संस्करणों
विविध

तो अब वॉलमार्ट के हाथों बिक जाएगी फ्लिपकार्ट, जानें कितने करोड़ की है डील

yourstory हिन्दी
7th May 2018
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के बाद भारत में अमेजन का प्रभुत्व कम हो जाएगा और उसे वॉलमार्ट की कड़ी टक्कर मिलेगी। वॉलमार्ट 1.3 बिलियन लोगों की बढ़ती मार्केट पर पकड़ बनाना चाहता है और डिजिटल मार्केट में अपनी साख मजबूत करने की कोशिश में है।

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर


कहा जा रहा है कि फ्लिपकार्ट के वर्तमान सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति अपने पद पर बने रहेंगे। लेकिन फ्लिपकार्ट के फाउंडर सचिन और बिन्नी बंसल के बारे में अभी कोई खबर नहीं आई है। इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट की मानें तो दोनों को-फाउंडर डील के बाद बाहर निकल आएंगे।

लगभग एक महीने चली लंबी बातचीत के बाद इंडियन ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने अपने 75 प्रतिशत शेयर अमेरिकी रीटेल कंपनी वॉलमार्ट को बेचने की अनुमति दे दी है। ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक यह सौदा 15 बिलियन डॉलर यानी दस हजार करोड़ रुपये में यह सौदा तय हुआ है। फ्लिपकार्ट में सॉफ्टबैंक, टाइगर ग्लोबल, नेस्पर जैसे 50 से ज्यादा इन्वेस्टर्स हैं। बताया जा रहा है कि सॉफ्टबैंक फ्लिपकार्ट की अपनी पूरी हिस्सेदारी बेच देगा। हालांकि टेंसेंट, माइक्रोसॉफ्ट और टाइगर ग्लोबल जैसे इन्वेस्टर पूरी तरह से कंपनी से बाहर नहीं होंगे। यानी वे अपनी पूरी हिस्सेदारी बेचने के मूड में नहीं हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक गूगल की पैरेंट कंपनी अल्फाबेट भी इस डील में हिस्सा लेगी और लगभग 3 बिलियन डॉलर की डील करेगी। अभी इस डील के बारे में कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है, लेकिन माना जा रहा है कि आने वाले 10 दिनों में यह फाइनल हो जाएगा। फ्लिपकार्ट के बिक जाने के बाद कंपनी की देखरेख करने वाले अधिकारियों में भी बदलाव होगा। कहा जा रहा है कि फ्लिपकार्ट के वर्तमान सीईओ कल्याण कृष्णमूर्ति अपने पद पर बने रहेंगे। लेकिन फ्लिपकार्ट के फाउंडर सचिन और बिन्नी बंसल के बारे में अभी कोई खबर नहीं आई है। इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट की मानें तो दोनों को-फाउंडर डील के बाद बाहर निकल आएंगे।

वॉलमार्ट के अलावा अमेजन भी फ्लिपकार्ट को खरीदने की फिराक में था, लेकिन बात बन नहीं पाई। फ्लिपकार्ट के बोर्ड ने अमेजन की डील स्वीकार नहीं की। वॉलमार्ट पहले भी भारत में ऑनलाइन सेक्टर में अपने पैर जमाने की कोशिश कर चुका है, लेकिन कामयाबी नहीं मिली थी। अमेजन का सालाना रेवेन्यू 177 बिलियन डॉलर के आसपास है वहीं वॉलमार्ट का सालाना रेवेन्यू 482.13 बिलियन डॉलर का है। लेकिन अमेजन अपनी सारी कमाई डिजिटल मीडियम से करता है वहीं वॉलमार्ट इस मामले में इसका 3 प्रतिशत है। पहले कहा जा रहा था कि अमेजन फ्लिपकार्ट को खरीदकर भारतीय ईकामर्स बाजार पर अपना प्रभुत्व स्थापित करना चाहता है, लेकिन ऐसा संभव नहीं हो पाया।

वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट डील के बाद भारत में अमेजन का प्रभुत्व कम हो जाएगा और उसे वॉलमार्ट की कड़ी टक्कर मिलेगी। वॉलमार्ट 1.3 बिलियन लोगों की बढ़ती मार्केट पर पकड़ बनाना चाहता है और डिजिटल मार्केट में अपनी साख मजबूत करने की कोशिश में है। अमेरिका और चीन के बाद भारत के ग्राहक ऑनलाइन मार्केट में सबसे ज्यादा हैं। अगर वॉलमार्ट-फ्लिपकार्ट की डील सक्सेस होती है तो वॉलमार्ट को कस्टमर्स डेटा, कंपनी की इंजीनियरिंग टीम और 4 लाख से भी अधिक वेंडर और सप्लाई चेन भी मिल जाएगी।

यह भी पढ़ें: मिस व्हीलचेयर इंडिया की कहानी: जिंदगी के हर मोड़ पर मुश्किलों को मात देते हुए हासिल की सफलता

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें