संस्करणों
विविध

सामाजिक बाध्यताएं पूरी करने रेलवे को वाणिज्यिक संगठन के रूप में चलाने पर प्रभु का ज़ोर

29th Jul 2016
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

 रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने आज कहा कि सामाजिक बाध्यताएं पूरी करने के साथ रेलवे को वाणिज्यिक संगठन जैसा चलाना भी है।

यहां महाप्रबंधकों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रभु ने कहा कि यात्री तथा माल ढुलाई यातायात बढ़ाने के रास्ते तलाशने चाहिए। साथ ही चूंकि रेलवे चुनौतियों का सामना कर रहा है, ऐसे में गैर-किराया राजस्व की हिस्सेदारी बढ़ाने के उपायों पर भी ग़ौर करना चाहिए।

image


उन्होंने कहा, ‘‘अगर हम इसे एक वाणिज्यिक उपक्रम के रूप में चलाते हैं, हम सामाजिक बाध्यताओं को पूरा नहीं कर सकते और हम सामाजिक बाध्यताएँ पूरी करते हैं, हम इसे वाणिज्यिक उपक्रम के रूप में नहीं चला सकते। लेकिन हमें इसे सामाजिक बाध्यताएँ पूरी करने के साथ इसे वाणिज्यिक उपक्रम के रूप में चलाने की जरूरत है।’’ उन्होंने कहा कि रेलवे को जापानी और चीनी रेलवे वित्तीय माडल के बीच संतुलन बनाने की जरूरत है।

सार्वजनिक-निजी भागीदारी(पीपीपी) के ज़रिए स्टेशन के पुनर्विकास पर ज़ोर देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘यह हमारे लिए एक प्राथमिकता है। राज्यों के साथ संयुक्त उद्यम काफी ज़रूरी है। रेलवे अकेले अपने संसाधनों के दम पर काम नहीं कर सकती। इसीलिए जहां भी संभव हो, पीपीपी का रास्ता तलाशना चाहिए।’’ रेल मंत्री ने कहा, ‘‘राज्यों के लाभ के लिये हम पहले ही विश्वबैंक, आईडीएफसी, आईडीएफसी, आईसीआईसीआई से बात कर चुके हैं ताकि संयुक्त उद्यम परियोजनाओं के लिये वित्त पोषण हो सके। एक होल्डिंग कंपनी रेलवे की अनुषंगी इकाइयों की जिम्मेदारी लेगी। हम रेलवे में कामकाज सुधारने के लिये कई विचारों पर काम कर रहे हैं।’’. पीटीआई

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags