संस्करणों

ईओयूज, साफ्टवेयर, हार्डवेयर पार्क की शर्तें हुई नर्म

YS TEAM
17th Aug 2016
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

वाणिज्य मंत्रालय ने निर्यात बढ़ाने की दिशा में एक और कदम उठाते हुये निर्यातोन्मुखी इकाइयों (ईओयूज), साफ्टवेयर और इलेक्ट्रानिक हार्डवेयर टैक्नॉलाजी पार्क के लिए गोदाम रखने की अनिवार्यता को समाप्त कर दिया है।

सरकार के इन कदमों का मकसद देश से निर्यात शिपमेंट को बढ़ावा देना है। इन कदमों के जरिये ईओयूज में उत्पादों के विनिर्माण, साफ्टवेयर टेक्नालाजी और इलेक्ट्रानिक हार्डवेयर टेक्नालॉजी पार्क से निर्यात को प्रोत्साहन देना है।

विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने उनके ईओयू इकाइयों के विलय अथवा बदलाव की स्थिति में साफ्टवेयर प्रौद्योगिकी पार्क तथा इलेक्ट्रानिक हार्डवेयर प्रौद्योगिकी पार्क के लिये कर रियायतों को हासिल करने के मामले में शर्तों को नरम किया है।

डीजीएफटी ने एक अधिसूचना में कहा है कि कृषि, एक्वाकल्चर, बागवानी और मुर्गी पालन के क्षेत्र में काम करने वाले ईओयू को इकाई परिसर से बाहर उसकी गतिविधियों के संबंध में विशिष्ट सामान को बाहर ले जाने की अनुमति होगी।

ईओयू योजना दिसंबर 1980 में शुरू की गई थी। इसके तहत निर्यात प्रसंस्करण क्षेत्रों में स्थित विनिर्माण इकाइयों को उनकी विदेशी कमाई के मुनाफे पर शत प्रतिशत कर छूट और कच्चे माल का शुल्क मुक्त आयात की अनुमति दी गई। यह योजना तय अवधि के लिए थी इसलिए मार्च 2010 से रियायत समाप्त हो गई। योजना के तहत लघु एवं मझोली इकाइयाँ निर्यात उद्देश्य से अपनी इकाई लगाती रही हैं।

बाद में एक समिति ने इन इकाइयों को पुनर्जीवित करने के लिये कर प्रोत्साहन सहित कई कदमों का सुझाव दिया। इस योजना में ईओयूज, साफ्टवेयर टेक्नालॉजी पार्क और इलेक्ट्रानिक हार्डवेयर टेक्नालाजी पार्क शामिल हैं।- पीटीआई

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags