संस्करणों
विविध

न अच्छी डाइट, न अच्छे जूते: रिक्शेवाले के बेटे को मिला उसैन बोल्ट की अकैडमी में ट्रेनिंग का मौका

4th Jan 2018
Add to
Shares
817
Comments
Share This
Add to
Shares
817
Comments
Share

आजादपुर में रेल की पटरी के ठीक किनारे की बस्ती में 10 बाई 10 के एक कमरे में निसार का पूरा परिवार रहता है। वही कमरा उनका ड्रॉइंग रूम, बेडरूम और किचन है। एक कोने में निसार की ट्रॉफी और मेडल उनकी तस्वीर के साथ सजे हैं।

अपने परिवार के साथ निसार

अपने परिवार के साथ निसार


गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया और स्पोर्ट्स मैनेजमेंट कंपनी एंग्लियन मैडल हंट ने निसार को वेस्टइंडीज भेजने के लिए सेलेक्ट किया है। देश के 14 सर्वश्रेष्ठ युवाओं को ही वहां जाने का मौका मिलेगा, जिनमें निसार का नाम भी शामिल है। 

पिछले साल दिल्ली के स्लम में रहने वाले एथलीट निसार अहमद की काफी चर्चा हुई थी। निसाप ने दिल्ली स्टेट एथलेटिक्स मीट में दो गोल्ड मेडल जीते थे। घर की हालत ये है कि पिता रिक्शा चलाते हैं और मां दूसरों के घरों में बर्तन धोने का काम करती हैं। हाल ही में निसार को जमैका में दुनिया के सबसे तेज धावक उसैन बोल्ट की रेसिंग अकैडमी में ट्रेनिंग करने का मौका मिला है। आजादपुर में रेलवे ट्रैक के किनारे बड़ा बाग स्लम में रहने वाले निसार को इस मौके के बारे में जानकर काफी खुशी हुई।

गैस अथॉरिटी ऑफ इंडिया और स्पोर्ट्स मैनेजमेंट कंपनी एंग्लियन मैडल हंट ने निसार को वेस्टइंडीज भेजने के लिए सेलेक्ट किया है। देश के 14 सर्वश्रेष्ठ युवाओं को ही वहां जाने का मौका मिलेगा, जिनमें निसार का नाम भी शामिल है। केरल, तमिलनाडु, उत्तराखंड, ओडिशा और दिल्ली से कुल 14 बच्चों को इस ट्रेनिंग के लिए चुना गया है। अब उन्हें उसैन बोल्ट के कोच ग्लेन मिल्स निखारने का काम करेंगे। क्लब में यह ट्रेनिंग चार हफ्ते तक यानी कि लगभग एक महीने तक होगी।

दिल्ली के आजादपुर के पास बड़ा बाग झुग्गी बस्ती में रहने वाले स्प्रिंट रेस चैंपियन निसार अहमद की दौड़ का सफर चार साल पहले शुरू हुआ था। अशोक विहार- 2 के गवर्नमेंट बॉयज सीनियर सेकंडरी स्कूल में पढ़ने वाले निसार कहते हैं, स्कूल में मेरे टैलंट को मेरे फिजिकल एजुकेशन टीचर सुरेंद्र कुमार ने पकड़ा। उन्होंने मुझे काफी मोटिवेट किया, एक्सरसाइज बताईं, यहां तक दूध पीने के लिए पैसे तक दिए। फिर छत्रसाल स्टेडियम में ट्रेनिंग के लिए सुनीता राय मैम के पास भेजा। यहां से मेरी स्ट्रेंथ और बढ़ी, मैं रोज 6-6 घंटे एक्सरसाइज और प्रैक्टिस करता हूं।

सबसे हैरानी की बात तो यह है कि निसार ने नेशनल अंडर-16 खिलाड़ियों के रिकॉर्ड तोड़े हैं। 100 मीटर की रेस उन्होंने सिर्फ 11 सेकंड में पूरी की, पुराना रेकॉर्ड 11.02 सेकंड का था। 200 मीटर की रेस में भी उनकी फुर्ती काबिल-ए-तारीफ रही, सिर्फ 22.08 सेकंड में उन्होंने रिकॉर्ड अपने नाम किया है, जो कि पिछले रिकॉर्ड से 0.3 सेकंड कम है। आजादपुर में रेल की पटरी के ठीक किनारे की बस्ती में 10 बाई 10 के एक कमरे में निसार का पूरा परिवार रहता है। वही कमरा उनका ड्रॉइंग रूम, बेडरूम और किचन है। एक कोने में निसार की ट्रॉफी और मेडल उनकी तस्वीर के साथ सजे हैं।

छत्रसाल स्टेडियम में उनकी ऐथलेटिक्स ट्रेनर सुनीता राय का कहना है, निसार की इच्छाशक्ति, टैलंट और मजबूती को देखते हुए हम उसे हर मदद देना चाहते हैं। उसका जूनियर नैशनल गेम्स के लिए चुनाव हो चुका है। निसार के पिता ननकू रिक्शा चलाकर बमुश्किल रोजाना 200 रुपये कमा पाते हैं। इतने पैसों में घर का गुजारा ही मुश्किल से हो पाता है। ननकू कहते हैं, बेटे ने अब तक 35-36 इनाम जीते हैं, मगर उसे ताकत कैसे मिलेगी? निसार के लिए बाकी सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए उनके पिता ने 28,000 रुपये किसी से उधार लिए। इन पैसों से निसार के लिए जूते और बाकी सामग्री खरीदी गई। उनकी मां कहती हैं कि अपने बेटे के लिए अच्छी सुविधा न दे पाने पर हमें बुरा लगता है, लेकिन जितना उनसे बन पा रहा है वो कर रहे हैं।

हालांकि जब मीडिया में निसार अहमद की कहानी छपी तो दिल्ली सरकार के साथ ही कई लोग मदद करने के लिए आगे आए थे। दिल्ली सरकार ने उस वक्त कहा था कि निसार को जरूरी ट्रेनिंग देने और उसके साथ उनकी खेल की हर जरूरत को पूरा करने के लिए उसे हर मदद दी जाएगी। दिल्ली की शिक्षा मंत्री की एडवाइजर आतिशी ने भी कहा था कि दिल्ली सरकार निसार की ट्रेनिंग के लिए उसे हर मुमकिन मदद देगी। उनकी ट्रेनिंग से जुड़ी हर दूसरी जरूरत का भी सरकार ख्याल रखेगी।

यह भी पढ़ें: रहस्यमय हालत में पति के लापता होने के बाद शिल्पा ने बोलेरो पर खोला चलता फिरता रेस्टोरेंट

Add to
Shares
817
Comments
Share This
Add to
Shares
817
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें