संस्करणों
विविध

जीडीपी वृद्धि दर दूसरी तिमाही में बढ़कर 7.3 प्रतिशत रही, नोटबंदी के कारण अनिश्चितता बरकरार

‘नोटबंदी से फिलहाल जीडीपी वृद्धि दर घटेगी’

PTI Bhasha
1st Dec 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

भारत तीव्र आर्थिक वृद्धि हासिल करने वाला देश बना हुआ है। मुख्य रूप से कृषि उत्पादन बेहतर रहने से सितंबर तिमाही में देश की जीडीपी वृद्धि दर बढ़कर 7.3 प्रतिशत रही। हालांकि नोटबंदी के कारण आने वाले महीनों में वृद्धि की यह गति प्रभावित हो सकती है। सकल घरेलू उत्पाद :जीडीपी: इससे पूर्व तिमाही में 7.1 प्रतिशत थी। हालांकि पिछले वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में यह 7.6 प्रतिशत थी। भारत ने आर्थिक वृद्धि के मामले में चीन को पीछे छोड़ दिया है और दुनिया में तीव्र वृद्धि हासिल करने वाला देश बना हुआ है। इस बीच, आठ बुनियादी क्षेत्रों की वृद्धि दर अक्तूबर में 6.6 प्रतिशत रही जो छह महीने का उच्च स्तर है।

केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) द्वारा जारी आंकड़े के अनुसार सकल मूल्य वर्धन :जीवीए: चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में 7.1 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व तिमाही और पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 7.3 प्रतिशत थी। कड़े के अनुसार जिन क्षेत्रों में जुलाई-सितंबर तिमाही में 7.0 प्रतिशत से अधिक वृद्धि दर्ज की गयी है, उसमें लोक प्रशासन, रक्षा तथा अन्य सेवाएं, वित्त, बीमा, रीयल एस्टेट और पेशेवर सेवाएं, विनिर्माण तथा व्यापार एवं परिवहन तथा संचार एवं प्रसारण से जुड़ी सेवाएं शामिल हैं। आलोच्य तिमाही में कृषि, वानिकी और मत्स्यन की वृद्धि दर 3.3 प्रतिशत, खान एवं खनन शून्य से नीचे 1.5 प्रतिशत, बिजली, गैस, जल आपूर्ति और अन्य जन-उपयोगी सेवाओं की वृद्धि दर 3.5 प्रतिशत एवं निर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर 3.5 प्रतिशत रही। पिछले वित्त वर्ष 2015-16 की जुलाई-सितंबर तिमाही में इन क्षेत्रों की वृद्धि दर क्रमश: 2.0 प्रतिशत, 5.0 प्रतिशत, 7.5 प्रतिशत तथा 0.8 प्रतिशत थी।

image


विनिर्माण क्षेत्र की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष की जुलाई-सितंबर तिमाही में घटकर 7.1 प्रतिशत रही जो इससे पूर्व वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 9.2 प्रतिशत थी। वृद्धि की संभावना पर नोटबंदी के प्रभाव के बारे में पूछे जाने पर मुख्य सांख्यिकीविद् टीसीए अनंत ने कहा कि विशेषज्ञों ने नोटबंदी के जो प्रतिकूल प्रभाव के बारे में बयान दिये हैं, वह बिना किसी आंकड़े के है। उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘लोग कुछ चीजों के अनुमान के आधार पर बयान दे रहे हैं। एक बार आंकड़ा आ जाता है, मैं बयान दूंगा।’’ मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियम ने कहा, ‘‘चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में जीडीपी वृद्धि दर का आंकड़ा अर्थव्यवस्था के बेहतर और स्थिर प्रदर्शन को प्रतिबिंबित करता है लेकिन दूसरी छमाही के लिये परिदृश्य को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है। हमें इस बारे में कुछ कहने से पहले इसका विश्लेषण करना होगा।’’ हालांकि सकल स्थिर पूंजी निर्माण :जीएफसीएफ: में गिरावट चिंता का कारण है। यह निवेश का संकेतक है। जीएफसीएफ वृद्धि दर चालू एवं स्थिर मूल्यों पर 2016-17 की दूसरी तिमाही में क्रमश: शून्य से 3.2 प्रतिशत तथा शून्य से नीचे 5.6 प्रतिशत थी। वहीं 2015-16 की दूसरी छमाही में यह क्रमश: 7.5 प्रतिशत तथा 9.7 प्रतिशत थी।

चुनौतियों के बारे में सुब्रमणियम ने कहा कि दूसरी तिमाही में निवेश में उल्लेखनीय रूप से कमी आयी है और इस पर नजर रखने की आवश्यकता है।पांच सौ और एक हजार रपये के नोटों पर पाबंदी के प्रभाव का जिक्र करते हुए उद्योग मंडल सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा कि यह आने वाली तिमाही में ‘अस्थायी रूप से झटका’ है। सीएसओ के आंकड़े के अनुसार स्थिर मूल्य(2011-12) पर जीडीपी 2016-17 की दूसरी तिमाही में 29.63 लाख करोड़ रपये रहा जो एक साल पहले इसी अवधि में 27.62 लाख करोड़ रपये था। जीवीए स्थिर मूल्य :2011-12: पर जुलाई-सितंबर में 27.33 लाख करोड़ रपये रहने का अनुमान है जो पिछले साल इसी तिमाही में 25.52 लाख करोड़ रपये था।

सरकार का अंतिम उपभोग व्यय(जीएफसीई) दूसरी तिमाही में चालू मूल्य पर 5.15 लाख करोड़ रपये अनुमानित है जो एक साल पहले इसी तिमाही में 4.27 लाख करोड़ रपये था। स्थिर मूल्य पर जीएफसीई आलोच्य तिमाही में 3.84 लाख करोड़ रपये अनुमानित है जो एक साल पहले इसी तिमाही में 3.33 लाख करोड़ रपये था। मुख्य सांख्यिकीविद् अनंत ने यह भी कहा कि चालू वित्त वर्ष की राष्ट्रीय लेखा आंकड़ा एक महीने पहले सात जनवरी को पेश किया जाएगा। इसका कारण यह है कि सरकार बजट एक महीने पहले पेश करेगी जबकि सामान्य रूप से फरवरी के अंतिम दिन इसे पेश किया जाता है।

सितंबर तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रहने के बीच विशेषज्ञों व भारतीय उद्योग जगत ने कहा है कि वैश्विक घटनाचक्र और नोटबंदी के कारण कम खपत के कारण आर्थिक वृद्धि दर में तात्कालिक स्तर पर नरमी आने का अनुमान है। उद्योग मंडल सीआईआई के महानिदेशक चंद्रजीत बनर्जी ने कहा,‘ नोटबंदी आने वाली तिमाहियों में वृद्धि के लिए अस्थाई झटका साबित होगी।’ इक्रा की प्रधान अर्थशास्त्री अदिति नायर ने कहा कि इन आंकड़ो के मद्देनजर ‘ जीडीपी व जीवीए वृद्धि दर संबंधी हमारे अनुमान में और कमी अपेक्षित हैं।’ इ्रका ने नोटबंदी के बाद अपने अनुमानों में कमी करते हुए दर ्रकमश: 7.5 व 7.3 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है। एसोचैम के महासचिव डीएस रावत ने कहा,‘नोटबंदी, ब्रेक्जिट, चीन की अर्थव्यवस्था में संक्रमण, विकसित देशों में संरक्षणवादी कदमों और भारतीय बैंकों की एनपीए की समस्या जैसे कारकों के चलते देश की आर्थिक वृद्धि दर में नरमी का जोखिम बना हुआ है।’ इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च के प्रधान अर्थशास्त्री सुनील कुमार सिन्हा ने कहा,‘दूसरी तिमाही के जीडीपी व जीवीए आंकड़े अपेक्षा से कम है। नोटबंदी के बाद यह वृद्धि दर हमारे अनुमान से और भी कम रहेगी।’

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें