संस्करणों
विविध

180 की रफ्तार से दौड़ी भारत की स्वदेशी ट्रेन, बनाया नया रिकॉर्ड

3rd Dec 2018
Add to
Shares
300
Comments
Share This
Add to
Shares
300
Comments
Share

180 की स्पीड में चलते हुए भी इस ट्रेन में झटके नहीं लगते हैं। इससे पहले गतिमन एक्सप्रेस ही एकमात्र ऐसी ट्रेन थी जो भारत में सबसे तेज 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है।

ट्रेन 18

ट्रेन 18


इस ट्रेन का इंजन जिस कोच में लगा है उसमें बैठने के लिए भी 44 सीटें हैं। अक्टूबर महीने में रेल बोर्ड के चेयरमैन अश्विन लोहानी ने इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर फैक्ट्री से रवाना किया था।

मेक इन इंडिया के तहत देश में ही तैयार हुई सुपरस्पीड ट्रेन ने देश की सबसे तेज चलने वाली ट्रेन का कीर्तिमान बना लिया है। ट्रेन-18 के नाम से जानी जाने वाली बिना इंजन की यह ट्रेन अभी ट्रायल फेज में है। रविवार को रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्विटर पर एक वीडियो साझा करते हुए बताया कि 180 की स्पीड में चलते हुए भी इस ट्रेन में झटके नहीं लगते हैं। इससे पहले गतिमन एक्सप्रेस ही एकमात्र ऐसी ट्रेन थी जो भारत में सबसे तेज 160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ती है।

चेन्नई की इंटीग्रल कोच फैक्ट्री में तैयार इस ट्रेन-18 को बनाने में 100 करोड़ रुपये की लागत आई है। इसे स्वेदीश तकनीक से विकसित किया गया है। यह एक हाईटेक, ऊर्जा-कुशल, खुद से चलनेवाला या बिना इंजन के चलने वाली ट्रेन है। यानी इस ट्रेन का इंजन जिस कोच में लगा है उसमें बैठने के लिए भी 44 सीटें हैं। अक्टूबर महीने में रेल बोर्ड के चेयरमैन अश्विन लोहानी ने इस ट्रेन को हरी झंडी दिखाकर फैक्ट्री से रवाना किया था।

सफेद और नीले रंग की यह ट्रेन 220 किलोमीटर प्रति घंटे की अधिकतम स्पीड से दौड़ सकती है। हालांकि अभी भारतीय रेलवे ट्रैक उस काबिल नहीं हैं। इससे पहले भी टैल्गो नाम की ट्रेन ने भारत में 180 किलोमीटर की तेजी से ट्रैक पर दौड़ लगाई थी, लेकिन उसका निर्माण स्पेन में हुआ था। अभी जिस ट्रेन की अधिकतम गति है वह गतिमान एक्सप्रेस दिल्ली से झांसी से बीच का सफर करती है।

सिर्फ 18 महीनों में बनकर तैयार 'ट्रेन 18' का ट्रायल सबसे पहले मुरादाबाद-सहारनपुर सेक्शन पर किया गया। अब इसका ट्रायल दिल्ली-मुंबई राजधानी रूट पर किया जा रहा है। शनिवार को ट्रायल के दौरान ट्रेन 170 किलोमीटर प्रति घंटे के स्पीड से दौड़ी, जबकि रविवार को इसने नया रेकॉर्ड बनाया। रेलमंत्री पीयूष गोयल ने एक विडियो शेयर करके बताया है कि इतनी स्पीड में भी ट्रेन में झटके नहीं लग रहे हैं। विडियो में पानी के बोतलों को दिखाया गया है, जो काफी स्थिर हैं। उन्होंने लिखा, 'जोर स्पीड का झटका धीरे से लगा।'

यह भी पढ़ें: 14 साल के बच्चे ने 14 लाख जुटाकर 300 बेसहारों को बांटे कृत्रिम पैर

Add to
Shares
300
Comments
Share This
Add to
Shares
300
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags