'राइडसेफ', महिलाओं का सफर सुरक्षित करने की कोशिश

By Ratn Nautiyal
July 06, 2015, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:20:58 GMT+0000
'राइडसेफ', महिलाओं का सफर सुरक्षित करने की कोशिश
महिलाओं की सुरक्षा के लिए रखी गयी एप्प की नीव
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

रात को अकेले सफ़र करना किसी के लिए भी बुरा अनुभव हो सकता है। ऐसे मामलों में आपके दोस्त और घरवाले, आपके साथ पूरी यात्रा के दौरान लगातार फ़ोन और मैसेज से सम्पर्क में रहते हैं ताकि आप सुरक्षित पहुंच सकें।

आजकल ज्यादातर टैक्सी सर्विस कम्पनियां ट्रैकिंग की सुविधा देती हैं, जिसमें आपको लगातार टैक्सी सर्विस के उपभोक्ता को ट्रैक करना पड़ता है। कई लोगों के लिए यह थकाऊ अनुभव हो सकता है। राईडसेफ़ का लक्ष्य अलग सोच के साथ इस मुश्किल को आसान करना है।

image


राईडसेफ़ क्या है?

राईडसेफ़ एक मोबाइल एप्प है जिसका मकसद उपभोक्ता की रोज़ की आवाजाही सुरक्षित बनाना है। यह आपके सफ़र का शुरुआत से लेकर आख़िरी तक वास्तविक समय में पता लगाता है। दूसरी ट्रैकिंग सर्विसेज के मैन्युअल तरीकों से अलग राईडसेफ़ उपभोक्ता से बस उसकी मंज़िल का पता पूछता है। संभावित ख़तरे के मामले में यह एप्प उपभोक्ता और उनके चुने हुए आपातकालीन सम्पर्क को सतर्क कर देता है।

इससे आपको ट्रैक कर रहे करीबियों को राहत की सांस मिलती है। उन्हें बार बार आपको ट्रैक करने की ज़रूरत नहीं पड़ती, केवल यात्रा की किसी मुश्किल में उन्हें एप्प से सूचित कर दिया जाता है। वैसे तो एप्प का मुख्य उपयोग सुरक्षा है, लेकिन इसके अलावा लोगों द्वारा “मीटिंग की जगहों” के आदान-प्रदान में भी इसे उपयोग में लाया जा सकता है।

image


उपयोग का तरीका

-उपभोक्ता टैक्सी, ऑटो रिक्शा या अपने वाहन में बैठते हुए गंतव्य स्थान डालें।

-हर यात्रा में उपभोक्ता “ट्रिप व्यू” लिंक में सन्देश देने के लिए कुछ संपर्कों को चुन सकता है। यह सन्देश पाने वालों के लिए ज़रूरी नहीं है कि एप्प इंस्टाल हो। जब उपभोक्ता अपने गंतव्य तक पहुंच जाएगा तब दूसरा सन्देश उनके संपर्कों को मिलेगा।

-अगर ड्राइवर तय किये गए रास्ते से अलग ले जाता है तो एप्प उपभोक्ता, चुने हुए दोस्तों, परिवार के सदस्यों और राइडसेफ़ सपोर्ट टीम को सतर्क कर देता है।

-राइडसेफ़ उपभोक्ता की हर यात्रा का नया लिंक बनाता है, जिससे उनकी निज़ी जानकारियां सुरक्षित रहती हैं। उपभोक्ता के गंतव्य पर पहुंचते ही यह स्वतः ही ट्रैक करना बंद कर देता है। मौजूदा जगह के आलावा एप्प, उपयोगकर्ता को उनके रास्ते की जानकारियां भी देता है, जैसे किस गति और कितने समय में यात्रा की गयी और उन्होंने जगह कितनी सटीक ट्रैक की है।

निशीथ कहते हैं “आपके स्थान से हमारे सिक्योर सर्वर्स पर सम्पर्क बनता है और यह जानकारी किसी के साथ साझा नहीं की जाती, यह बस सुनिश्चित करता है कि आप सुरक्षित घर पहुंचे”

राइड सेफ़ के सूत्रधार

यह एप्प बीआईटीएस और आईआईटी से स्नातक क्रमशः निशीथ और गीत गर्ग ने विकसित किया है, इसके अलावा इन दोनों ने जगह के आधार पर बनी मैसेजिंग एप्प “पिनचैट” भी डेवलप की है। इससे पहले दोनों मशीन इंजीनियर्स के तौर पर अमेज़न में कार्य कर रहे थे।

राइडसेफ़ एक निजी आवश्यकता बनकर तब सामने आयी, जब इन दोनों ने महसूस किया कि सफ़र की चिंता सभी लोगों के लिए समस्या है। निशीथ कहते हैं की एक बार उनकी बहन रात में एयरपोर्ट से वापस आ रही थी। पूरी यात्रा के दौरान वह अपनी बहन को करीब हर दस मिनट में कॉल करते रहे और उनसे व्हट्सएप्प पर यात्रा में पड़ने वाले स्थानों के नाम देने को कहते रहे। उन्हें इस समस्या में सहायता के लिए कोई उचित एप्प नहीं मिला। इस कारण वह ज्यादा ध्यान से इसका समाधान ढूँढने में लग गए। गीत के साथ मिलकर उन्होंने “रियलटाइम रूट डेविएशन डिटेक्शन” इंजन बनाया जिसने राइडसेफ़ का आधार रखा।

निशीथ अपना अनुभव बताते हैं “हमने स्थान, गति, यात्रा की दिशा और अन्य आस-पास के माहौल के इनपुट को लेकर उन्हें वास्तविक समय में हमारे क्लाउड सर्वर्स, कस्टम बिल्ट ‘रियल टाइम रूट डेविएशन डिटेक्शन’ इंजन में चलाया।”

इंजन में लर्निंग मॉडल्स लगे होने से यह यात्राओं के डाटा के साथ हर रोज़ बेहतर होता जाता है। इसकी टीम ने यह भी पुष्टि की है कि एप्प दुनिया में किसी भी जगह कार्य कर सकता है लेकिन एसएमएस शुल्क अधिक होने की वजह से एप्प अभी भारत में ही सीमित है।

अब तक वे 14.4 किमी की औसत से करीब 1000 यात्राओं को ट्रैक कर चुके हैं। राइड सेफ़ एप्प निशुल्क डाउनलोड और उपयोग के लिए उपलब्ध है।

लोगों के लिए?

एप्प के पीछे की सोच को सही तरीके से लागू किया गया है। हमारे लिए बड़ी बात यह है कि एप्प को जन (पब्लिक) और निजी (प्राइवेट) दोनों यातायात में उपयोग किया जा सकता है।

हमने शुरू में एप्प का प्रयोग खुद पर ही किया, हमने ट्रिप लिंक यूआरएल से अपनी और दोस्तों की जगहों को ट्रैक किया। हम यह समझ पा रहे थे कि वे एक निश्चित समय में कितना सफ़र कर रहे हैं।

image


और क्या बेहतर हो सकता है?

यह एप्प यूजर हिस्ट्री नहीं रखता अगर उसका यूआरएल लिंक किसी को दिया ना गया हो। दूसरा इस एप्प में इमरजेंसी कांटेक्ट के लिए चैट विंडो फीचर होने की जरुरत है, जिससे इमरजेंसी और ग़लतफहमी के मामलों को दूर रखा जा सके।

इस एप्प का लक्ष्य महिलाओं की सुरक्षा की समस्या का हल निकलना है, ताकि वह चिंता मुक्त होकर यात्रा कर सकें। इस एप्प में एक सरल समाधान बनने की क्षमता है। कुछ और फीचर जोड़ और संचार को उपभोक्ताओं के लिए और अधिक सरल बनाकर इसकी पहुँच को आगे बढ़ाया जा सकता है।

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close