संस्करणों
विविध

भारत में किशोरों की आधी आबादी है एनीमिया से पीड़ित

yourstory हिन्दी
2nd Nov 2017
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share

एनीमिया देश के किशोरों में सबसे बड़ी समस्या है। विशेषज्ञों के मुताबिक, 50% से अधिक शरीर में खनिज लोहा की कमी के कारण बीमारी से पीड़ित हैं। ये दुनिया 1.2 अरब किशोरावस्था का घर है और दुनिया में किशोरावस्था की भारत में सबसे बड़ी आबादी है, 253 मिलियन। और विश्व में हर पांचवें किशोरावस्था एक भारतीय है और हर दूसरा किशोर एक एशियाई है।

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर


एनीमिया से पीड़ित लोगों के शरीर में ऑक्सीजन ले जाने के लिए पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है और कम स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का अर्थ मस्तिष्क की यात्रा में कम ऑक्सीजन का होना। इसका परिणाम संज्ञानात्मक गिरावट के रूप में हो सकता है। यह कई स्थितियों के कारण हो सकता है, जिसमें किडनी की बीमारी और पोषण संबंधी कमियां शामिल हैं।

एनीमिया के लक्षणों में थकान, त्वचा का दर्द, सांस की तकलीफ, हल्कापन, चक्कर आना या तेज दिल की धड़कन शामिल हो सकते हैं। उपचार अंतर्निहित निदान पर निर्भर करता है। लोहे की कमी के लिए लोहे की खुराक का इस्तेमाल किया जा सकता है। विटामिन बी की खुराक कम विटामिन स्तर के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

एनीमिया देश के किशोरों में सबसे बड़ी समस्या है। विशेषज्ञों के मुताबिक, 50% से अधिक शरीर में खनिज लोहा की कमी के कारण बीमारी से पीड़ित हैं। ये दुनिया 1.2 अरब किशोरावस्था का घर है और दुनिया में किशोरावस्था की भारत में सबसे बड़ी आबादी है, 253 मिलियन। और विश्व में हर पांचवें किशोरावस्था एक भारतीय है और हर दूसरा किशोर एक एशियाई है।

एनीमिया से पीड़ित लोगों के शरीर में ऑक्सीजन ले जाने के लिए पर्याप्त स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं की कमी होती है। और कम स्वस्थ लाल रक्त कोशिकाओं का अर्थ मस्तिष्क की यात्रा में कम ऑक्सीजन का होना। इसका परिणाम संज्ञानात्मक गिरावट के रूप में हो सकता है। यह कई स्थितियों के कारण हो सकता है, जिसमें किडनी की बीमारी और पोषण संबंधी कमियों शामिल हैं।

कितना खतरनाक है कम उम्र में एनीमिया-

एनीमिया के लक्षणों में थकान, त्वचा का दर्द, सांस की तकलीफ, हल्कापन, चक्कर आना या तेज दिल की धड़कन शामिल हो सकते हैं। उपचार अंतर्निहित निदान पर निर्भर करता है। लोहे की कमी के लिए लोहे की खुराक का इस्तेमाल किया जा सकता है। विटामिन बी की खुराक कम विटामिन स्तर के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। रक्त के संक्रमण के लिए रक्त संक्रमण का इस्तेमाल किया जा सकता है। रक्त के गठन को प्रेरित करने के लिए दवा का उपयोग किया जा सकता है यदि शरीर का रक्त उत्पादन कम हो।

इंटरनेशनल एसोसिएशन फॉर अडोलसेंट हेल्थ (आईएएएएच) के अध्यक्ष डॉ सुसान सॉयर के मुताबिक, किशोरावस्था एक महत्वपूर्ण जीवन चरण है। इस आयु में जब पोषण, गुणवत्ता की शिक्षा और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में निवेश किया जा सकता है जो कि वयस्क जीवन में गहरा लाभांश प्रदान करता है। किशोरावस्था, जो कि यौवन से शुरू होती है और मस्तिष्क परिपक्वता समाप्त होने तक जारी रहती है। यह एक ऐसी अवधि होती है जो जीवन की महत्वपूर्ण घटनाएं लेती है, जैसे कि शिक्षा से रोजगार प्राप्ति की ओर बढ़ना और नए रिश्तों, परिवारों और माता-पिता के बीच सामंजस्य स्थापित करना।

सरकारें की क्या हैं योजनाएं-

एनआईटीआई के सदस्य डॉ विनोद पॉल के मुताबिक, एनीमिया एक बड़ी चुनौती है। हालांकि हम अक्सर गैर-संचारी रोगों की बात करते हैं जिन्हें जरूरी ध्यान के साथ निपटा लिया जाना चाहिए। अगर भारत को जनसांख्यिकीय लाभांश से लाभ होता है, तो किशोर स्वास्थ्य में निवेश करना महत्वपूर्ण है। प्रमुख चुनौतियों के बीच, किशोरों पर गुणवत्ता के आंकड़ों की कमी थी। जमीन पर महत्वाकांक्षी किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम को लागू करना उतना ही कठिन था जितना ही ये बात स्वीकार करना कि हमारे देश के ज्यादातर किशोर एनीमिया से पीड़ित हैं।

नवनियुक्त स्वास्थ्य सचिव प्रीती सूडान के मुताबिक, सरकार स्कूलों में प्रतिरक्षात्मक और पौष्टिक खान-पान को बढ़ावा देने वाली रणनीतियों को अपनाकर भारत को एनीमिया मुक्त बनाने की प्रक्रिया में है। उन्होंने बताया कि हमें किशोरों के कल्याण के लिए नैदानिक और सार्वजनिक स्वास्थ्य पहलों को मजबूत करने की जरूरत है। किशोरों के लिए विभिन्न मंत्रालयों द्वारा चलाए जा रहे विभिन्न कार्यक्रमों को बेहतर परिणामों के लिए एकीकृत करने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें: रिसर्च: शराब पीने के बाद इसलिए बात करते हैं लोग अंग्रेजी में

Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें