संस्करणों
विविध

कोलकाता के दीपक ने 1 लाख रूपये की लागत से शुरू की कंपनी, आज है टर्नओवर 10 करोड़ के करीब

अच्छी खासी नौकरी छोड़ देश की पहली डिजिटाइज्ड विज्ञापन फर्म शुरू करने वाले दीपक अग्रवाल

26th Sep 2017
Add to
Shares
1.9k
Comments
Share This
Add to
Shares
1.9k
Comments
Share

वह 23 लोगों को रोजगार देते हैं और ग्राहकों की उनकी लंबी सूची में पिज्जा हट, केएफसी, शॉपर्स स्टॉप, टेक महिंद्रा, टाटा मोटर्स और एशियाई पेंट्स जैसे प्रतिष्ठित नाम शामिल हैं।

दीपक अग्रवाल (फोटो साभार- द वीकेंड लीडर)

दीपक अग्रवाल (फोटो साभार- द वीकेंड लीडर)


उन्होंने सातवीं कक्षा तक चंद्रबाबानी मेमोरियल हाई स्कूल में पढ़ाई की उसके बाद उन्होंने 10 वीं कक्षा तक नोपनी हाई स्कूल में अपना अध्ययन कार्य किया।

 वो समझाना चाहते थे कि कंपनी जितना पैसा मैनुअल एडवर्टाइजिंग में खर्च करती है उतना वो उसको डिजिटाइज करने में लगाए तो बड़ा फायदा होगा। क्योंकि यह न केवल मौजूदा ग्राहकों को जगह में रखने में मदद करता है बल्कि उनके व्यापार के अवसरों को भी बढ़ाया है।

एक मध्यवर्गीय परिवार से आने वाले किसी भी शख्स का सपना क्या होता है? यही न कि एक अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के बाद मोटी रकम वाली सम्मानजनक नौकरी मिल जाए। लेकिन दीपक अग्रवाल अपनी इस 9 से 5 वाली और मौटे वेतन वाली नौकरी से संतुष्ट नहीं थे। एक दिन उन्होंने अपने कंफर्ट क्षेत्र से बाहर निकलने का फैसला किया और अपना खुद का उद्यम शुरू किया। और सिर्फ चार वर्षों में, कोलकाता में उनकी डिजिटल मीडिया कंपनी के करीब 3,000 ग्राहक हैं। अगले वित्त वर्ष में इसका कारोबार 10 करोड़ रुपये से अधिक हो जाएगा। 31 जनवरी, 2013 को दीपक ने वन एक्स सॉल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड को अपने बचत से करीब एक लाख रुपये के निवेश के साथ लॉन्च किया। आज उनका सुव्यवस्थित कार्यालय कोलकाता के प्रतिष्ठित लाल बाजार के पास है। वह 23 लोगों को रोजगार देते हैं और ग्राहकों की उनकी लंबी सूची में पिज्जा हट, केएफसी, शॉपर्स स्टॉप, टेक महिंद्रा, टाटा मोटर्स और एशियाई पेंट्स जैसे प्रतिष्ठित नाम शामिल हैं।

अपना काम शुरू करने की धुन

13 जून, 1987 को कोलकाता में जन्मे दीपक अपने माता-पिता के तीन बच्चों में से सबसे बड़े हैं,। उनके एक छोटे भाई और बहन हैं। उनके पिता हरि किशन अग्रवाल एक दुकान चलाते थे। जहां घड़ियां और अन्य उपहार वस्तुएं बेची जाती थीं। उनके पिता का ये कारोबार काफी लाभप्रद अवस्था में चल रहा था। दीपक अपने उस आरामदायक जीवन के बारे में बताते हैं, दुकान से आमदनी हमारे हर तरह खर्चों को उठाने करने के लिए पर्याप्त थी लेकिन मैं हमेशा अपने लिए एक जगह बनाना चाहता था और मेरे पिता की सहायता करने भर से संतुष्ट नहीं था। उन्होंने सातवीं कक्षा तक चंद्रबाबानी मेमोरियल हाई स्कूल में पढ़ाई की उसके बाद उन्होंने 10 वीं कक्षा तक नोपनी हाई स्कूल में अपना अध्ययन कार्य किया।

अपने ऑफिस में दीपक

अपने ऑफिस में दीपक


दीपक के मुताबिक, मेरी स्नातक स्तर की पढ़ाई के साथ मैंने खुद को चार्टर्ड एकाउंटेंसी (सीए) और कंपनी सेक्रेटरी (सीएस) पाठ्यक्रमों के लिए एक साथ 2007 में नामांकित करवा लिया था।

दीपक के मुताबिक, मेरे स्कूल के दिनों के दौरान मैंने एक अखबार के साथ एक फ्रीलान्स पत्रकार के रूप में भी काम किया। मैं अलग-अलग व्यक्तित्वों मिलता था और उन्हें साक्षात्कार करता था। मुझे अभी याद है कि लालू प्रसाद यादव और सीताराम येचुरी जैसे राजनीतिक दिग्गजों से मुलाकात काफी उत्साहवर्धक थी। यद्यपि मेरे काम के लिए मुझे भुगतान नहीं किया गया था, लेकिन इस काम से मुझे अपने संचार कौशल को बढ़ाने में मदद मिली। उन्होंने स्कूल की बहस में हमेशा सक्रिय भाग लिया। 2007 में उन्होंने सेंट जेवियर्स के कॉलेज में प्रवेश लिया और 2010 में वाणिज्य में अपनी स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी की। दीपक के मुताबिक, मेरी स्नातक स्तर की पढ़ाई के साथ मैंने खुद को चार्टर्ड एकाउंटेंसी (सीए) और कंपनी सेक्रेटरी (सीएस)  पाठ्यक्रमों के लिए एक साथ 2007 में नामांकित करवा लिया था।

मार्च 2010 में उन्हें 18500 के मासिक वेतन के साथ अर्न्स्ट एंड यंग के साथ एक प्रशिक्षु के रूप में पहली नौकरी मिल गई। मैंने दिल्ली में एक वर्ष के लिए एक प्रशिक्षु के रूप में काम किया और फिर मुझे जून 2011 में कोलकाता वापस स्थानांतरित कर दिया गया। मैंने दिसंबर 2012 में पद छोड़ने का निर्णय लेने से पहले कोलकाता कार्यालय में काम करना जारी रखा। तब तक उद्यमशीलता के बीज ने पहले ही अपने मन में अंकुरण शुरू कर दिया था। मेरे परिवार के बारे में अच्छी बात यह थी कि उन्होंने मुझे कुछ भी करने के लिए दबाव नहीं डाला।मेरे कॉलेज के दिनों में मैं अक्सर अपने पिता को अपनी दुकान में सहायता करता था लेकिन उन्होंने मुझे अपने व्यवसाय में शामिल होने के लिए मजबूर नहीं किया।

खुद पर भरोसा होता सफलता की पहली सीढ़ी

दीपक ने अपनी 70 हजार वेतन वाली नौकरी छोड़ दी। दीपक के मुताबिक, तब मेरे परिवालों को थोड़ी चिंता सताने लगी। उन्हें लग रहा था कि कहीं मैं जल्दबाजी में तो ये निर्णय नहीं ले रहा। वे मेरे भविष्य के बारे में संदेह कर रहे थे। लेकिन मैं अपने आप में दृढ़ता से विश्वास करता रहा। हर किसी ने सोचा कि मैं पागल हो गया था क्योंकि मैं एक जोखिम भरा व्यवसाय में उतरने के लिए एक कड़ी मेहनत से काम चला रहा हूं। लेकिन अच्छी बात ये थी कि दीपक का स्टार्टअप आइडिया बहुत ही बेहतरीन था, बिल्कुल आउट ऑफ द बॉक्स। वह संभावित ग्राहकों के पास गए और उन्हें समझाया कि कैसे अपने डेटाबेस में किसी भी कंपनी के लिए कॉन्टैक्ट नंबरों और ईमेल को दर्ज कराते रहना महत्वपूर्ण है। उनका आइडिया बिल्कुल ही सिंपल सा था। वो समझाना चाहते थे कि कंपनी जितना पैसा मैनुअल एडवर्टाइजिंग में खर्च करती है उतना वो उसको डिजिटाइज करने में लगाए तो बड़ा फायदा होगा। क्योंकि यह न केवल मौजूदा ग्राहकों को जगह में रखने में मदद करता है बल्कि उनके व्यापार के अवसरों को भी बढ़ाया है।

अपनी वाइफ और कर्मचारियों के साथ दीपक (फोटो साभार- द वीकेंड लीडर)

अपनी वाइफ और कर्मचारियों के साथ दीपक (फोटो साभार- द वीकेंड लीडर)


दीपक के मुताबिक, मेरी कंपनी बल्क शॉर्ट मेसेज सर्विस (एसएमएस) व्यवसाय में काम करती है। जो दो प्रकार के होते हैं ट्रांसेक्शनल और प्रमोशनल संदेश। लेनदेन या गैर-प्रचारक संदेश हैं जिन्हें उत्पाद या सेवा के उपयोग के लिए जरूरी जानकारी देने के लिए हर ग्राहक को भेजा जाता है। ट्रांजैक्शनल संदेशों में बैंक द्वारा एक खाता धारक को उनके उपलब्ध खाता बैलेंस के बारे में या एक ग्राहक द्वारा भेजे गए संदेश के बारे में एक संदेश भेजा जाता है जिसमें एक ऑनलाइन लेनदेन करने के बाद इनवॉइस राशि के संबंध में कोई संदेश शामिल होता है। उन्होंने घर से व्यापार शुरू किया। 1 लाख रुपए इंवेस्ट किए, एक करोड़ एसएमएस भेजने के लिए बल्क एसएमएस खरीदने के लिए। दीपक के मुताबिक योजना को हमारे ग्राहकों के लिए हमारे ग्राहकों के लिए एक प्रीमियम पर एसएमएस भेजना था। शुरू में हमें ठंडे जवाब मिला लेकिन मुझे विश्वास था कि यह अवधारणा सफल होगी।

आखिरकार, बाद में 2013 में, एक शैक्षिक फर्म मुझे दो महीने से अधिक समय तक लगातार उनका पीछा करने के बाद एसएमएस के माध्यम से विज्ञापन का ऑर्डर दे दिया। एक बार जब ग्राहक मिल गए फिर दीपक का व्यवसाय तेजी से आगे बढ़ने लगा। पहले वर्ष में उनकी कंपनी ने लगभग 32 लाख के करीब 500 ग्राहकों का कारोबार दर्ज किया। दीपक के मुताबिक, हरेक ग्राहक ने हमें अन्य ग्राहकों के बारे में बात करना शुरू कर दिया। हमने हमेशा सबसे अच्छी, पारदर्शी सेवा दी, जो हमारे पक्ष में काम करती थी। दीपक की कंपनी 2017-18 के वित्तीय वर्ष में 10 करोड़ रुपये का कारोबार कर रही है। इस युवा उद्यमी के पास युवाओं के लिए सिर्फ एक सलाह है कि अपने सपने का पीछा करो और हार न दें। यदि आप इसके लिए जाने का फैसला करते हैं तो कुछ भी मुश्किल नहीं है।

 यह भी पढ़ें: चचेरे भाइयों ने मिलकर दादाजी की टेलरिंग की दुकान से बना ली 60 करोड़ की कंपनी

Add to
Shares
1.9k
Comments
Share This
Add to
Shares
1.9k
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें