संस्करणों
विविध

मेहमानों के न्यौते से कपल्स के गिफ़्ट तक, सारे काम कर देगा यह वेडिंग प्लानिंग ऐप

दो लड़कियों ने मिलकर शुरू किया एक ऐसा मोबाइल ऐप, जो शादी से जुड़ी सभी तरह की ज़रूरतों और समस्याओं को करेगा चुटकियों में हल...

yourstory हिन्दी
8th Mar 2018
Add to
Shares
8
Comments
Share This
Add to
Shares
8
Comments
Share

शादीलॉजी प्लेटफ़ॉर्म आपको वेडिंग स्टोर की सुविधा देता है, जहां पर आप गिफ्ट, कपड़ों और ज्वैलरी आदि की शॉपिंग कर सकते हैं। वेडिंग स्टोर की ख़ास बात यह है कि यहां पर आपको प्रोफ़ेशनल डिज़ाइनर्स के प्रोडकट्स उपलब्ध हो जाएंगे, जो ख़ासतौर पर आपकी ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन किए गए हैं।

शादीलॉजी की फाउंडर  आयशा झुनझुनवाला और वसुंधरा मंत्री

शादीलॉजी की फाउंडर  आयशा झुनझुनवाला और वसुंधरा मंत्री


 यह स्टार्टअप डिज़ाइनरों के साथ बिज़नेस-टू-बिज़नेस मॉडल पर काम करता है। इसमें कंपनी और डिज़ाइनरों के बीच कमिशन के आधार पर डील होती है। शादीलॉजी की टीम अपने लिए 'शादीलॉजिस्ट्स' टर्म का इस्तेमाल करती है। 

स्टार्टअप: शादीलॉजी

फाउंडर्स: आयशा झुनझुनवाला और वसुंधरा मंत्री

शुरूआत: 2016

जगह: कोलकाता

सेक्टर: ई-कॉमर्स/इवेंट मैनेजमेंट ऐप

सर्विसः वेडिंग प्लानिंग

फ़ंडिंगः बूटस्ट्रैप्ड

अक्टूबर 2016 में शुरू हुआ 'शादीलॉजी' ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म, वेडिंग शॉपिंग और प्लानिंग में मदद करता है। इसकी फ़ाउंडर्स आयशा (27 साल) और वसंधुरा (35 साल) को महसूस हुआ कि जब आपकी या आपके किसी करीबी की शादी होती है, तब इंतजामात करने में आप ठीक ढंग से मौके का मज़ा नहीं ले पाते और कई बार काम आपके मज़े को किरकिरा कर देते हैं। इस समस्या के समाधान के तौर पर 'शादीलॉजी' के आइडिया की शुरूआत हुई। शादीलॉजी एक मोबाइल और वेब ऐप है। जिसे आप एक ई-मार्केटप्लेस और इवेंट मैनेजमेंट ऐप के तौर पर समझ सकते हैं।

शादीलॉजी प्लेटफ़ॉर्म आपको वेडिंग स्टोर की सुविधा देता है, जहां पर आप गिफ्ट, कपड़ों और ज्वैलरी आदि की शॉपिंग कर सकते हैं। वेडिंग स्टोर की ख़ास बात यह है कि यहां पर आपको प्रोफ़ेशनल डिज़ाइनर्स के प्रोडकट्स उपलब्ध हो जाएंगे, जो ख़ासतौर पर आपकी ज़रूरतों को ध्यान में रखते हुए डिज़ाइन किए गए हैं। इतना ही नहीं आप डिज़ाइनरों से अपॉइंटमेंट भी ले सकते हैं।

आयशा बताती हैं कि इस सर्विस की मदद से सबसे ज़्यादा उपभोक्ता आकर्षित होते हैं। डिज़ाइनर से मुलाक़ात के लिए ग्राहक से डिपॉज़िट लिया जाता है। यह डिपॉज़िट या तो डिज़ाइनर के साथ होने वाली डील में अडजस्ट कर लिया जाता है या फिर उसे शादीलॉजी स्टोर के क्रेडिट सिस्टम में डाल दिया जाता है, जिसे ग्राहक 6 महीने के अंदर इस्तेमाल कर सकता है। इस ऐप की मदद से कपल्स और इवेंट प्लानर बड़े आराम से शादी की तैयारियां कर सकते हैं।

कस्टमाइज़ेशन की सुविधा की मदद से आप अपनी या अपने किसी दोस्त की शादी की ख़ास तैयारी ऐप पर ही कर सकते हैं। उदाहरण के तौर पर आप ऐप के माध्यम से ही मेहमानों को बुलावा भेज सकते हैं, कार्यक्रम की जानकारी भेज सकते हैं, मेहमान अपने आने-जाने की जानकारी शेयर कर सकते हैं, शादी के फोटोज़ और वीडियोज़ शेयर किए जा सकते हैं। ऐप की मदद से शादी में होने वाले कार्यक्रमों के नोटिफ़िकेशन्स भी भेजे जा सकते हैं। यह ऐप आईओएस और ऐंड्रॉयड, दोनों ही ऑपरेटिंग सिस्टमों पर मौजूद है।

शादीलॉजी ऐप

शादीलॉजी ऐप


लॉन्च के बाद से टीम कोलकाता और मुंबई जैसे बड़े शहरों के ऑफ़लाइन ऑर्डरों पर भी काम कर चुकी है। टीम ने इन शहरों में शादीलॉजी के डिज़ाइनर प्रोडक्ट्स की प्रदर्शनी लगाई और बिक्री भी की। वसंधुरा, 'गिफ़्ट रजिस्ट्री' को अपने प्लेटफ़ॉर्म का सबसे ख़ास फ़ीचर मानती हैं। वसुधंरा कहती हैं कि अक्सर लोग इस पशोपेश में होते हैं कि दुल्हा-दुल्हन को तोहफ़े में क्या दिया जाए? इस असमंजस को दूर करने में मदद करता है गिफ़्ट रजिस्ट्री का फ़ीचर। दरअसल, इसकी मदद से दुल्हा-दुल्हन अपने करीबियों के साथ अपने पर्सनल गिफ्ट्स की लिस्ट साझा कर सकते हैं और उसके बाद दोस्त या परिवार के लोग उसी हिसाब से गिफ़्ट ख़रीद सकते हैं।

इतना ही नहीं, ऐप के तहत आपको मिलने वाले मार्केटप्लेस से आपको अच्छे गिफ़्ट्स के विकल्प भी मिल जाएंगे। कपल को एक ही गिफ़्ट दोबारा न मिले, इसलिए ऐसे गिफ़्ट्स आपको दिखाए ही नहीं जाएंगे। यह स्टार्टअप डिज़ाइनरों के साथ बिज़नेस-टू-बिज़नेस मॉडल पर काम करता है। इसमें कंपनी और डिज़ाइनरों के बीच कमिशन के आधार पर डील होती है। शादीलॉजी की टीम अपने लिए 'शादीलॉजिस्ट्स' टर्म का इस्तेमाल करती है। इस टीम में स्टाइलिंग, मर्चेंडाइजिंग, इवेंट प्लानिंग, ग्राफ़िक्स आदि सेक्टर्स में काम कर चुके कुल 14 एक्सपर्ट लोग शामिल हैं। ख़ास बात यह है कि यह टीम युवाओं से भरी है क्योंकि टीम के सदस्यों की औसत आयु सिर्फ़ 27 साल ही है।

पढ़ें: IPS से IAS बनीं गरिमा सिंह ने अपनी सेविंग्स से चमका दिया जर्जर आंगनबाड़ी को

आयशा ने बतौर मनोवैज्ञानिक और काउंसलर अपने करियर की शुरूआत की थी। उन्होंने ऐस्टन यूनिवर्सिटी से मनोविज्ञान में मास्टर डिग्री ली है। इससे पहले उन्होंने नॉटिंघम यूनिवर्सिटी से अंडर-ग्रैजुएशन किया। शादीलॉजी में वह सभी ऑपरेशन्स की हेड हैं और बिज़नेस डिवेलपमेंट भी उन्हीं की निगरानी में होता है। शादीलॉजी की को-फाउंडर स्टार्टअप से पहले फ़ैशन ज्वैलरी डिज़ाइनर थी और उनका अपना ब्रैंड लेबल भी था। भारत के कई बड़े फ़ैशन वीक्स में भी वह हिस्सा ले चुकी हैं। मुंबई और कोलकाता में उनके ख़ुद के स्टोर्स के साथ-साथ पूरे भारत में कई मल्टी डिज़ाइनर स्टोर्स पर भी वसुंधरा की डिज़ाइन की हुई ज्वैलरी उपलब्ध है। कंपनी के फ़ाइनैंस और टेक डिवेलपमेंट को मैनेज करने की जिम्मेदारी आयशा के भाई अद्वै झुनझुनवाला (30 साल) की है।

वसुंधरा बताती हैं कि कंपनी के शुरूआती 6 महीने, नोटबंदी की वजह से बेहद संघर्षपूर्ण रहे। लेकिन उसके बाद से ग्राफ़ में बढ़ोतरी ही हुई है। उन्होंने बताया कि लगातार टायर-2 और टायर-3 शहरों से और ख़ासतौर पर एनआईआई तबके से अच्छी संख्या में यूज़र्स मिल रहे हैं। भारत में वेडिंग मार्केट 40 बिलियन डॉलर तक का है। इस इंडस्ट्री में पिछले कुछ समय में कई स्टार्टअप्स ने अपनी सर्विस शुरू की है। एंड-टू-एंड वेडिंग सर्विस के सेक्टर में, 7 वचन, बैंड बाजा, वेड मी गुड, शादी सागा, बॉलिवुड शादीज़, द वेडिंग ब्रिगेड जैसे कई प्लेटफ़ॉर्म्स काम कर रहे हैं।

वसुंधरा मानती हैं कि कस्टमाइज़ेशन की सुविधा उन्हें बाक़ी प्रतियोगियों से अलग करती है। उनका कहना है बाक़ी प्लेटफ़ॉर्म्स पर आपको सिर्फ वेडिंग सर्विसेज़ की लिस्ट मिलेगी, लेकिन शादीलॉजी पर आपको छोटी-छोटी ज़रूरत के साल्यूशन्स मिल जाएंगे। वेडिंग सर्विस के क्षेत्र में भी शॉदीलॉजी अपने कुछ पायलट प्रोजेक्ट्स लॉन्च कर चुका है।

यह भी पढ़ें: लोहे और मिट्टी के बर्तनों से पुरानी और स्वस्थ जीवनशैली को वापस ला रही हैं कोच्चि की ये दो महिलाएं

Add to
Shares
8
Comments
Share This
Add to
Shares
8
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें