संस्करणों
विविध

ये हैं हैदराबाद GES में शामिल होने वाले सबसे युवा उद्यमी

हैदराबाद में आयोजित हो रही ग्लोबल आंत्रेप्रेन्योरशिप समिट (GES) में सबसे युवा उद्यमी हेमिश फिनलेसन आजकल चर्चा का केंद्र बने हुए हैं...

yourstory हिन्दी
30th Nov 2017
Add to
Shares
3
Comments
Share This
Add to
Shares
3
Comments
Share

7वीं कक्षा में पढ़ने वाले हेमिश ने अब तक 6 ऐप बनाए हैं। वह ऐप डेवलपर बनना चाहते हैं और खुद का विडियो गेम भी डेवलप करने की ख्वाहिश रखते हैं। उन्होंने पहले ही 6 ऐप बना लिए हैं और 6 ऐप निर्माणाधीन हैं। 

हेमिश

हेमिश


हेमिश ने ऑटिज्म से पीड़ित लोगों के लिए भी ऐप बनाया है। वह खुद ऑटिस्टिक बीमारी से पीड़ित है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें बच्चे अपने में ही खोए रहते हैं और उन्हें दुनिया की कोई खबर नहीं रहती। 

हेमिश ने बताया कि इन सब कामों में उसका होमवर्क आड़े नहीं आता। वह जल्दी से होमवर्क खत्म करके अपने काम में लग जाता है। उसका फेवरेट सब्जेक्ट मैथ और कोडिंग करना है। 

हैदराबाद में आयोजित हो रही ग्लोबल आंत्रेप्रेन्योरशिप समिट (GES) में सबसे युवा उद्यमी हेमिश फिनलेसन चर्चा के केंद्र बने हुए हैं। 7वीं कक्षा में पढ़ने वाले हेमिश ने अब तक 6 ऐप बनाए हैं। वह ऐप डेवलपर बनना चाहते हैं और खुद का विडियो गेम भी डेवलप करने की ख्वाहिश रखते हैं। उन्होंने पहले ही 6 ऐप बना लिए हैं और 6 ऐप निर्माणाधीन हैं। हेमिश ने अपना पहला ऐप तब बनाया था जब वे सिर्फ 10 साल के थे। वे पहले भी जीईएस में शामिल हो चुके हैं। यह दूसरी बार है जबकि वह जीईएस में शामिल हो रहा है। हेमिश ने पहली बार 2016 में सिलिकॉन वैली में आयोजित जीईएस में भाग लिया था।

हेमिश ने कछुओं को बचाने के लिए जागरूकता फैलाने के लिए अपना पहला ऐप बनाया था। हेमिश ने ऑटिज्म से पीड़ित लोगों के लिए भी ऐप बनाया है। वह खुद ऑटिस्टिक बीमारी से पीड़ित है। यह एक ऐसी बीमारी है जिसमें बच्चे अपने में ही खोए रहते हैं और उन्हें दुनिया की कोई खबर नहीं रहती। उनके 6 ऐप्स में से एक ऐप ऐसा है जिससे ऑटिज्म स्पेक्ट्रम डिसॉर्डर (एएसडी) से पीड़ित मरीजों की मदद करने में सहायता मिल सकती है।

हेमिश का कछुओं को बचाने वाला ऐप 54 देशों में प्रयोग हो रहा है। वह दुनिया को रहने लायक बेहतर जगह बनाना चाहते है। इसीलिए उसने तकनीक को अपना औजार बना लिया है। वह इस समय यातायात नियमों के प्रति जागरुकता बढ़ाने के लिए एक नए ऐप के विकास में लगा है। फिनलेसन ने कहा, 'मैं भारत में उपस्थित होने को लेकर बेहद उत्साहित हूं।' उसने आगे कहा कि मेरा पहला प्यार टेक्नॉलजी और ऐप डिवेलप करना है, लेकिन पढ़ाई पर भी ध्यान केंद्रित करता हूं। स्कूल का काम खत्म करने के बाद मैं अपने ऐप पर काम करता हूं।

हेमिश ने बताया कि इन सब कामों में उसका होमवर्क आड़े नहीं आता। वह जल्दी से होमवर्क खत्म करके अपने काम में लग जाता है। उसका फेवरेट सब्जेक्ट मैथ और कोडिंग करना है। वह अभी वर्चुअल रिऐलिटी गेम पर काम कर रहा है जिसके माध्यम से ऑटिज्म से प्रभावित बच्चों को सुरक्षित सड़क पार करने में मदद मिल सकेगी। हेमिश लोगों से स्किल्स के में बारे में बातचीत करने के इच्छुक हैं। उसके द्वारा विकसित किए गए ऐप गूगल प्ले स्टोर के साथ ऐप्पल स्टोर पर भी उपलब्ध हैं। हेमिश ने कहा कि वह भारत आकर काफी खुश है और यहां के कारोबारी माहौल को जानने समझने की कोशिश कर रहा है।

हेमिश आईओएक्स/मूनशॉट से काफी प्रभावित है और दुनिया के सामने आने वाली समस्याओं को इस विधि से सॉल्व करना चाहता है। इन सबके अलावा वह अंतरिक्ष के क्षेत्र में भी काम करना चाहता है। उसके पिता ग्रेमी ने बताया कि उसे फेसबुक और ऐपल जैसी कंपनियों के साथ फास्ट ट्रैक पर काम करने का मौका मिल चुका है। मंगलवार को हैदराबाद में तीन दिवसीय ग्लोबल आंट्रप्रन्योरशिप समिट का उद्घाटन हुआ। इस वैश्विक सम्मेलन का आयोजन भारत और अमेरिका ने मिलकर किया।अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ने भी इस समिट में हिस्सा लेने भारत आई हैं। मंगलवार को उद्घाटन के मौके पर उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी को इकॉनमी पर एक मंत्र भी दिया। 

यह भी पढ़ें: 23 साल के 'करोड़पति' त्रिशनीत सीबीआई और पुलिस को देते हैं साइबर सिक्योरिटी की ट्रेनिंग

Add to
Shares
3
Comments
Share This
Add to
Shares
3
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags