संस्करणों

घर बैठे खुद को और सुंदर बनाना है तो 'BigStylist' पर आएं, एक्सपर्ट की सलाह पाएं

आईआईटी खड़गपुर से स्नातक कर चुकी ऋचा सिंह ने मुंबई में मई 2015 में दो मित्रों के साथ की स्थापनामहिलाओं को घर बैठे ही प्रमाणित सौंदर्य विशेषज्ञ उपलब्ध करवाता है ‘बिगस्टाइलिस्ट’सौंदर्य और केशसज्जा करवाने में महिलाओं के सामने आने वाली परेशानियों का हल देने का है प्रयासभारत में समय के साथ बढ़ रहे आॅन डिमांड सेवाओं को उपलब्ध करवाने के प्रचलन की दिशा में एक नया प्रयास है यह स्टार्टअप

17th Aug 2015
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

भारत में समय के साथ मांग के अनुरूप यानि कि On Demand उत्पाद उपलब्ध करवाने का प्रचलन बढ़ता जा रहा है। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है कि उपयोगकर्ता को सिर्फ अपने स्मार्टफोन पर कुछ समय लगाना होता है और वह कहीं भी बैठे-बैठे ड्रइवरों से लेकर दर्जी तक को बुलाने और घर के लिये किराने का सामान मंगवा सकने की आजादी पा लेता है। ग्रोफर्स, ड्राइवयू और अर्बनटेलर की तर्ज पर चलते हुए ऋचा सिंह ने BigStylist (बिगस्टाइलिस्ट) की स्थापना की। यह मांग के आधार पर सौंदर्य के क्षेत्र के पेशेवरों को उपलब्ध करवाने वाला एक ऐसा आॅनलाइन मंच है जिसके माध्यम से उपयोगकर्ता अपने आसपास के प्रमाणित सौंदर्य पेशेवरों तक आसानी से अपनी पहुंच बनाते हुए उनकी सेवाएं ले सकता है।

image


फिलभारत भारत में सौंदर्य सेवाओं का उद्योग कुल मिलाकर कई खंडों मं बिखरा हुआ होने के अलावा बहुत अधिक महंगा और असुविधाजनक स्थिति में है। इसका खामियाजा ऋचा और दीपशिाखा दोनों को ही हर बार जब भी वे किसी नए शहर में जातीं तो भुगतना पड़ता और एक अनजान शहर में अपने लिये भरोेसेमंद सौंदर्य पेशेवरों को तलाशना उनके लिये एक कठिन चुनौती होता।

BigStylist की उत्पत्ति की कहानी

अपनी प्राथमिक शिक्षा के बाद ऋचा ने अपनी स्नातक की पढ़ाई के लिये आईआईटी खड़गपुर का रुख किया और उस दौरान उन्होंने पाया कि लड़कियों के लिये अपने सौंदर्य की देखभाल करने हेतु एक सस्ते और अच्छे पार्लर को तलाशना बहुत बड़ी दिक्कत का सबब है।

ऋचा कहती हैं, ‘‘हममें से अधिकतर लड़कियां वहां के स्थानीय ब्यूटी पार्लरों से इतनी आजिज आ चुकी थीं कि हमें अपने बाल ठीक करवाने तक के लिये कोलकाता जाना पड़ता था।’’ 

ऋचा की इन परेशानियों को यहीं विराम नहीं मिला और स्नातक के बाद विभिन्न शहरों के अपने प्रवास के दौरान भी वे कुछ ऐसी ही परेशानियों से दो-चार होती रहीं।

ऋचा आगे कहती हैं, ‘‘एक सलाहकार और बैंकर के रूप में काम करते हुए मेरा कार्यक्रम बहुत व्यस्त रहता था और ऐसे में अपने लिये सुविधाजनक अपाॅइंटमेंट निश्चित करना बहुत कठिन होता था। और वास्तव में यह समस्या तो अब भी मेरे सामने रहती है।’’

BigStylist की नींव रखने से पहले ऋचा कैपिटल वन और ओलिवर विमेन के साथ व्यापार विश्लेषक और सलाहकार के रूप में काम करने का अनुभव रखती थीं। ऋचा के अलावा चिन्मय शर्मा और अनुराग श्रीवास्तव ने भी सहसंस्थापक के रूप में इस टीम में अपनी जगह बनाई और क्रमशः संचालन और प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों को संभालने लगे।

चिन्मय आईआईटी और आईआईएक बैंगलोर के पूर्व छात्र हैं जिन्हें बेन एंड कंपनी के अलावा कई अन्य उद्योगों और क्षमताओं के साथ काम करने का चार वर्षों से भी अधिक का अनुभव है और अनुराग हैदराबाद स्थित प्रतिभा तलाशने और प्रबंधन स्टार्टअप के साथ काम करने का अनुभव रखते हैं। लड़कियों और महिनाओं के सामने आने वाली इस सामान्य सी लगने वाली चुनौती के बारे में विस्तार से जानने के बाद इस तिकड़ी ने जमीनी स्तर पर कुछ शोध किये और उनके बाद BigStylist की अवधारणा को मूर्त रूप दिया।

चिन्मय बताते हैं, ‘‘हम मुख्य रूप से एक ऐसा मंच हैं जो आपको अपने घर पर बैठे-बैठे ही आपकी सहूलियत के समय के हिसाब से सर्वश्रेष्ठ सौंदर्य सेवाओं से रूबरू करवाने की सुविधा देता है और वह भी बहुत ध्यान से चुने गए आपके आसपास के इलाकों के रहने वाले प्रमाणिक सौंदर्य विशेषज्ञों के द्वारा।’’

वर्तमान स्थिति और सौंदर्य और तंदुरुस्ती के क्षेत्र में आने वाली चुनौतियां

मई 2015 में भारत की व्यापारिक राजधानी मुंबई में स्थापित होने के बाद से यह मंच फिलहाल प्रतिमाह 100 से अधिक उपभोक्ताओं की सेवा कर रहा है और उनके साथ इनका औसत लेनदेन करीब 1200 रुपये का होता है। फिलहाल यह कंपनी पूरी तरह से बूटस्ट्रैप्ड है और सिर्फ अपने संस्थापकों की बचत और धन पर संचालित हो रही है।

ऋचा कहती हैं, ‘‘हम अपने संचालन को विस्तार देने और अपनी सेवाओं में वृद्धि करने के लिये कई निवेशकों के साथ वार्ताओं के दौर में हैं और हमें उम्मी है कि जल्द ही हम एक अच्छा निवेश पाने में सफल रहेंगे।’’

BigStylist का इरादा खुद को एक ऐसे रेडी रेकनर के रूप में स्थापित करना है जिसके माध्यम से आप अपने आसपास के प्रमाणिक और बेहतरीन स्टाइलिस्टों और सौंदर्य विशेषज्ञों की सेवाएं ले सकें और इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस कोने में रहते हैं।

ऋचा, चिन्मय और अनुराग

ऋचा, चिन्मय और अनुराग


इस क्षेत्र में उनके सामने आने वाली सबसे प्रमुख चुनौती उपभोक्ता को दिये जानेे वाली सेवा की गुणवत्ता को बनाए रखने के अलावा प्रमाणित सैलून पेशेवरों को खोजना और उन्हें अपने साथ जोड़ना है। फिर भी ऋचा का कहना है, ‘‘हमने अपने सेवा प्रदाताओं की गुणवत्ता पर बहुत कड़ा नियंत्रण रख रखा है और किसी भी सौदर्य विशेषज्ञ या हेयर स्टाइलिस्ट इत्यादि को अपने साथ जोड़ने से पहले हम उससे संबंधित तमाम जानकारियों को कई चरणों में सत्यापित करते हैं।’’

प्रतिस्पर्धा और सामने आने वाले अवसर

मुंबई आधारित यह स्टार्टअप खुद को वैनिटीक्यूब और बुलबुल के अलावा कई बिखरे हुए और असंगठित संचालकोें के साथ प्रतिस्पर्धा में पाता है। वैनिटीक्यूब दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) के इलाके में मात्र 90 मिनट के भीतर अपने उपयोगकर्ताओं के द्वार पर आॅन डिमांड सस्ती सौंदर्य सेवाएं उपलब्ध करवाने का दावा करता एक अन्य मंच है।

सौंदर्य सेवाएं, भोजन और स्वास्थ्य के अलावा वह मुख्य क्षेत्र है जिसमें लोग और विशेषकर महिलाएं आंखें मूंदकर खर्च करने के लिये तैयार रहती हैं। भारत में औसतन एक महिला प्रतिमाह अपने रूप और सौंदर्य पर 2000 रुपये से लेकर 3000 रुपये तक खर्च करती है।

अगर इस उद्योग के कुछ अनुमानों पर भरोसा करें तो उनके हिसाब से भारत जैसी एक विशाल अर्थव्यवस्था में सौंदर्य सेवाओं का बाजार करीब 4.8 बिलियन डाॅलर के आसपास का आंका गया है और यह तेजी से वृद्धि कर रहा है।

वेबसाइट

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें