संस्करणों

'Veooz', ख़बरों को पेश करने का अलग तरीका

लोगों के पास समय की कमी को देखते हुए दुनियाभर के समाचारों को लघु रूप में पेश कर रहे हैं माइक्रोसाॅफ्ट के पूर्व एमडी श्रीनी कोप्पोलू के अलावा आईआईटी हैदराबाद के वासुदेव वर्मा और डा. प्रसाद पिंगली के दिमाग ही उपज है यह स्टार्टअपदुनियाभर के समाचारों को एकत्रित कर विभिन्न भाााओ में करता है प्रस्तुत

18th Aug 2015
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share

वर्तमान में डिजिटल दुनिया में उपलब्ध सामग्री की संख्या में दिनोंदिन आशातीत वृद्धि होती जा रही है और समय के साथ छोटे प्रारूप में सामग्री की मांग भी तेजी के साथ बढ़ती जा रही है और ऐसे में ‘इन शाॅर्टस’ और ‘वे2न्यूज़’ जैसे भारतीय ब्रांड बहुत तेजी से इस दुनिया में उभरते हुए हलचल पैदा करने में कामयाब हो रहे हैं। अंतिम उपयोगकर्ता तक पढ़ने में आसान स्वरूप में समाचार सामग्री उपलब्ध करवाने की इस दुनिया में स्थापित होने के लिये एक और नवप्रवेशी Veooz (व्यूज़) धीरे-धीरे अपने कदम आगे बढ़ा रहा है।

माइक्रोसाॅफ्ट इंडिया के पूर्व एमडी श्रीनी कोप्पोलू, आईआईटी हैदराबाद के अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) के पूर्व डीन और पूर्व प्रोफेसर वासुदेव वर्मा और सर्च, मशीन लर्निंग और न्यूरो-लिंग्विस्टिक प्रोग्रामिंग (एनएलपी) के विशेषज्ञ डा. प्रसाद पिंगली द्वारा स्थापित यह पोर्टल दुनियाभर के विभिन्न भागों के समाचारों को अलग-अलग भाषाओं में प्रस्तुत करने का दावा करता है।

माइक्रोसाॅफ्ट के साथ 21 वर्षों तक काम करने और कई स्टार्टअप्स में निवेश करने के बाद श्रीनी - प्रसाद और वासुदेव द्वारा विकसित किये गए इस मंच के संपर्क में आए और उन्हें इसका अहसास हो गया था कि उन्हें इस टीम का एक हिस्सा बनना होगा। श्रीनी कहते हैं, ‘‘विभिन्न समाचार मंचों और सोशल मीडिया द्वारा दैनिक आधार पर काफी वृहद डाटा का उत्पादन किया जा रहा है। हमारा इरादा वृहद सूचनाओं के इस सागर के माध्यम से ऐसी कहानियों का एक सेट तैयार करने का था जो हमारे उपयोगकर्ताओं के लिये उनके जीवन के विभिन्न क्षेत्रों में प्रासंगिक हों।’’

image


इस मंच की कार्यप्रणाली

श्रीनी बताते हैं कि इसमें एल्गोरिद्म्स और ह्यूरिस्टिक्स का प्रयोग किया गया है जो सामग्री और डाटा के एक विशाल बैंक को पढ़ने के साथ ही प्रोसेस करता है। इसके बाद इस डाटा को समाचारों की विभिन्न श्रेणियों के हिसाब से पृथक करते हुए अग्रिम प्रोसेसिंग की जाती है जिसके बाद अंतिम उपयोगकर्ता इससे सूाचार फीड के रूप में रूबरू होता है। इसके बाद एल्गोरिद्म बहुत ही समझदारी से यह पता लगाती हैं कि उपभोक्ता नियमित आधार पर क्या पढ़ना पसंद कर रहे हैं और फिर उसी आधार पर एक डाटा तैयार करते हैं जिससे यह मालूम होता है कि विभिन्न स्थानों के पाठक क्या पढ़ना पसंद करते हैं।

इसके अलावा यह मंच अपने उपयोगकर्ताओं को उनकी उपयुक्तता या सहूलियत के आधार पर समाचारों से रूबरू होने की आजादी भी देता है। उपयोगकर्ता चाहे तो सिर्फ सुर्खियों से रूबरू हो सकता है और खबरों का सारांश पढ़ने के अलावा अगर वह चाहे तो पूरी कहानियां भी पढ़ सकता है।इसके अलावा यह मंच गहराई से कवरेज देने के उद्देश्य से जहां तक संभव हो तस्वीरों और वीडियो की भी सहायता लेता है। एक उपयोगकर्ता अपनी पसंद के विषयों का चुनाव कर सकता है और फिर उसकी उस पसंद के आधार पर उसे रियल-टाइम समाचारों से संबंधित सामग्री उपलब्ध होती है।

चुनौतियां

श्रीनी के अनुसार उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती इतनी जटिलताओं से भरे एक मंच को उपयोगकर्ता के अंत तक सुचारू रूप से संचालित होने वाले मंच के रूप में स्थापित करने में आई। वे बताते हैं, ‘‘तकनीक के विभिन्न पहलुओं को एक साथ काम करने लायक बनाना और वह भी वास्तविक समय में वास्तव में एक चुनौतीपूर्ण काम था। कई बार डाटा की मात्रा और उसकी जटिलता इतनी अधिक बढ़ जाती थी कि हमारा दिमाग भी घूम जाता था।’’

इस टीम ने अंतिम उत्पाद को उपयोगकर्ताओं के लिये उतारने से पहले बीटा चरणों के दौरान विभिन्न प्रकार की पुनरावृत्तियों का सहारा लिया।

बाजार

आज की व्यस्त दिनचर्या में जब लोगों के पास सीमित समय है और उनके पास ध्यान देने के लिये अपेक्षाकृत कम अवधि है ऐसे में छोटे प्रारूप में उपलब्ध करवाए जाने वाली सामग्री की मांग लगातार बढ़ती जा रही है। वैश्विक स्तर पर Circa और् Zite इस प्रारूम में खासे लोकप्रिय हैं। हालांकि सिरका ने 5.7 मिनियन अमरीकी डाॅलर का निवेश पाने में सफलता प्राप्त की लेकिन इस वर्ष के प्रारंभ से इसका संचालन बंद पड़ा है। भारत में इन शाॅर्टस और वे2न्यूज़ कुछ प्रचलित और सफल मंच हैं।

इस वर्ष आगे चलकर इनका इरादा निवेश के माध्यम से धन जुटाने का है। इससे पहले यह टीम अपने मंच को और अधिक विकसित करने के क्रम में लगा हुआ है। इसके अलावा कुछ और लोकप्रिय होने के बाद इनका इरादा विज्ञापन पर आधारित एक राजस्व माॅडल को भी अपनाने का है।

वेबसाइट

Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags