ऐसा उन्होने लगातार 1-2 साल किया। जिसके काफी अच्छे परिणाम सामने आए। इस तरह उन्होने कम लागत में ना सिर्फ गन्ने की कलम को तैयार किया बल्कि गन्ने की पैदावार आम उपज के मुकाबले 20 प्रतिशत तक ज्यादा हुई। इतना ही नहीं अब तक 1 एकड़ खेत में 35 से 40 क्विंटल गन्ना रोपना पड़ता था और इसके लिए किसान को 10 से 12 हजार रुपये तक खर्च करने पड़ते थे। ऐसे में छोटा किसान गन्ना नहीं लगा पाता था। लेकिन रोशनलाल की नई तरकीब से 1 एकड़ खेत में केवल 3 से 4 क्विंटल गन्ने की कलम लगाकर अच्छी फसल हासिल होने लगी।

image


इस तरह ना सिर्फ छोटे किसान भी गन्ना लगा सकते थे बल्कि उसके कई दूसरे फायदे भी नजर आने लगे। जैसे किसान का ट्रांसपोर्टेशन का खर्चा काफी कम हो गया था क्योंकि अब 35 से 40 क्विंटल गन्ना खेत तक ट्रैक्टर ट्रॉली में लाने ले जाने का खर्चा बच गया था। इसके अलावा गन्ने का बीज उपचार भी आसान और सस्ता हो गया था। धीरे धीरे आसपास के लोग भी इसी विधि से गन्ना लगाने लगे। जिसके बाद अब दूसरे राज्यों में भी इस विधि से गन्ना लगाया जा रहा है।

image


रोशनलाल यहीं नहीं रूके उन्होने देखा कि हाथ से गन्ने की कलम बनाने का काम काफी मुश्किल है इसलिए उन्होने ऐसी मशीन के बारे में सोचा जिससे ये काम सरल हो जाए। इसके लिए उन्होने कृषि विशेषज्ञों और कृषि विज्ञान केंद्र की सलाह भी ली। ये खुद ही लोकल वर्कशॉप और टूल फैक्ट्रीज में जाते और मशीन बनाने के लिए जानकारियां इकट्ठा करने लगे। आखिरकार वो ‘शुगरकेन बड चिपर’ मशीन ईजाद करने में सफल हुए। सबसे पहले उन्होने हाथ से चलाने वाली मशीन को विकसित किया। जिसका वजन केवल साढ़े तीन किलोग्राम के आसपास है और इससे एक घंटे में 3सौ से 4सौ गन्ने की कलम बनाई जा सकती हैं। धीरे धीरे इस मशीन में भी सुधार आता गया और इन्होने हाथ की जगह पैर से चलने वाली मशीन बनानी शुरू की। जो एक घंटे में 8सौ गन्ने की कलम बना सकती है। आज उनकी बनाई मशीनें मध्यप्रदेश में तो बिक ही रही है इसके अलावा ये महाराष्ट्र, यूपी, उड़ीसा, कर्नाटक, हरियाणा और दूसरे कई राज्यों में भी बिक रही है। उनकी मशीन की डिमांड ना सिर्फ देश में बल्कि अफ्रीका के कई देशों में भी खूब है। आज रोशनलाल की बनाई मशीन के विभिन्न मॉडल 15 सौ रुपये से शुरू होते हैं।

image


इधर रोशनलाल की बनाई मशीन किसानों के बीच हिट साबित हो रही थी तो दूसरी ओर कई शुगर फैक्ट्री और बड़े फॉर्म हाउस भी उनसे बिजली से चलने वाली मशीन बनाने की मांग करने लगे। जिसके बाद उन्होने बिजली से चलने वाली मशीन बनाई जो एक घंटे में दो हजार से ज्यादा गन्ने की कलम बना सकती है। अब इस मशीन का इस्तेमाल गन्ने की नर्सरी बनाने में होने लगा है। इस कारण कई लोगों को रोजगार भी मिलने लगा है।

image


धुन के पक्के रोशनलाल यहीं नहीं रूके अब उन्होने ऐसी मशीन को विकसित किया है जिसके इस्तेमाल से आसानी से गन्ने की रोपाई भी की जा सकती है। इस मशीन को ट्रेक्टर के साथ जोड़कर 2-3 घंटे में एक एकड़ खेत में गन्ने की रोपाई की जा सकती है। जहां पहले इस काम के लिए ना सिर्फ काफी वक्त लगता था बल्कि काफी संख्या में मजदूरों की जरूरत भी पड़ती थी। ये मशीन निश्चित दूरी और गहराई पर गन्ने की रोपाई का काम करती है। इसके अलावा खाद भी इसी मशीन के जरिये खेत तक पहुंच जाती है। रोशनलाल ने इस मशीन की कीमत 1लाख 20 हजार रुपये तय की है जिसके बाद बाद विभिन्न कृषि विज्ञान केंद्र और शुगर मिल ने इस मशीन को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई है। साथ ही उन्होने इस मशीन के पेटेंट के लिए आवेदन किया हुआ है। अपनी उपलब्धियों के बदौलत रोशनलाल ना सिर्फ विभिन्न पुरस्कारों से सम्मानित हो चुके हैं बल्कि खेती के क्षेत्र में बढिया खोज के लिए उनको राष्ट्रीय पुरस्कार भी मिल चुका है।

Add to
Shares
151
Comments
Share This
Add to
Shares
151
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें