संस्करणों
विविध

घरों में काम करने वाली कमला कैसे बन गई डिजाइनर की खूबसूरत मॉडल

17th Oct 2018
Add to
Shares
268
Comments
Share This
Add to
Shares
268
Comments
Share

कमला (बदल हुआ नाम) की कहानी आपको ऐसा सोचने पर मजबूर कर देगी। दो बच्चों की मां कमला के दिन की शुरुआत दूसरों के घर के काम से होती थी। लेकिन एक दिन उस पर देश की जानी मानी फैशन डिजाइनर मंदीप नेगी की नजर पड़ गई।

image


अगले दिन जब वह आई तो उसने फोटोशूट करने के लिए हां कह दिया। लेकिन उसकी कुछ चिंताएं थीं, जैसे कि कपड़े कैसे होंगे और इन तस्वीरों का इस्तेमाल कहां किया जाएगा। हमने उसे अच्छे से समझाया।

घरों में झाड़ू पोछा का काम करने वाली महिलाओं की जिंदगी के बारे में कभी आपने सोचा है? हमेशा अपने काम में लगी, नीरस जिंदगी बिताते हुए उनकी उम्र कट जाती है। आपने कभी नहीं सोचा होगा कि ऐसी महिला मॉडल भी बन सकती है। कमला (बदल हुआ नाम) की कहानी आपको ऐसा सोचने पर मजबूर कर देगी। दो बच्चों की मां कमला के दिन की शुरुआत दूसरों के घर के काम से होती थी। लेकिन एक दिन उस पर देश की जानी मानी फैशन डिजाइनर मंदीप नेगी की नजर पड़ गई। मंदीप को कमला के चेहरे पर वो आत्मविश्वास और तेज दिखा जो किसी मॉडल में होना चाहिए। इसके बाद जो हुआ वह किसी कल्पनीय कहानी से कम नहीं है।

'शेप ऑफ इंडिया' ब्रैंड की फाउंडर मंदीप नेगी एक दिन अपने दोस्त के यहां बैठकर कुछ मॉडल की तस्वीरें देख रही थीं, लेकिन उन्हें कोई चेहरा पसंद नहीं आ रहा था। तभी उनकी नजर कमला पर गई जो कि दोस्त के घर पर काम कर रही थी। हालांकि जब उन्होंने कमला को बुलाकर फोटोशूट करने के बारे में बताया तो वह थोड़ी असहज हो गई। मंदीप कहती हैं, 'मैंने कमला को एक दिन का वक्त दिया और कहा कि वह इस बारे में सोचे। अगले दिन जब वह आई तो उसने फोटोशूट करने के लिए हां कह दिया। लेकिन उसकी कुछ चिंताएं थीं, जैसे कि कपड़े कैसे होंगे और इन तस्वीरों का इस्तेमाल कहां किया जाएगा। हमने उसे अच्छे से समझाया।'

फोटोशूट के पहले कमला को मंदीप के घर पर ही मेकअप कराया गया। इसके बाद डिजाइनर कपड़ों में उसका फोटोशूट हुआ। मंदीप का ब्रैंड शेप ऑफ इंडिया भारत के विभिन्न प्रकार के कपड़ों को अलग-अलग तरीके से डिजाइन करने के लिए जाना जाता है। मंदीप ने द हिंदू को बताया, 'हमारा नया कलेक्शन कुछ ऐसा ही था जिसके लिए हमें किसी नए और एकदम अलग चेहरे की जरूरत थी।'

मंदीप ने आगे कहा कि वह पेशेवर मॉडल की बजाय सामान्य महिलाओं के साथ काम करना ज्यादा पसंद करती हैं क्योंकि ये महिलाएं मॉडल बनने की तमन्ना नहीं रखतीं, लेकिन जब उन्हें मौका मिलता है तो उनके चेहरे की चमक बढ़ जाती है और वे सशक्त महसूस करने लगती हैं। मंदीप कहती हैं, 'मुझे नहीं पता इस एक फोटोशूट से कमला की जिंदगी कितनी बदलेगी, लेकिन इतना जरूर पता है कि यह उसकी जिंदगी का एक नया और अच्छा अनुभव था।' हालांकि यह पहली बार नहीं था कि किसी सामान्य सी महिला को मंदीप ने अपना मॉडल बनाया हो। इसके पहले भी वे कई बार ऐसा कर चुकी हैं।

यह भी पढ़ें: जंगली घास फूस को फर्नीचर में बदल युवाओं को रोजगार दे रहीं माया महाजन

Add to
Shares
268
Comments
Share This
Add to
Shares
268
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags