संस्करणों
विविध

बेटे की बीमारी से राहुल को मिली दूसरों का दर्द दूर करने की प्रेरणा

yourstory हिन्दी
17th Oct 2017
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

जब उनके बेटे अर्जुनुदय का जन्म 2006 में हुआ था, तो राहुल और तूलिका वर्मा को इस भयानक खबर ने अंदर से मार दिया गया था कि उनका बच्चा कई जन्मजात दोषों के साथ पैदा हुआ था और संभवत: उसके जीवन के लिए महंगी चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होगी। 

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से


उनका बाकी के जीवन का अधिकतर वक्त शीघ्र ही हॉस्पिटल और कई सर्जरी में लगने वाले लंबे समय में बीतेगा। हॉस्पिटल की नीरसता, लंबे-चौड़े खर्चों और निराशा की इस अवधि के दौरान उन्होंने दुनिया भर में सहानुभूति फैलाने की आवश्यकता महसूस की।

चारों ओर निराशा की मात्रा को देखते हुए राहुल वर्मा अपने बेटे के सम्मान में उदय फाउंडेशन को शुरू करने का फैसला किया, जो कि वंचितों के लिए, खासकर बच्चों के लिए गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य और देखभाल का प्रबंधन करेगा। उन्होंने विचार किया कि हर माता-पिता और बच्चे को उनकी पृष्ठभूमि के बावजूद गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा तक पहुंचने के साथ जीवन को आगे बढ़ाने की गरिमा के हकदार हैं। 

जब उनके बेटे अर्जुनुदय का जन्म 2006 में हुआ था, तो राहुल और तूलिका वर्मा को इस भयानक खबर ने अंदर से मार दिया गया था कि उनका बच्चा कई जन्मजात दोषों के साथ पैदा हुआ था और संभवत: उसके जीवन के लिए महंगी चिकित्सा उपचार की आवश्यकता होगी। उनका बाकी के जीवन का अधिकतर वक्त शीघ्र ही हॉस्पिटल और कई सर्जरी में लगने वाले लंबे समय में बीतेगा। हॉस्पिटल की नीरसता, लंबे-चौड़े खर्चों और निराशा की इस अवधि के दौरान उन्होंने दुनिया भर में सहानुभूति फैलाने की आवश्यकता महसूस की। उन्होंने विचार किया कि हर माता-पिता और बच्चे को उनकी पृष्ठभूमि के बावजूद गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवा तक पहुंचने के साथ जीवन को आगे बढ़ाने की गरिमा के हकदार हैं।

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से


जब बेटे का दर्द आया सबमें नजर-

राहुल के मुताबिक, शुरुआत में अर्जुनुदय एक निजी अस्पताल में भर्ती था, बाद में हम उसे एम्स, दिल्ली में ले गए। वहां हमने देखा कि वास्तव में क्या संघर्ष था। ऐसे सभी रोगी जो दवा पर थे, एक वक्त का पौष्टिक भोजन तक लेने में सक्षम नहीं थे। उनके लिए हम जो कुछ भी कर सकते थे, उतनी मदद करना शुरू कर दिया। उनके चारों ओर निराशा की मात्रा को देखते हुए हमने अपने बेटे के सम्मान में उदय फाउंडेशन को शुरू करने का फैसला किया, जो कि वंचितों के लिए, खासकर बच्चों के लिए गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य और देखभाल का प्रबंधन करेगा।

दिल्ली में अपनी स्थापना के लगभग दस साल बाद भी उदय फाउंडेशन तेजी से बढ़ रहा है। ये फाउंडेशन में प्रोजेक्ट के तहत पूरे वर्ष में कई कार्यक्रम और पहल चलाए जा रहे हैं। स्वयंसेवकों की भागेदारी के साथ दो चिकित्सक जुड़े हुए हैं। वे मिलकर वंचितों के लिए स्वास्थ्य शिविरों का संचालन करते हैं, आपातकालीन प्रतिक्रियाओं का आयोजन करते हैं और आपदा राहत कार्यक्रमों को व्यवस्थित करते हैं, जरूरतमंदों की आवश्यकताओं को भी पूरा करते हैं।

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से

फोटो, उदय फाउंडेशन की वेबसाइट से


मानवता है इस दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज-

राहुल के मुताबिक, हमारा फाउंडेशन बड़े-बड़े रईसो से दान पर ज्यादा भरोसा नहीं करता बल्कि शहर भर में लोगों की उदारता के जरिए धन प्राप्त करता है। हमारी अपनी एम्बुलेंस सेवा भी है और सप्ताह में तीन बार हम ओपीडी से थोड़ा दूर ले जाकर बच्चों को घुमा भी लाते हैं। फाउंडेशन एक सप्ताह में तीन बार स्टोरीटेलिंग का आयोजन करता है। इससे बच्चों का दिल लगा रहता है। फाउंडेशन का एक ही आधार है, बच्चों को स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराना। वर्तमान में दिल्ली के तापमान में गिरावट को देखते हुए, वे शहर भर में बेघर आबादी के लिए गर्म कपड़े, कंबल और अन्य आवश्यकताओं को उपलब्ध कराने के लिए एक अभियान चला रहे हैं।

राहुल कहते हैं कि उन्हें मनुष्यों की भलाई पर अपार विश्वास है। इन सभी वर्षों के लिए इस फाउंडेशन को चलाने से मैंने एक चीज सीख ली है कि यहां बहुत सारे अद्भुत लोग हैं जो मदद करने के लिए तैयार हैं। और वहीं ऐसे भी लोगों की संख्या बहुत ज्यादा है, जिन्हें बेहद मदद की ज़रूरत है। उन्हें एक साथ मिलाने का हमारा प्रयास है।

ये भी पढ़ें: मैं बच गई, क्योंकि मुझे चीखना आता था...

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags