संस्करणों
विविध

देश के हर बच्चे को मिले उसका अधिकार, यही है CRY का प्रथम विचार

2nd Nov 2017
Add to
Shares
137
Comments
Share This
Add to
Shares
137
Comments
Share

भारत में 18 साल से कम उम्र के 444 मिलियन बच्चे हैं। यह देश की कुल आबादी का 37% हिस्सा है। जनगणना 2011 के अनुसार, हमारे देश में स्कूल जाने वाली उम्र के 4 बच्चों में से 1 स्कूल से बाहर है। कुल में 99 मिलियन बच्चे स्कूल से बाहर निकल गए हैं। डीआईएसई 2014-15 की रिपोर्ट के मुताबिक, हर 100 बच्चों में से केवल 32 बच्चे ही स्कूल की शिक्षा पूरी कर पाते हैं।

साभार: CRY की वेबसाइट

साभार: CRY की वेबसाइट


डीआईएसई 2014-15 की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूलों में से केवल 2% पूर्ण कक्षा 1 से 12 कक्षा तक की शिक्षा प्रदान करते हैं। जनगणना 2011 के मुताबिक, भारत में 1.4 करोड़ बाल श्रमिक 7-14 साल के आयु वर्ग में अपने नाम नहीं लिख सकते। इसका मतलब है, उक्त आयु वर्ग के तीन बाल मजदूरों में से एक अनपढ़ है।

कई संस्थाएं, कई सुधी लोग इस स्थिति को सुधारने के लिए प्रयासरत हैं। इन्हीं में से एक संस्था है, CRY। ज़रूरतमंद बच्चे, जहां कहीं भी वह भारत में है, के बीच की कड़ी है CRY। और आप, जहां कहीं भी हो, CRY अपनी पहुंच वहां तक बनाने के लिए प्रयासरत है।CRY को आधिकारिक तौर पर 28 जनवरी, 1979 को भारत के सार्वजनिक ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पंजीकरण संख्या- F5208) पर पंजीकृत किया गया था।

भारत में 18 साल से कम उम्र के 444 मिलियन बच्चे हैं। यह देश की कुल आबादी का 37% हिस्सा है। जनगणना 2011 के अनुसार, हमारे देश में स्कूल जाने वाली उम्र के 4 बच्चों में से 1 स्कूल से बाहर है। कुल में 99 मिलियन बच्चे स्कूल से बाहर निकल गए हैं। डीआईएसई 2014-15 की रिपोर्ट के मुताबिक, हर 100 बच्चों में से केवल 32 बच्चे ही स्कूल की शिक्षा पूरी कर पाते हैं। डीआईएसई 2014-15 की रिपोर्ट के मुताबिक, स्कूलों में से केवल 2% पूर्ण कक्षा 1 से 12 कक्षा तक की शिक्षा प्रदान करते हैं। जनगणना 2011 के मुताबिक, भारत में 1.4 करोड़ बाल श्रमिक 7-14 साल के आयु वर्ग में अपने नाम नहीं लिख सकते। इसका मतलब है, उक्त आयु वर्ग के तीन बाल मजदूरों में से एक अनपढ़ है।

और भी चौंकाने वाले और दुखद आंकड़े हैं, 44% से कम अपने पूर्ण टीकाकरण प्राप्त कर पाते हैं और इसलिए बुनियादी, आसानी से रोकथाम के रोगों से असुरक्षित छोड़ दिया जाता है। 43% बच्चों की उम्र 70% से कम है। इसलिए इन बच्चों को विभिन्न स्वास्थ्य जटिलताओं के लिए उच्च जोखिम पर हैं। 50% से कम मां अपनी गर्भधारण के दौरान और जन्म देने के तुरंत बाद उचित देखभाल प्राप्त करते हैं। 7 मिलियन बच्चे एक महीने तक पूरा करने से पहले हर साल मर जाते हैं। ये सारे आंकड़ें, तथ्य किसी को भी हिलाकर रख सकते हैं। हम एक स्वस्थ विकसित देश की कल्पना कर ही कैसे सकते हैं जब कल के भविष्य ये बच्चे मूलभूत सुविधाओं, आवश्यकताओं के अभाव में दम तोड़ रहे हैं, बीमार पड़ रहे हैं या बालश्रम का शिकार हो रहे हैं।

साभार: CRY की वेबसाइट

साभार: CRY की वेबसाइट


ग्रामीण इलाकों में ज्यादातर रिहायशी इलाकों में पास में कोई विद्यालय नहीं हैं। गांव का विद्यालय अभी बहुत दूर है। माता-पिता उनकी सुरक्षा के लिए चिंतित हैं, अकेले ही दूरी की यात्रा के जोखिम से दूर रखने के लिए घर पर रहने को बोलते हैं। इसके अलावा, मानसून के दौरान सड़कों पर अक्सर बाढ़ आती है और इसलिए बच्चे स्कूल की यात्रा नहीं कर सकते। परिवारों को घोर गरीबी का सामना करना पड़ता है, ऐसे में माता-पिता अक्सर अपने बच्चों को काम करने के लिए देते हैं। यहां उन्हें श्रम के लिए बाध्य किया जाता है, जहां से उनके कभी भी स्वतंत्र होने की कोई उम्मीद नहीं है। कई बच्चे अपने गांवों में उचित नौकरी या रोजगार की कमी के कारण इस उम्र में अपने परिवार के साथ पलायन करना शुरू कर देते हैं।

कुछ परिवार जो अपने बच्चों को स्कूल में भेज सकते हैं, वो अपने पुत्रों का समर्थन करते हैं, जिससे कि लड़कियों को घर पर रहना पड़ता है, जबकि उनके भाई स्कूल जाते हैं। लड़के और लड़कियों के लिए अलग-अलग शौचालयों की कमी होना, लड़कियों को स्कूल छोड़ने के लिए प्रमुख कारणों में से एक है। अपने साथी सहपाठियों और शिक्षकों के साथ शौचालय साझा करने की असुविधा अक्सर उन्हें पूरी तरह स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर करती है। भारत में, परिवार सामान्य तरीकों से रहते हैं और उनके बच्चे की शिक्षा एक प्राथमिकता नहीं है। शादी के लिए बच्चों को स्कूल छोड़ने के लिए मजबूर किया जाता है।

कई संस्थाएं, कई सुधी लोग इस स्थिति को सुधारने के लिए प्रयासरत हैं। इन्हीं में से एक संस्था है, CRY। ज़रूरतमंद बच्चे, जहां कहीं भी वह भारत में है, के बीच की कड़ी है CRY। और आप, जहां कहीं भी हो, CRY अपनी पहुंच वहां तक बनाने के लिए प्रयासरत है।CRY को आधिकारिक तौर पर 28 जनवरी, 1979 को भारत के सार्वजनिक ट्रस्ट ऑफ इंडिया (पंजीकरण संख्या- F5208) पर पंजीकृत किया गया था। इस संस्था की वेबसाइट के मुताबिक, बच्चों की अन्यायपूर्ण स्थिति के प्रति हम हर दिन देखते हैं। सबसे अमानवीय परिस्थितियों में रह रहे बच्चे, जीवन के सबसे बुनियादी साधनों से वंचित हैं। हमारे शहर की सड़कों पर बेघर रहने वाले बच्चे दिन में 10 घंटे काम कर रहे होते हैं, जहां मकान मालिकों के लिए वो बंधुआ संपत्ति होते हैं। इन बच्चों को पता नहीं है कि बचपन क्या होता है। CRY मुख्य रूप से एक बच्चे के जीवन की गरिमा को पुनर्स्थापित करने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि वह उसे विकसित करने और विकसित करने के हर अवसर मुहैया करा सकें।

साभार: CRY की वेबसाइट

साभार: CRY की वेबसाइट


CRY के प्रतिनिधि ने योरस्टोरी से बातचीत में बताया, CRY चाइल्ड राइट्स और आप के लिए है। हम केवल अस्थायी राहत के बारे में बात नहीं करते हैं, या केवल सहानुभूति बटोरने, मिठाई, कंबल खरीदकर बच्चों को दे देने तक ही हाम सीमित नहीं रहते। हम भारत में 23 राज्यों में बच्चों, उनके परिवारों और समुदायों के साथ काम करने के 38 वर्षों से प्रतिबद्ध हैं। हमने पाया है कि बच्चों के जीवन में स्थायी परिवर्तन केवल तभी संभव है, जब हम मूल कारणों से निपटते हैं। जो कारण हमारे बच्चों को अशिक्षित और भूखे रहने मजबूर करते हैं। हम मानते हैं कि सभी बच्चे समान हैं, भारत के संविधान में उन्हें समान अधिकार दिए गए हैं। 

कुल 138 मिलियन युवा बच्चों में से जो भारत में रहते हैं, उनका एक एक विशाल बहुमत ऐसा है जिन तक एक स्वस्थ बचपन के लिए आवश्यक बुनियादी बातों तक भी पहुंच नहीं है। हम बच्चों के अधिकारों के लिए लड़ने में विश्वास करते हैं। हम बाल अधिकारों के बारे में बात करते हैं। एक स्वस्थ बचपन हर बच्चे के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। 0-5 साल के बीच शुरुआती जीवन में बच्चों के स्वास्थ्य की उचित देखभाल, टीकाकरण और पोषण तक उनकी पहुंच हमारी प्रॉयरिटी लिस्ट में पहले नंबर पर है। 

ये भी पढ़ें: IIT कानपुर ने डेवलप की कंडक्टिव इंक, तकनीक को मिलेगा बढ़ावा

Add to
Shares
137
Comments
Share This
Add to
Shares
137
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें