संस्करणों
विविध

क्यों ज़रूरी हैं गणेश चतुर्थी मनाना

yourstory हिन्दी
25th Aug 2017
Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share

भारत एक ऐसा देश है, जहां कई तरह के त्योहारों को महत्तव दिया जाता है। यहां के लोग त्योहारों के बहाने ही खुश होने की कोशिश करते हैं। उन्हीं त्योहारों में से एक है गणेश चतुर्थी, जिसे 10 दिनों तक बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है और उसके बाद मूर्ति विसर्जन कर सभी अपने घरों को इस कामना के साथ अपने घरों को लौट जाते हैं, कि "अगले बरस तू फिर आना..." इस त्योहार को दो और नामों से जाना जाता है गणेशोत्सव और विनायक चतुर्थी। आईये जानें कई बेहतरीन तस्वीरों के साथ इस त्यौहार का महत्व...

image


भारत एक ऐसा देश है जहां भगवान गणेश के जन्मदिन को उनके भक्त बेहद उत्साह के साथ मनाते हैं और मनाएं भी क्यों नहीं, किसी भी पूजा के शुरू होने पर सबसे पहले इन्हें ही तो पूजा जाता है

गणेश चतुर्थी बहुत शुभ त्योहार माना जाता है, जिसे महाराष्ट्र, गोवा, केरल और तमिलनाडु सहित कई राज्यों में काफी ज़ोर-शोर के साथ मनाया जाता है। सबसे अच्छी बात है, कि इस त्योहार को लगभग सभी धर्मों के लोग मनाते हैं। गणेश चतुर्थी के मनाने के पीछे कई तरह की कहानियां हैं, जिसमें गणेश के माता-पिता (पार्वती और भगवान शिव) के साथ उनकी कहानी सबसे ज्यादा सुनने को मिल जाती है। ऐसा कहा जाता है, कि पार्वती ने अपने शरीर के मैल से गणेश को बनाया था। 

एक बार जब माता पार्वति स्नान करने जा रही थीं, तो उन्होंने गणेश को कहा कि जब तक वो स्नान करके वापिस न आयें, तब तक वो (गणेश) दरवाजे पर पहरा देते रहें और कोई भी भीतर आने न पाये, लेकिन इस बीच भगवान शिव वहां पहुंच गये। गणेश शिव को अंदर जाने से रोकने लगे। दोनों के बीच काफी झगड़ा हुआ और गुस्से में आकर भगवान शंकर ने बालक गणेश के सिर को उनके धड़ से अलग कर दिया। यह सब देख कर पार्वती को काफी गुस्सा आया।

image


अपनी गलती का प्रायश्चित करते हुए भगवान शिव ने पार्वती से ये वादा किया कि उन्होंने गणेश को खतम किया है वो ही उन्हें नया जीवन देंगे। भगवान शंकर ने अपने लोगों को कहा कि उस बच्चे का सिर लेकर आना जो अपनी मां की पीठ के पीछे सो रहा हो। लोगों ने बहुत ढूंढा किसी इंसान का सिर नहीं मिला, लेकिन अंत में देखा कि एक हाथी का बच्चा अपनी मां की पीठ के पीछे सोया हुआ है और उसी का सिर वे लोग लेकर भगवान शंकर के पास पहुंच गये। 

भगवान शंकर ने हाथी के उस सिर को गणेश के धड़ से जोड़ कर उन्हें नया जीवनदान दिया, जिसके बाद लोग गणेश को गजानन भी कहने लगे।

आयें पढ़ें, कुछ खूबसूरत तस्वीरों के माध्यम से गणेश चतुर्थी के विषय में और भी बहुत कुछ...

image


गणेश चतुर्थी को गणेशोत्सव और विनायक चतुर्थी भी कहते हैं। इस साल यह त्योहार 25 अगस्त से शुरू होकर 5 सितंबर तक चलेगा।

image


गणेश चतुर्थी का त्योहार आने से दो-तीन महीने पहले ही कारीगर भगवान गणेश की मिट्टी की मूर्तियां बनाना शुरू कर देते हैं। इन दिनों बाजारों में भगवान गणेश की अलग-अलग मुद्रा में बेहद ही सुंदर मूर्तियां मिलनी शुरू हो गई हैं, जो कि दुकानों की शोभा बढ़ा रही हैं।

image


भगवान गणेश खाने के बेहद शौकीन माने जाते हैं, इसलिए उन्हें कई तरह की मिठाईयां जैसे मोदक, गुड़ और नारियल जैसी चीज़े प्रसाद या भोग में चढ़ाये जाने की प्रथा है।

image


सबसे पहले मूर्ति स्थापना करने से पहले प्राणप्रतिष्ठा की प्रथा निभाई जाती है। इस अनुष्ठान के बाद शोडोषोपचार- भगवान को 16 तरह से श्रद्धांजलि दी जाती हैं।

image


बुधवार को भगवान गणेश की आराधना भी आपके लिए फलदायी होती है। हिंदू संस्कृति में भगवान गणेश का सर्वोपरि स्थान है। प्रत्येक मंगल कार्य को शुरू करने से पहले भगवान गणेश का आह्वान जरूरी है।

image


इस बार गणेश चतुर्थी पर 58 साल बाद विशेष संयोग बन रहा है। इस कारण इस बार गणेश चतुर्थी और भी अधिक खास हो गई है।

image


देवता भी अपने कार्यों को बिना किसी रुकावट के पूरा करने के लिए पहले गणेश जी का ध्यान करते हैं। शास्त्रों में भी भगवान गणेश की महत्ता का वर्णन किया गया है। बताया गया है कि एक बार भगवान शंकर त्रिपुरासुर का वध करने में असफल हो गए। असफलता पर महादेव ने विचार किया तो शिवजी को ज्ञात हुआ कि वे गणेशजी की अर्चना किए बगैर त्रिपुरासुर से युद्ध करने चले गए थे। इसके बाद शिवजी ने गणेश पूजन करके दोबारा त्रिपुरासुर पर प्रहार किया, तब उनका मनोरथ पूर्ण हुआ।

image


गणेश जी को सभी दुखों और परेशानियों को हरने वाला देवता बताया गया है और इसीलिए इन्हें विघ्नहर्ता भी कहा जाता है। गणेश उपासना से शनि समेत सभी ग्रह दोष दूर हो जाते हैं। गणेश चतुर्थी वाले दिन गणेश पूजन के लिए सुबह के समय स्नानादि से निवृत्त होकर सबसे पहले गणेश प्रतिमा को पूजा स्थल पर पूर्व या उत्तर दिशा की और मुख करके लाल रंग के आसन पर विराजमान करें।

image


गणपति विसर्जन के दौरान उनके भक्त ''गणपति बप्पा मोरया, पुग्चा वर्षा लोकर या" जिसका मतबल है गणपति बप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ।

पढ़ें: वो इनका चेहरा ही नहीं इनकी आत्मा भी जला देना चाहते थे लेकिन हार गए

Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें