संस्करणों

पेटीएम पर दैनिक खरीद का आंकड़ा 120 करोड़ पहुंचा

नोटबंदी के बाद डिजिटल मोबाइल भुगतान सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी पेटीएम से रोजाना 70 लाख सौदे होने लगे हैं, जिनका मूल्य करीब 120 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

21st Nov 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 500 और 1000 रूपये के नोटों के बंद होने के बाद लोगों ने गैर-नकदी लेन-देन की ओर रूख कर लिया है और अधिकतर भुगतान मोबाइल द्वारा कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद डिजिटल मोबाइल भुगतान सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी पेटीएम से रोजाना 70 लाख सौदे होने लगे हैं, जिनका मूल्य करीब 120 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है।

image


सौदों में आई भारी तेजी से कंपनी को अपने पांच अरब डॉलर मूल्य की सकल उत्पाद बिक्री (जीएमवी) लक्ष्य को तय समय से चार महीने पहले ही प्राप्त कर लिया है। जीएमवी ऑनलाइन क्षेत्र में कार्य करने वाली कंपनियों के कारोबार को मापने का पैमाना है। इसका मतलब किसी ऑनलाइन मंच से बेची जाने वाली वस्तुओं का सकल मूल्य से है।

पिछले साल पेटीएम का जीएमवी तीन अरब डॉलर था।

पेटीएम में चीन के अलीबाबा समूह की बड़ी हिस्सेदारी है। यह कंपनी लोगों को मोबाइल वॉलेट पर लेन-देन के साथ ही अपने मंच पर ई-वाणिज्य की सेवा भी मुहैया कराती है। 

कंपनी ने कहा कि अभी उसके मंच पर रोजाना 70 लाख लेन-देन हो रहे हैं जिनकी कीमत करीब 120 करोड़ रपये तक पहुंच गई है। कंपनी के उपाध्यक्ष सुधांशु गुप्ता ने कहा, ‘पेटीएम पर एक दिन में करीब 120 करोड़ रुपये लागत के 70 लाख लेन-देन हो रहे हैं। इसमें देश के कई हिस्सों में लाखों ग्राहक और दुकानदार ऐसे हैं जो पेटीएम पर पहली बार लेन-देन कर रहे हैं।’ साथ ही उन्होंने यह भी कहा, कि कंपनी अभी भारत में डेबिट और क्रेडिट कार्ड के द्वारा रोजाना होने वाले औसत लेन-देन से ज्यादा लेन-देन कर रही है।

नोटबंदी के बाद पिछले दस दिनों में 4.5 करोड़ से ज्यादा लोगों ने पेटीएम की सेवा ली है, जिसमें से करीब 50 लाख नए उपयोक्ता हैं।

सुधांशु गुप्ता ने कहा, कि ‘कंपनी के कुल कारोबार में ऑफलाइन लेन-देन की हिस्सेदारी 65 प्रतिशत के ऊपर पहुंच गई है, जबकि छ: महीने पहले यह 15 प्रतिशत के करीब थी। हम अपने साथ जुड़े दुकानदारों की संख्या बढ़ाने पर भी काम कर रहे हैं। हम अपने नेटवर्क में डेढ़ लाख अतिरिक्त दुकानदारों को जोड़ेंगे।’ गुप्ता ने कहा कि कंपनी के मंच से बिकने वाले उत्पादों का कुल मूल्य (जीएमवी) पांच अरब डॉलर को पार कर गया है।

देशभर में किराना दुकानों, टैक्सी, ऑटोरिक्शा, रेस्तरां, कॉफी शॉप, सिनेमाघर और पा*++++++++++++++++++++++++++++र्*ंग इत्यादि के लिए 10 लाख से उपर लोग ऑफलाइन पेटीएम भुगतान सेवा का इस्तेमाल कर रहे हैं।

कंपनी ने ‘अपने ग्राहक को जानो’ :केवाईसी: नियमों से परिपूर्ण दुकानदारों के लिए पेटीएम से बैंक खाते में रपये को भेजने पर लिए जाने वाले एक प्रतिशत के शुल्क को भी माफ कर दिया है।

एसोचैम-आरएनसीओएस ने एक संयुक्त अध्ययन में कहा है कि देश में वित्तवर्ष 2021-22 तक मोबाइल वालेट से होने वाले लेन-देन की संख्या 153 अरब हो जाएगी जो वित्तवर्ष 2015-16 के तीन अरब लेन-देन के मुकाबले 90 प्रतिशत की सकल वृद्धि होगी।

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags