संस्करणों
विविध

ऐसे बढ़ायें उम्र

रोजाना दंड बैठक लगाइए और अपनी उम्र बढ़ाइए

8th Nov 2017
Add to
Shares
839
Comments
Share This
Add to
Shares
839
Comments
Share

सिडनी विश्वविद्यालय में 80,000 से अधिक वयस्कों की व्यायाम दिनचर्या पर एक शोध किया गया। इस नए अध्ययन के अनुसार, पुशअप और दंड बैठक आपके जीवन में कई वर्ष और जोड़ सकते हैं। 

साभार: यूट्यूब

साभार: यूट्यूब


विभिन्न प्रकार के व्यायामों का अभ्यास और मृत्यु दर की तुलना करने के लिए हुए इस सबसे बड़े अध्ययन में पाया गया कि ताकत-आधारित व्यायाम अभ्यास से लोगों में किसी भी तरह से मौत के जोखिम में 23 प्रतिशत की कमी आई और कैंसर से संबंधित मौत में 31 प्रतिशत की कमी आई।

स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और चार्ल्स पर्किन्स सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर इमैन्यूएल स्टेमाटिकिस के मुताबिक, जब हमने उम्र के साथ-साथ शक्ति प्रशिक्षण को कार्यात्मक लाभ के सापेक्ष रखकर ध्यान दिया तो मृत्यु दर पर इसके प्रभाव को देखा। अध्ययन से पता चलता है कि मांसपेशियों की ताकत को बढ़ावा देने वाले व्यायाम को जॉगिंग या साइकिल चलाने जैसी एरोबिक गतिविधियों के रूप में स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होते हैं।

सिडनी विश्वविद्यालय में 80,000 से अधिक वयस्कों की व्यायाम दिनचर्या पर एक शोध किया गया। इस नए अध्ययन के अनुसार, पुशअप और दंड बैठक आपके जीवन में कई वर्ष और जोड़ सकते हैं। विभिन्न प्रकार के व्यायामों का अभ्यास और मृत्यु दर की तुलना करने के लिए हुए इस सबसे बड़े अध्ययन में पाया गया कि ताकत-आधारित व्यायाम अभ्यास से लोगों में किसी भी तरह से मौत के जोखिम में 23 प्रतिशत की कमी आई और कैंसर से संबंधित मौत में 31 प्रतिशत की कमी आई।

स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ और चार्ल्स पर्किन्स सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर इमैन्यूएल स्टेमाटिकिस के मुताबिक, जब हमने उम्र के साथ-साथ शक्ति प्रशिक्षण को कार्यात्मक लाभ के सापेक्ष रखकर ध्यान दिया तो मृत्यु दर पर इसके प्रभाव को देखा। अध्ययन से पता चलता है कि मांसपेशियों की ताकत को बढ़ावा देने वाले व्यायाम को जॉगिंग या साइकिल चलाने जैसी एरोबिक गतिविधियों के रूप में स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। और हमारे निष्कर्षों को मानते हुए किए गए उपचार कैंसर से मृत्यु के जोखिम को कम करने के लिए अधिक महत्वपूर्ण हो सकता है।

पसीना बहाइए, बेहतर सेहत बनाइए-

विश्व स्वास्थ्य संगठन की शारीरिक गतिविधि दिशानिर्देश वयस्कों के लिए 150 मिनट की एरोबिक गतिविधि की सलाह देते हैं, साथ ही हर हफ्ते मांसपेशियों को मजबूत करने की गतिविधियों के दो दिन देना बिल्कुल सही निर्णय होता है। इस अध्ययन से जुड़े एक और एसोसिएट प्रोफेसर के मुताबिक, सरकारों और सार्वजनिक स्वास्थ्य अधिकारियों ने शक्ति-आधारित दिशा-निर्देशों को बढ़ावा देने की उपेक्षा की है। वह ऑस्ट्रेलियाई राष्ट्रीय पोषण और शारीरिक गतिविधि सर्वेक्षण का उदाहरण देते हैं, जो अकेले एरोबिक गतिविधि के आधार पर, 53 प्रतिशत की निष्क्रियता की रिपोर्ट करता है।

हालांकि, जब विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) शक्ति-आधारित दिशा-निर्देशों को भी ध्यान में रखा जाता है, तो 85 प्रतिशत ऑस्ट्रेलियाई इन निर्देशों को पूरा करने में विफल होते हैं। एसोसिएट प्रोफेसर स्टेमाटिकिस के मुताबिक, हम उचित होने पर, व्यायाम के प्रकार का विस्तार हम दीर्घकालिक स्वास्थ्य और भलाई के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। आधार रेखा पर स्थापित कार्डियोवास्कुलर रोग या कैंसर वाले सभी प्रतिभागियों को कम व्यायाम में भाग लेने वाले पूर्व-मौजूदा परिस्थितियों के कारण स्क्विंग परिणाम की संभावना को कम करने के लिए अध्ययन से बाहर रखा गया था।

जिम जाने से बेहतर है दंड बैठक और पुशअप-

इस विश्लेषण में यह भी दिखाया गया है कि विशिष्ट उपकरण के बिना अपने स्वयं के वजन का उपयोग करने के दौरान व्यायाम किए गए थे, जिम-आधारित प्रशिक्षण के रूप में ही प्रभावी थे। जब लोग शक्ति प्रशिक्षण के बारे में सोचते हैं, तो वे तुरन्त एक जिम में वजन कम करने के बारे में सोचते हैं, लेकिन ऐसा होना जरूरी नहीं है। बहुत से लोग जिम, लागत या संस्कृति को बढ़ावा देने से भयभीत हैं, इसलिए यह जानना बहुत अच्छा है कि कोई भी क्लासिक व्यायाम कर सकता है जैसे ट्राईसप्स डिप, सीट-अप, पुश-अप। अपने घर या स्थानीय पार्क में दंड बैठक, पुशअप, दौड़ लगाने में वक्त बिताना ही ज्यादा स्वास्थ्य लाभ करा सकता है।

अमेरिकी जर्नल ऑफ़ एपिडेमियोलॉजी में प्रकाशित शोध, 80,306 से अधिक वयस्कों के एक जमा जनसंख्या के नमूने पर आधारित है, जो एनएचएस केंद्रीय मृत्यु दर रजिस्टर से जुड़े हुए इंग्लैंड और स्कॉटिश स्वास्थ्य सर्वेक्षण के लिए स्वास्थ्य सर्वेक्षण से प्राप्त आंकड़ों के अनुसार है। अध्ययन एक अवलोकन था, हालांकि आयु, लिंग, स्वास्थ्य स्थिति, जीवन शैली व्यवहार और शिक्षा के स्तर जैसे अन्य कारकों के प्रभाव को कम करने के लिए समायोजन किए गए थे। 

ये भी पढ़ें: भारत में किशोरों की आधी आबादी है एनीमिया से पीड़ित

Add to
Shares
839
Comments
Share This
Add to
Shares
839
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags