संस्करणों
दिलचस्प

खतों की दुनिया को मॉडर्न इमोजी वाली जेनेरेशन से जोड़ने वाला स्टार्टअप 'पोस्टमोजी'

17th Nov 2017
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

हम अक्सर अपने माता पिता वाली पीढ़ी के लोगों से सुनते रहते हैं कि खत लिखने में जो बात थी वो लाखों मेसेज भी नहीं ला सकते। खत में जज्बात होते थे, लिखने वाले का प्यार होता था। हमारी युवा पीढ़ी की तो सारी बातें फोन, मेल और चैटिंग एप्स पर ही जाती हैं। फास्ट डिलीवरी में भावना गौढ़ हो जाती हैं।

साभार: ट्विटर

साभार: ट्विटर


लेकिन सोचिए अगर अपने फोन वाली इमोजी पोस्टकार्ड का अवतार ले ले तो? इसी इनोवेशन का नाम है पोस्टमोजी। ये एक स्टार्टअप है जिसने इस साल 31 अगस्त को अपना अभियान शुरू किया था। जैसा कि नाम से पता चलता है, वह पहले के पोस्टकार्ड युग और नए इमोजी युग की घटनाओं के बीच ब्रिज के रूप में कार्य करने की कोशिश करता है।

यह स्टार्टअप मुम्बई के लक्श फोमरा द्वारा शुरू किया गया है। वो चाहते हैं कि युवा खुद को फिर से व्यक्त करना शुरू कर दें। फोमरा स्वयं 24 साल के हैं। वो खुद एक युवा हैं और इस उम्र के लोगों की भावनाओं को समझते हैं। फोमरा के मुताबिक, मिलेनियल आज कुछ कहे बिना ही सब कुछ कहना चाहते हैं और एक इमोजी, कुछ भी नहीं कहकर बहुत कुछ कहने का बेहतर तरीका है। इसीलिए हम इन इमोजी को एटम आकार के एनिमेशन में प्रिंट कराकर स्मार्टफोन से ले आए हैं।

हम अक्सर अपने माता पिता वाली पीढ़ी के लोगों से सुनते रहते हैं कि खत लिखने में जो बात थी वो लाखों मेसेज भी नहीं ला सकते। खत में जज्बात होते थे, लिखने वाले का प्यार होता था। हमारी युवा पीढ़ी की तो सारी बातें फोन, मेल और चैटिंग एप्स पर ही जाती हैं। फास्ट डिलीवरी में भावना गौढ़ हो जाती हैं। लेकिन सोचिए अगर अपने फोन वाली इमोजी पोस्टकार्ड का अवतार ले ले तो? इसी इनोवेशन का नाम है पोस्टमोजी। ये एक स्टार्टअप है जिसने इस साल 31 अगस्त को अपना अभियान शुरू किया था। जैसा कि नाम से पता चलता है, वह पहले के पोस्टकार्ड युग और नए इमोजी युग की घटनाओं के बीच ब्रिज के रूप में कार्य करने की कोशिश करता है।

यह स्टार्टअप मुम्बई के लक्श फोमरा द्वारा शुरू किया गया है। वो चाहते हैं कि युवा खुद को फिर से व्यक्त करना शुरू कर दें। फोमरा स्वयं 24 साल के हैं। वो खुद एक युवा हैं और इस उम्र के लोगों की भावनाओं को समझते हैं। फोमरा के मुताबिक, मिलेनियल आज कुछ कहे बिना ही सब कुछ कहना चाहते हैं और एक इमोजी, कुछ भी नहीं कहकर बहुत कुछ कहने का बेहतर तरीका है। इसीलिए हम इन इमोजी को एटम आकार के एनिमेशन में प्रिंट कराकर स्मार्टफोन से ले आए हैं। फोमरा ने पोस्टमोजी के साथ इसी आइडिया के बारे में सोचा था। हम वास्तव में वर्चुअली फ्यूल्ड डिजिटल युग में रहते हैं और प्रौद्योगिकी ने हमारी ज़िंदगी को सुविधाजनक बना दिया है। यह आमने सामने वाली अभिव्यक्ति को व्यर्थ बना देता है।

साभार: ट्विटर

साभार: ट्विटर


अभिव्यक्ति आज मात्र संदेश, एक स्थिति, एक कैप्शन, एक तस्वीर है। आजकल यह हमारे फोन के भीतर ही सीमित है, क्योंकि युवाओं की दुनिया में अभिव्यक्ति की कीमत उतनी ही महत्वपूर्ण है जब तक कि यह आसान नहीं है। यह वह जगह है जहां पोस्ट-मेमोरी आता है। जब आप मुंबई-आधारित स्टार्टअप के माध्यम से एक इमोजी पोस्ट करते हैं, तो आप 250 शब्दों के निजी संदेश के साथ परिचित को पोस्टमोजी भेज सकते हैं। फोमरा इसके पूर्व में हैपटिक के लिए विपणन विभाग का नेतृत्व करते थे। इमोजी का महत्व हाल ही में आया था और कुछ शोध के साथ फोमरा अपने स्टार्टअप की व्यापकता से सहमत थे। वे कहते हैं, इमोजी भौगोलिक सीमाओं से परे हैं और उनका मूल्य बहुत बड़ा है। यह स्टार्टअप दिलचस्प है, कुछ लोगों को ये एक स्टूपिड आइडिया लग सकता है लेकिन यह एक स्पष्ट वास्तविकता है। वह एक तरह से सही साबित हुए जब उनकी इमोजी मूवी मार्केट में आई।

पोस्टमोजी इस पीढ़ी के लोगों को लिखना शुरू करने का उनका तरीका है, हालांकि शब्दों को कम करना संभव है। कहने की जरूरत नहीं है कि प्रतिक्रिया काफी हद तक सकारात्मक रही है। आप यहां पर छह इमोजी चुन सकते हैं, दिल में आंखें, सेलीब्रेशन इमोजी, पूप इमोजी, सैड इमोजी, स्माइलिंग इमोजी और जन्मदिन का तोहफा में से अपना चयन कर सकते हैं और अपना संदेश चुन सकते हैं। इस मुंबई स्थित उद्यमी को ये बात बेहद खुश करती है कि लोगों को सकारात्मक संदेश भेजने के लिए इस मंच का उपयोग करने की प्रवृत्ति है। वो बताते हैं, ऑस्ट्रेलिया के एक आदमी ने अपनी प्रेमिका को प्रपोज किया था, जो इन इमोजी के साथ दिल्ली में रहे थे। मुझे बड़ी खुशी हुई थी। फोमरा उस आवाज़ में प्रेम और राहत को आज भी स्मरण करते है कि कैसे एक लड़की ने एक इमोजी को उसके पास भेजा था जो कि ब्रदर इन लॉ को एक संदेश था, परिवार में आपका स्वागत है।

ऐसे समय में जब बहुत कुछ कहने के बिना कहा जाता है और समझा जाता है, तो एक इमोजी भेजना शायद समय की बचट करता है और जो लोग अभी भी इस नए-युग प्रौद्योगिकी-आधारित निर्भावुकता के बारे में विलाप कर रहे हैं कि ये पीढ़ी शब्दों से वंचित है। उनके लिए फोमरा कहते हैं कि ये पीढ़ी खुद को फिर से व्यक्त करेगी। इमोजी का उपयोग करना एक तरीका है। यह हमेशा शब्दों से ज्यादा बोल जाती है।

ये भी पढ़ें: बकरी पालन से लाखों कमाता है ये वैज्ञानिक

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें