संस्करणों
विविध

मेक इन इंडिया-2025 तक भारत बनेगा विनिर्माण का हब

पूंजीगत सामान नीति से 2.1 करोड़ नये रोजगारों पर निगाह

YS TEAM
26th May 2016
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

पीटीआई

सरकार ने देश के पूंजीगत सामान क्षेत्र के लिए अपनी तरह की पहली नीति को आज हरी झंडी दिखा दी। इस योजना का उद्देश्य देश को विश्वस्तरीय विनिर्माण केंद्र :हब: बनाना तथा 2025 तक 2.10 करोड़ अतिरिक्त अवसर सृजित करना है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय का फैसला किया गया।

image


आधिकारिक बयान में कहा गया है,‘ इस नीति से भारत को पूंजीगत सामान के लिए विश्व स्तरीय केंद्र बनाने के दृष्टिकोण को अमली जामा पहनाने में मदद मिलेगी। यह मेक इन इंडिया दृष्टिकोण में मजबूत स्तंभ के रूप में समग्र विनिर्माण में मजबूत भूमिका निभाएगी।’ इसके अनुसार,‘ पूंजीगत सामान क्षेत्र के लिए यह अपनी तरह की पहली नीति है जिसका स्पष्ट उद्देश्य पूंजीगत सामान से उत्पादन को 2025 में बढ़कर 7,50,000 करोड़ रुपये करना है जो 2014-15 में 2,30,000 करोड़ रुपये था। इस क्षेत्र से प्रत्यक्ष अप्रत्यक्ष रोजगार को 84 लाख से बढ़कर तीन करोड़ किया जाना है।’ इस नीति का मकसद समूची विनिर्माण गतिविधियों में पूंजीगत सामान का हिस्सा मौजूदा 12 प्रतिशत से बढ़ाकर 2025 तक 20 प्रतिशत तक पहुंचाना है।

केंद्रीय रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा,‘अगर देश में विनिर्माण गतिवधियों के साथ साथ पूंजीगत सामान विनिर्माण हुआ तो समूची अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहन मिलेगा।’

इस नीति का उद्देश्य 2025 तक प्रत्यक्ष घरेलू रोजगार की मौजूदा संख्या 14 लाख को बढ़ाकर कम से कम 50 लाख करना तथा अप्रत्यक्ष रोजगारों की संख्या को 70 लाख से बढाकर 2.5 करोड़ करना है। इस तरह से इस अवधि में कम 2.1 करोड़ लोगों को अतिरिक्त रोजगार उपलब्ध कराया जाएगा।

आधिकारिक बयान के अनुसार,‘ भारी उद्योग विभाग इस नीति के उद्देश्यों को समयबद्ध तरीके से हासिल करेगा और वह नीति की मंशाओं की रूपरेखा के तहत योजनाओं के लिए मंजूरी लेगा।’

नीति का मकसद भारत के पूंजीगत सामान क्षेत्र में घरेलू उत्पादन का हिस्सा 2025 तक 60 प्रतिशत से बढ़ाकर 80 प्रतिशत करना भी है। इसके अनुसार पूंजीगत वस्तुओं के ‘निर्यात को बढाकर उत्पादन के मौजूदा 27 प्रतिशत के स्तर से बढाकर 40 प्रतिशत किया जाना है।

बयान के अनुसार इस नीति का उद्देश्य पूंजीगत सामान क्षेत्र के लिए पास पलटने वाली कार्यनीतियां बनाना है। इसमें जिन कुछ प्रमुख मुद्दों पर ध्यान दिया गया है उनमें वित्तपोषण, कच्चा माल, नवोन्मेष व प्रौद्योगिकी, उत्पादकता, गुणवत्ता, पर्यावरण अनुकूल विनिर्माण गतिवधियां, निर्यात को बढावा देना तथा घरेलू मांग पैदा करना शामिल है।

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags