बेंगलुरू में 'गायब' हो गए 3,338 कोरोना पॉज़िटिव मरीज़, प्रशासन के पास भी नहीं है उनका अता-पता

8 CLAPS
0

ये 'लापता' संक्रमित मरीज शहर में कुल कोरोना वायरस पॉज़िटिव मरीजों की संख्या का 7 प्रतिशत है।

(सांकेतिक चित्र)


देश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि देखी जा रही है। संक्रमण के मामलों में महाराष्ट्र, तमिलनाडु और दिल्ली के बाद कर्नाटक का नंबर आता है। कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में शुरुआत में तो संक्रमण के मामले नियंत्रित नज़र आ रहे थे, लेकिन बीते करीब डेढ़ महीने से यहाँ कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामलों में बेहद तेज़ उछाल देखने को मिली है।

बेंगलुरु में शनिवार शाम तक कोरोना वायरस संक्रमण के 43,502 मामले पाये गए थे, जिनमें 31,882 मामले अभी भी एक्टिव हैं। अब प्रशासन के सामने एक बड़ी परेशानी खड़ी हो गई क्योंकि बेंगलुरू में 3,338 कोरोना पॉज़िटिव मरीजों का कुछ अता-पता नहीं लग रहा है।

अधिकारियों ने यह जानकारी मीडिया के साथ साझा की है। ये लापता संक्रमित मरीज शहर में कुल कोरोना वायरस पॉज़िटिव मरीजों की संख्या का 7 प्रतिशत है।



बेंगलुरु महानगर पालिका के कमिश्नर एन मंजुनाथ प्रसाद ने कहा, "हम पुलिस की मदद से कुछ पॉज़िटिव रोगियों का पता लगा सकते हैं, लेकिन 3,338 अभी भी अनट्रैकेबल हैं। उनमें से कई ने नमूने देने के समय गलत मोबाइल नंबर और पता उपलब्ध कराया है।"

अधिकारियों का कहना है कि उनके पास उन मरीजों की गतिविधि को ट्रैक करने का कोई साधन नहीं है। उनके नमूनों के सकारात्मक परीक्षण के बाद खुद को क्वारंटाइन किया है या नहीं, ये अभी किसी को नहीं मालूम है।

हालांकि उप मुख्यमंत्री डॉ. अश्वत नारायण ने कहा, "हमें यह सुनिश्चित करना होगा कि सभी संक्रमित मरीजों का पता लगाया जाए और उन्हें क्वारंटाइन किया जाए। हमने इसे प्राथमिकता दी है ताकि उनका पता लगाया जा सके और उन्हें आइसोलेट किया जा सके।"

गौरतलब है कि कर्नाटक राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की करीब आधी संख्या बेंगलुरू से ही है।