संस्करणों
विविध

गूगल का पेमेंट ऐप 'तेज' हुआ लॉन्च, हिंदी समेत सात भाषाओं में करेगा काम

yourstory हिन्दी
20th Sep 2017
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share

इसके जरिए आप सीधे बैंक खाते से सिर्फ पेमेंट कर सकेंगे। ऐप के लॉन्च होने के 24 घंटे के अंदर ही लगभग 4 लाख लोगों ने इसे इंस्टॉल कर लिया है।

image


गूगल के इस ऐप को इंस्टॉल करने के बाद आपके फोन में 20 एमबी की जगह ले लेगा। लेकिन ऐपल के आईओएस प्लेटफॉर्म पर इसका साइज 54 एमबी है।

गूगल के वाइस प्रेसिडेंट दक्षिण पूर्व एशिया राजन आनंदन ने कहा कि 2020 तक 65 करोड़ से अधिक लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करेंगे और गूगल का मिशन समावेशी इंटरनेट बनाने पर ध्यान केंद्रित करना है।

दुनिया की सबसे बड़ी टेक्नोलजी कंपनियों में से एक गूगल ने इंडियन मार्केट के लिए खास तौर पर तैयार पेमेंट ऐप 'तेज' लॉन्च कर दिया है। कंपनी का कहना है कि इसके जरिए वह भारत में डिजिटल भुगतान को सरल व सुरक्षित बनाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। गूगल का यह पेमेंट ऐप केंद्र सरकार के यूनीफाइड पेमेंट्स इंटरफेस यूपीआई पर आधारित है जो एंड्रायड व आईओएस चालित स्मार्टफोनों पर काम करेगा। खास बात यह है कि इस ऐप के जरिए लेनदेन करने पर कोई फीस या चार्जेस नहीं लगेंगे। साथ ही यूजर्स इसके जरिए अपने बैंक खातों से सीधे भुगतान कर सकेंगे और पैसा निकाल सकेंगे।

गूगल के वाइस प्रेसिडेंट सीजर सेनगुप्ता ने कहा, यह प्रोडक्ट भारत के लिए बनाया गया है। कई सारे क्षेत्र हैं जिनमें भारत पश्चिमी देशों से आगे निकल जाएगा और ऐसा एक क्षेत्र भुगतान और कॉमर्स है। उन्होंने कहा कि 'तेज' ऐप अंग्रेजी और सात भारतीय भाषाओं हिंदी, बंगाली, गुजराती, कन्नड़, मराठी, तमिल और तेलुगु में उपलब्ध है और देश भर में लोग इसका आसानी से इस्तेमाल कर सकते हैं। हालांकि दूसरे पेमेंट ऐप की तरह इसमें पैसा स्टोर नहीं किया जा सकता। इसके जरिए आप सीधे बैंक खाते से सिर्फ पेमेंट कर सकेंगे। ऐप के लॉन्च होने के 24 घंटे के अंदर ही लगभग 4 लाख लोगों ने इसे इंस्टॉल कर लिया है।

हाल ही में विशेषकर नोटबंदी के बाद देश में डिजिटल भुगतान में तेजी आई है। पेटीएम जैसे मोबाइल वालेट के साथ साथ क्रेडिट व डेबिट कार्ड के जरिए भुगतान बढ़ा है। फ्लिपकार्ट, ओला व उबर ने हाल ही मे यूपीआई को अपनाया है। गूगल की वाइस प्रेसिडेंट तथा विा उत्पाद प्रमुख डायना लेफील्ड ने कहा, 'हमारी प्रतिस्पर्धा नकदी कैश से है। इस पहल के जरिए हम ज्यादा से ज्यादा लोगों को नकदी के बजाय डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहित करना चाहते हैं। यहां अनेक कंपनियों के लिए बड़े अवसर हैं।'

गूगल के इस ऐप को अपने दोस्तों को रेफर करने पर आपको 51 रुपये प्रति रेफरल इंसेटिव भी मिलेगा। वित्तमंत्री अरुण जेटली ने इस 'ऐप' को समारोह में पेश किया। उन्होंने उम्मीद जताई की कि बाजार में अधिक उन्नत प्रौद्योगिकी आने के साथ ही डिजिटल भुगतान में और तेजी आयेगी। गूगल के वाइस प्रेसिडेंट दक्षिण पूर्व एशिया राजन आनंदन ने कहा कि 2020 तक 65 करोड़ से अधिक लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करेंगे और गूगल का मिशन समावेशी इंटरनेट बनाने पर ध्यान केंद्रित करना है।

एंड्रॉयड प्लेटफॉर्म पर गूगल तेज ऐप का साइज 8 एमबी है, लेकिन इसके प्रतिद्वंदी कंपनियों के ऐप का साइज इससे कम ही है। जैसे फ्लिपकार्ट का 'फोन पे' 4.2 MB का है तो वहीं भारत सरकार का भीम ऐप सिर्फ 2.99 एमबी का ही है। गूगल के इस ऐप को इंस्टॉल करने के बाद आपके फोन में 20 एमबी की जगह ले लेगा। लेकिन ऐपल के आईओएस प्लेटफॉर्म पर इसका साइज 54 एमबी है। इस ऐप को इंस्टॉल करने के बाद आपके सामने हिंदी, बांग्ला, गुजराती, कन्नड़, मराठी, तमिल और तेलुगु भाषाओं के विकल्प दिखेंगे। जिसमें आप अपने मन मुताबिक भाषा को चुन सकते हैं। नंबर को चुनने के बाद आपको अपना नंबर डालना होगा जो बैंक खाते से संबद्ध हो। इसको इस्तेमाल करने के लिए आपके पास गूगल का जीमेल खाता भी होना जरूरी है।

यह भी पढ़ें: 'बंधन तोड़' ऐप के जरिए बिहार में बाल विवाह रोकने की मुहिम शुरू

Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें