संस्करणों
विविध

'Unacademy' ने सीरीज ए फंडिंग से जुटाए 4.5 मिलियन डॉलर

स्टार्टअप 'Unacademy' की पहली फंडिंग 500,000 डॉलर की थी, जिसके बाद 1 मिलियन डॉलर का वित्त जुटाया गया था।

5th Apr 2017
Add to
Shares
174
Comments
Share This
Add to
Shares
174
Comments
Share

स्टार्टअप क्षेत्र में हर कोई ये इंतजार करता है कि इसमें आने वाली फंडिंग का ऊंट किस करवट बैठता है, ऐसे में ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफार्म Unacademy ने नेक्सस वेंचर पार्टनर्स और ब्लम वेंचर्स के नेतृत्व में अपने पहले राउंड में ही 4.5 मिलियन डॉलर की फंडिंग की शुरुआत की है। ये फंडिंग कुछ दिन पहले हुई है, जिसके पहले राउंड में फ्रेशडेस्क के सीईओ गिरीश मातरुबूतम और स्टैनफोर्ड एंजेल्स के साथ ही मिन्त्रा के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अनंत नारायणन ने भी भाग लिया था।

<h2 style=

Unacademy के को-फाउंडर्स एक साथ: ऊपर की लाइन में- सचिन गुप्ता और गौरव मुंजाल, नीचे की लाईन में- रोमन सैनी और हेमेश सिंहa12bc34de56fgmedium"/>

Unacademy का स्मार्टफोन एप Unacademy Learning App नाम से आ चुका है, जहां CAT से लेकर GATE और CA से लेकर SSC CGL तक की भी तैयारी करवाई जाती है। यहां नौकरी और बिज़नेस दोनों के लिए स्कोप है। सबसे अच्छी बात है, कि ये एक फ्री एप है।

जनवरी 2017 में एडु टेक स्टार्टअप 'Unacademy' को सीरीज ए फंडिंग से 5.5 मिलियन डॉलर मिले हैं। ये Unacademy के लिए फंडिंग का तीसरा राउंड था। इस स्टार्टअप की पहली फंडिंग 500,000 डॉलर थी, जिसके बाद 1 मिलियन डॉलर का वित्त जुटाया गया था। Unacademy एक ऐसा अॉनलाईन पोर्टल है, जो CAT और SSC आदि जैसी परीक्षाओं के लिए छात्रों को कंटेंट उपलब्ध करवाता है। ये पोर्टल रोमन सैनी, गौरव मुंजाल, हेमेश सिंह और सचिन गुप्ता की मेहनत का नतीजा है। इस पर्ष के अंत तक Unacademy का लक्ष्य 200 से 2,000 एजुकेटर तैयार करने का है और ये एजुकेटर विभिन्न विषयों और क्षेत्रों जैसे लैंग्वेज लर्निंग, प्रोफेशनल ग्रोथ टॉपिक और एग्ज़ाम की तैयारी करवाने वाले होंगे।

Unacademy के सीईओ गौरव मुंजाल का कहना है,

एक प्रोडक्ट का व्यक्ति होने के नाते मैं अपना सारा फोकस बेहतरीन स्तर के प्रोडक्ट को बनाने और बेहतरीन एजुकेटर्स को तैयार करने में केंद्रित करना चाहता हूं। हमारे साथ शीर्ष परीक्षाओं के टॉपर्स और किरण बेदी जैसे लोग हैं, इसलिए हमारा लक्ष्य अच्छे में सबसे अच्छा हासिल करना है।

Unacademy का मानना ​​है कि इसके सक्रिय उपयोगकर्ताओं के आधार पर इन का राजस्व इस साल 200,000 से 1 मिलियन तक बढ़ जायेगा। 2010 से ही एक यूट्यूब चैनल के रूप में चलने के बाद Unacademy की स्थापना गौरव मुंजाल, रोमन सैनी, हेमेश सिंह और सचिन गुप्ता ने एक एजुकेशनल यूट्यूब चैनल के रूप में की थी।

गौरव और हेमेश इससे पहले से फ्लैटचैट चला रहे थे, जिसे 2014 में कॉमनफ्लोर द्वारा एक्वायर कर लिया गया था। 24 वर्षीय रोमन सैनी एम्स में डॉक्टर हैं और सिविल सेवा परीक्षा में सफल होने वाले सबसे कम उम्र के व्यक्ति हैं। उन्होंने जबलपुर के सहायक कलेक्टर के पद से इस्तीफ़ा देकर अपने जुनून को पूरा करने के लिए Unacademy की शुरुआत की, जिसकी आधिकारिक लॉन्चिंग जनवरी 2016 में हुई थी।

इस एक साल के छोटे से से सफर में एक साल पूरा होते ही Unacademy की टीम ने दस गुना वृद्धि का दावा किया है। उनका कहना है कि उनकी वेबसाइट और यूट्यूब चैनल को मिला कर उनके वीडियोज़ को पांच लाख से भी अधिक देखा गया है। ये वृद्धि स्टार्टअप के पिछले साल के एक लाख से अधिक वीडियो दृश्यों को लोगों द्वारा देखे जाने की तुलना में बहुत अधिक है। Unacademy का स्मार्टफोन एप भी Unacademy Learning App नाम से आ चुका है, जहां CAT से लेकर GATE और CA से लेकर SSC CGL तक की भी तैयारी करवाई जाती है। यहां नौकरी और बिज़नेस दोनों के लिए स्कोप है। ये एक फ्री एप है, जिसे कोई भी अपने स्मार्टफओन पर डाउनलोड कर सकता है।इस स्टार्टअप का दृष्टिकोण अपने ज्ञान को अभ्यर्थियों से सुगम रूप से साझा करने के लिए देश के सर्वोत्तम प्रतिभाओं को अपने साथ जोड़ना है। बेंगलुरू स्थित Unacademy एजुकेटर को एप सुविधा देकर विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए विशेष सामग्री सहित, विभिन्न विषयों का पाठ्यक्रम बनाने में सहायता करता है।

Unacademy का दावा है कि अब तक उसके 500,000 से अधिक पंजीकृत उपयोगकर्ता और 200,000 से अधिक सक्रिय उपयोगकर्ता हैं। गौरव कहते हैं, कि वे Unacademy को दुनिया का सबसे बड़ा मंच बनाना चाहते हैं, जहां टीचर या एजुकेटर अपना ज्ञान साझा कर सकें।

गौरव मुंजाल का कहना है, कि 'हमारे टीचर्स एक विषय को समझने में स्टूडेंट्स की सहायता करने के लिए, स्मृति -विज्ञान से लेकर कहानी सुनाने जैसी चीज़ों के लिए कई तरह के अभिनव तरीके अपनानते हैं और इससे भी महत्वपूर्ण बात ये है कि हमारे शिक्षक देश के विभिन्न हिस्सों से हैं- द्वितीय और तृतीय श्रेणी के शहरों और यहां तक ​​कि गांव से भी हैं। हमने हमेशा ही यह सवाल उठाया है कि ज्ञान को साझा करने का काम केवल स्टैनफोर्ड, हार्वर्ड या आईआईटी के प्रोफेसरों द्वारा ही क्यों किया जाना चाहिए। पूंजी के प्रवाह के साथ ही Unacademy का उद्देश्य अधिक से अधिक एजुकेटर्स को सशक्त करना है, जो इनके प्लेटफार्म पर आने वाले अत्यधिक आकर्षक पाठ्यक्रम बनाने के लिए लाखों स्टूडेंट्स को प्रभावित करते हैं। ये तो सिर्फ शुरूआत भर है, अभी तो हमें एक लंबा रास्ता तय करना है।'

यदि आप अभी देखेंगे, तो पायेंगे कि इस समय Unacademy में 500 विषयों पर 6,000 से अधिक सामग्री उपलब्ध है।

बाजार अवलोकन (मार्केट ओवरव्यू)

पिछले कुछ सालों में, शिक्षा तकनीक पर निवेशकों और उत्साही उद्यमियों का बहुत गहराई से ध्यान रहा है। विश्वस्तरीय तौर पर Udemy, Khan Academy, Coursera और Udacity जैसे खिलाड़ी काफी लोकप्रिय हैं।

दिसंबर 2015 में, Khan Academy ने भारत के लिए विशेष और स्वतंत्र रूप से उपलब्ध ऑनलाइन सामग्री विकसित करने के लिए टाटा ट्रस्ट के साथ भागेदारी की थी। मार्च 2016 में, अनुकूल शिक्षण मंच Byju’s ने Sequoia Capital और Sofina से 75 मिलियन डॉलर जुटाये थे, जो कि भारत में एक एडुटेक स्टार्टअप द्वारा सबसे बड़े फंड में से एक था।

अनुसंधान और बाजार का अनुमान है, कि 2020 तक एमओओसी क्षेत्र 2015 के 1.83 अरब डॉलर से बढ़कर 8.50 अरब डॉलर का हो जायेगा, जबकि भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या 2017 तक 50 करोड़ तक पहुंचने का अनुमान है। एस स्थिति में एडुटेक और MOOC प्लेटफार्मों के विकास की जबरदस्त संभावनायें हैं।

जबकि मैदान में कई खिलाड़ी मौजूद हैं, ऐसे में गौरव का मानना ​​है कि केवल प्रतिस्पर्धा पर ही ध्यान केंद्रित करने से उन्हें आगे बढ़ने में मदद नहीं मिलेगी। स्वयं तीसरी बार एक उद्यमी होने के नाते गौरव बताते हैं, कि वर्तमान में, Unacademy का पूरा फोकस शिक्षा पर और ये सुनिश्चित करने में है कि शिक्षा से जुड़ी किसी भी समस्या का हल कैसे हो।

Nexus के समीर बृज वर्मा (Unacademy के बोर्ड मैंबर) कहते हैं, कि 'Unacademy के एजुकेटर्स और लर्नर्स का एक मजबूत व्यस्त और संलग्न समुदाय का निर्माण करने के लिए मंच-केंद्रित दृष्टिकोण में उनका दृढ विश्वास है।' साथ ही वे ये भी कहते हैं, कि 'टीम ने राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिबद्ध शिक्षकों के एक समुदाय के निर्माण में बहुत अच्छा काम किया है, ताकि उनको उपयोग में आसान और अपने ज्ञान को साझा करने के लिए शक्तिशाली साधन उपलब्ध करा के उनके प्रभाव को बढ़ाते हुए उनके ज्ञान से उन्हें कमाई का माध्यम मुहैया कराया जा सके।'

-सिंधू कश्यप

अनुवाद: प्रकाश भूषण सिंह

यदि आपके पास है कोई दिलचस्प कहानी या फिर कोई ऐसी कहानी जिसे दूसरों तक भी पहुंचना चाहिए...! तो आप हमें लिख भेजें editor_hindi@yourstory.com पर। साथ ही सकारात्मक, दिलचस्प और प्रेरणात्मक कहानियों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर भी जुड़ें...

Add to
Shares
174
Comments
Share This
Add to
Shares
174
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें