संस्करणों
प्रेरणा

नौकरी छोड़ी, कार बेची और जुट गए स्वच्छ भारत मुहिम में...

Geeta Bisht
17th Apr 2016
Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share

स्वच्छ भारत अभियान के तहत लोग अपनी अपनी कोशिशों में लगें हैं, लेकिन एक शख़्स है, जो लोगों को ये बता रहा है कि चलती कार से ना थूकें, केले के छिलके या चाय के खाली कप बाहर ना फेंकें। इस शख्स का नाम है अभिषेक मारवाह। इतना ही नहीं कार से यात्रा करने वाले लोगों को महत्वपूर्ण सीख देने के लिए अभिषेक ने एक खास तरह के कचरे का डिब्बा डिजाइन किया है, जिसे कोई भी अपनी कार में बिना किसी दिक्कत के रख सकता है और कूड़े को कार से फेंकने की जगह उस डिब्बे में भर सकता है। बार-बार इस्तेमाल होने वाले इस डिब्बे को वो अब देश के कोने कोने में पहुँचाने में लगे हैं।

image


पेशे से इंजीनियर अभिषेक मारवाह ने दो साल तक विभिन्न कंपनियों में काम किया। करीब चार साल पहले उन्होंने एक किताब में पढ़ा था कि जो व्यक्ति कचरा इधर-उधर फेंकता है, वो वास्तव में मानवता पर ये कचरा फेंकता है। ये बात अभिषेक मारवाह के दिल में घर कर गई थीं। इसलिए वो जब भी कहीं बाहर होते तो टॉफी के रैपर, चाय के कप और टिशू पेपर जैसी दूसरी चीजों को सड़क पर फेंकने की जगह गाड़ी में या अपने पास रख लेते थे इसके बाद सही जगह पर उनको फेंक देते थे। इसके अलावा उन्होंने महसूस किया था कि वो जब भी दूसरे देश में जाते थे तो हर चीज का इस्तेमाल सोच समझ कर करते थे और बेकार की चीजों को इधर-उधर नहीं फेंकते थे, लेकिन देश लौटते ही उनके अंदर की ये सोच गुम हो जाती थी। तब अभिषेक को लगा कि अकेले ही सही उन्हें अपने आसपास के वातावरण में साफ सफाई का काम करना होगा।

image


अभिषेक ने देखा की अक्सर काम में लोग सफर करते हुए काफी कुछ खाते पीते हैं और उस दौरान सारा कचरा सड़क पर फेंक देते हैं। ऐसे में क्यों ना कुछ ऐसा किया जाये जो लोगों के लिये ना सिर्फ सुविधाजनक हो बल्कि वो अपना कचरा सड़क पर भी ना फेंके। इसके लिए उन्होंने लंच बॉक्स के डिब्बे में थोड़े बदलाव कर एक कचरे का ऐसा डिब्बा तैयार किया, जिसे गियर के साथ लटकाया जा सकता है। लोगों में सफाई के प्रति जागरूकता लाने के लिए अभिषेक ने खुद एक वेबसाइट बनाई और सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया। अभिषेक ने बताया कि उनका डिजाइन किया कचरे का डिब्बा गाड़ी में रख बेहतर इस्तेमाल किया जा सकता है। इस दौरान लोगों से मिली प्रतिक्रिया काफी चौकाने वाली थी। उनको पता चला कि लोग ये नहीं जानते थे की कार में कचरे का डिब्बा रखना कितना जरूरी है। इसके बाद अभिषेक ने अपनी नौकरी छोड़ दी और लोगों को ये समझाने में लग गये कि अपने आसपास साफ सफाई कितनी जरूरी है। अभिषेक का कहना है,

“अगर हम अपनी कार से बाहर कचरा ना फेंके तो सड़क का करीब 40 प्रतिशत कचरा हम कम कर सकते हैं।”
image


लोगों में सफाई के प्रति जागरूकता लाने के लिए अभिषेक स्कूल, कॉलेज और कॉरपोरेट ऑफिस में अब तक कई सेमिनार कर चुके हैं। इसके अलावा दिल्ली में होने वाले ‘राहगीरी’ जैसे कार्यक्रम और विभिन्न शहरों के नगर निगम को अपने साथ जोड़ने का काम कर रहे हैं। अभिषेक के कहते हैं, 

“जब  कचरे का डिब्बा हम अपने टॉयलेट में रखना जरूरी समझते हैं तो क्यों नहीं कार में उसे रखते।” 

 इसलिए अब इनकी कोशिश कार के अलावा ऑटो रिक्शा में भी कचरे का डिब्बा रखने की है। फिलहाल ये इसके डिजाइन पर काम कर रहे हैं।

image


अभिषेक ने कार के लिये जो कचरे का डिब्बा डिजाइन किया है उसमें से केले के छिलके की बदबू कार में नहीं फैलती, उसमें चाय का कप रख सकते हैं। वो खास तरह की प्लास्टिक का बना होता है जिसे धो कर दोबारा इस्तेमाल किया जा सकता है। आज इनके डिजाइन किये इस कचरे के डिब्बे की डिमांड देश के विभिन्न हिस्सों से आती है। अभिषेक का कहना है कि स्वच्छ भारत अभियान का हिस्सा बनने के लिए लोगों का ये मानना होता है कि एक हाथ में झाडू होना चाहिए और उसके लिए कोई खास जगह चाहिए जहां पर ये काम किया जा सके, लेकिन हम फैसला करें कि हम कार से बाहर कचरा नहीं फेकेंगे और सफर के दौरान पैदा हुए कचरे को हम तब तक कार में ही रखेंगे जब तक उसे फेंकने के लिए सही जगह नहीं मिल जाती, तब भी हम वास्तव में स्वच्छ भारत अभियान का हिस्सा होंगे। उनका कहना है, 

"लोग अगर इस तरह अपनी आदतों में थोड़ा थोड़ा बदलाव ला सकें तो हमारा देश भी साफ और सुंदर हो सकता है।"
image


अभिषेक के मुताबिक देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी लोग ये नहीं समझते कि कार में कचरे का डिब्बा होना कितना जरूरी है। वो बताते हैं कि दुबई जैसे शहर में कार से बाहर कचरा फेंकने पर कड़ा जुर्माना है, बावजूद इसके वहां के लोग नहीं जानते कि कार में कचरे का डिब्बा होना चाहिए। इसलिए उनका मानना है कि लोगों के बीच जागरूकता की काफी कमी है। अभिषेक के मुताबिक उनके डिजाइन किये इस कचरे के डिब्बे को कोई भी वेबसाइट, व्हट्सऐप के जरिये केवल 235 रुपये में ऑर्डर कर सकता है। इस कीमत में डिलीवरी लागत भी शामिल होती है। 

image


अभिषेक बताते हैं, "इस काम को शुरू करने के लिए ना सिर्फ अपनी बचत का पैसा लगाना पड़ा बल्कि अपनी कार तक बेचनी पड़ी। मैं एक ओर जहां लोगों में गंदगी को लेकर जागरूकता पैदा करने की कोशिश कर रहा हूं वहीं अपनी वेबसाइट के जरिये लोगों से साफ सफाई को लेकर नये नये आइडिया मांग रहा हूं। अगर कोई आइडिया मुझे पसंद आया और उसका उत्पाद बनाया गया तो बदले में डिज़ाइन बनाने वाले को उसकी रॉयल्टी देने को तैयार हूं।"

वेबसाइट : www.ujosho.com

ऐसी ही और प्रेरणादायक कहानियां पढ़ने के लिए फेसबुक पेज पर जाएं, लाइक करें और शेयर करें

दादा जी की मौत के बाद 6 साल की बच्ची ने चलाई मुहिम, 11 साल की उम्र में हज़ारों की सिगरेट छुड़वाकर दी नई 'दिशा'

वाराणसी के पास बुनकरों के गांव में महिलाओं ने पेश की महिला सशक्तिकरण की नजीर, अगरबत्ती बेचकर चलाती हैं घर

राजस्थान के एक छोटे से गांव की अनपढ़ महिलाएं पूरी दुनिया में फैला रही हैं रोशनी, सीखाती हैं सोलर प्लेट्स बनाने के गुर

Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें