संस्करणों
प्रेरणा

दिल्ली में सम-विषम योजना और पर्यावरण के लिए वरदान साबित हो सकते हैं 8वीं के छात्र 'अक्षत'

19th Dec 2015
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

दिल्ली के 13 साल के अक्षत ने तैयार किया वेबसाइट...

कार पूलिंग के लिए वेबसाइट...


जैसे-जैसे 1 जनवरी की तारीख नजदीक आ रही है वैसे-वैसे ही दिल्ली और एनसीआर के क्षेत्र में रहने वाला और दिल्ली में अपने काम के चलते वाहन से सफर करने वाला प्रत्येक व्यक्ति राज्य सरकार द्वारा नए वर्ष के पहले दिन से लागू की जाने वाली सम-विषम योजना का समाधान तलाशने में जुटे हैं। एक तरफ जहां लोग इस बात को लेकर चिंतित हैं कि वे समय पर अपने काम पर कैसे पहुंचेंगे ऐसे में नोएडा का 13 वर्षीय आठवीं कक्षा का एक छात्र अक्षत मित्तल कार पूलिंग की एक ऐसी अनोखी वेबसाइट के साथ सामने आया है जिसकी सहायता से दिल्ली में अपने वाहन से सफर करने वाले लोग बड़ी आसानी से इस सम-विषम योजना पर अमल करते हुए कार पूलिंग कर सकते हैं।

image


नोएडा के सेक्टर 44 स्थित एमिटी इंटरनेशनल स्कूल की आठवीं कक्षा के छात्र अक्षत ने 1 जनवरी 2016 से दिल्ली की सड़कों पर निकलने वाले वाहनों को लेकर लागू की जाने वाली सम-विषम योजना से निबटने के लिये www.odd-even.com नामक वेबसाइट तैयार की है। इस वेबसाइट की मदद से कोई भी व्यक्ति अपने आने-जाने की जानकारी साझा कर बड़ी आसानी से कारपूलिंग कर सकता है और पर्यावरण के संरक्षण की दिशा में अपना अमूल्य योगदान दे सकता है।

इस वेबसाइट को तैयार करने वाले अक्षत योरस्टोरी को बताते हैं, 

‘‘कुछ दिन पूर्व जब दिल्ली सरकार ने 1 जनवरी 2016 से राजधानी में चलने वाले वाहनों को लेकर सम-विषम योजना के अमल मे आने की घोषणा की तो उन्हें महसूस हुआ कि उनके घर में सिर्फ एक ही गाड़ी है जिसके चलते उनका सफर मुश्किल हो जाएगा। साथ ही उनके दिमाग में आया कि उनके जैसे कितने ही और लोग होंगे जो ऐसी ही समस्या का सामना करेंगे। इस योजना के अमल में आने से लोगों के सामने आने वाली दिक्कतों के बारे में सोचते हुए मैंने इस वेबसाइइट को तैयार किया।’’ 

अक्षत की तैयार की हुई यह वेबसाइट क्रियशील है और दिल्ली और एनसीआर के कई व्यक्ति इसका उपयोग भी कर रहे हैं।

image


इस वेबसाइट की कार्यप्रणाली के बारे में अक्षत योरस्टोरी को बताते हैं, 

‘‘इस वेबसाइट पर अपना पंजीकरण करवाने के साथ ही उपयोगकर्ता को अपना नाम, उम्र, मोबाइल नंबर और अगर उनके पास अपनी गाड़ी है, तो उसका पंजीकरण नंबर जैसी जानकारी भी फीड करनी होगी। इसके बाद आप एक ओर की यात्रा करना चाहते हैं या दोनों तरफ की यात्रा के लिए कार पूल करना चाहते हैं, इसका विकल्प चुनने का मौका आपके सामने होगा। इसके बाद उपभोक्ताओं को अपनी यात्रा की शुरुआत की जगह और गंतव्य के बारे में जानकारी फीड करनी होगी। उनकी दी गई इन जानकारियों के आधार पर वेबसाइट अन्य पंजीकृत उपभोक्ताओं में से उनके अनुकूल सहयात्री की तलाश करेगा और उनका मोबाइल नंबर इत्यादि स्क्रीन पर आ जाएगा। इसके बाद यात्री अपनी पसंद के सहयात्री से दिये गए मोबाइल नंबर पर बात कर अपनी यात्रा तय कर सकता है।’’ 

अक्षत का कहना है कि उनकी यह वेबसाइट प्रयोग में बहुत आसान है और कोई भी व्यक्ति बेहद आसानी से इसकी मदद से अपने लिये सहयात्री का चुनाव कर सकता है।

इसके अलावा इस वेबसाइट की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि सुरक्षा के मद्देनजर कार पूलिंग के लिए आप अपनी लैंगिक वरीयता भी चुन सकते हैं। जैसे अगर किसी महिला को कार पूलिंग में महिला सहयात्री चाहिए तो वह वेबसाइट पर यह विकल्प वरीयता चुन सकती है। अक्षत आगे बताते हैं, ‘‘आज के समय में विशेषकर महिलाओं के बीच सफर के दौरान सुरक्षा का मुद्दा बेहद अहम होता है। इसके चलते मैंने अपनी वेबसाइट में ऐसे आॅप्शन दिये हैं जिनसे कोई भी यात्री कारपूलिंग के लिये अपनी पसंद के यहयात्री का चुनाव कर सकता है। साथ ही इसकी और विशेषता यह है कि आप इसके माध्यम से सहयात्री को चुनते समय उसकी उम्र अपने इत्यादि के बारे में जानकारी भी पा सकते हैं।’’

अक्षत आगे बताते हैं, 

‘‘ यह वेबसाइट कई फिल्टरों का इस्तेमाल कर लोगों द्वारा दी गई जानकारी व वरीयता के मुताबिक एक ही जगह व रूट का इस्तेमाल करने वाले लोगों को आपस में जोड़ते हुए और लोगों को कार पूलिंग का बेहतर विकल्प देने की सहूलियत प्रदान करेगी। मैंने जो वेबसाइट बनाई है वह ऐल्गोरिदम के आधार पर काम करेगी। यह उम्र, लिंग, व्यवसाय और यात्रा करने के समय का ध्यान रखते हुए कारपूलिंग के विकल्प सुझाएगी।’’ 

एक बार वेबसाइट के सफल होने के बाद अक्षत का इरादा इसी से संबंधित एक मोबाइल ऐप भी तैयार करने का है।

image


अक्षत आगे कहते हैं कि प्रदूषण के चलते दिल्ली के स्थिति यह हो गई है कि सरकार को इस प्रकार का कड़ा निर्णय लेना पड़ा और इस योजना के चलते अब दिल्ली की सड़कों पर चलने वाली गाडि़यों की संख्याा घटकर आधी रह जाने का अनुमान है। ऐसे में अधिकांश लोगों को ऐसे सहयात्री खोजने होंगे जिनके साथ वे कारपूलिंग कर सकें और आसानी से अपने गंतव्य तक पहुंच सकें। अक्षत आगे कहते हैं, ‘‘ इस वेबसाइट की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह सम वाहन वाले दिन सिर्फ सम नंबर वाले वाहनों को ही कारपूलिंग के लिये उपलब्ध करवाएगी और विषम संख्या वाले दिन सिर्फ विषम नंबर वाले वाहनों को।’’

हालांकि अक्षत द्वारा तैयार की गई यह वेबसाइट सिर्फ 1 से 15 जनवरी तक इस योजना के प्रभावी रहने तक ही काम नहीं करेगी बल्कि दैनिक आधार पर सफरर करने वाले लोग कारपूलिंग के लिये इसका प्रयोग इसके बाद भी जारी रख सकते हैं। आज के समय में जब कारपूलिंग के विकल्प उपलब्ध करवाने वाली कई वेबसाइटें लोगों को अपनी ओर आकर्षित कर रही हैं वहीं सिर्फ 13 वर्ष के अक्षत द्वारा तैयार की गई यह वेबसाइट बहुत ही कम समय में दिल्ली आने-जाने वाले लोगों के बीच लोकप्रिय होने में सफल हो रही है। फिलहाल यह वेबसाइट लोगों को सिर्फ एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक कारपूलिंग की सुविधा प्रदान करवा रही है लेकिन निकट भविष्य में इनका इरादा इसमें और विस्तार करने का है।

वेबसाइट / फेसबुक

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें