संस्करणों

आप नया उद्यम लगाने की सोच रहे हैं, 6 बातें ज़रूर याद रखें...

यह लेख मूलतः अंग्रेजी में लिखा गया है। इस लेख के लेखक श्री संदीप सभरवाल एसएलसीएम समूह के सीईओ हैं। यह समूह कृषि-लाॅजिस्टिक्स के क्षेत्र में काम करता है और यह इस क्षेत्र की अग्रणी कंपनियों में से एक है। एसएलसीएम देश के 17 राज्यों में फैले हुए 760 से भी अधिक गोदामों के अलावा 15 शीतग्रहों के एक प्रौद्योगिकी सक्षम नेटवर्क का प्रबंध करता है जो 9.58 मिलियन वर्गफुट के क्षेत्र में फैले हुए हैं और जिनकी कुल क्षमता 1.76 मीट्रिक टन की है।

19th Aug 2015
Add to
Shares
13
Comments
Share This
Add to
Shares
13
Comments
Share

अब से 18 वर्ष पूर्व मैंने जब अपने पारिवारिक दालों के प्रसंस्करण के व्यापार में अपना कदम रखा तब मुझे वस्तुओं की अनुपल्बधता से संबंधित कई चुनौतियों से रूबरू होने के अलावा भंडारण की प्रक्रिया के दौरान होेने वाले नुकसान के साथ-साथ फसलों के संरक्षण की पुरानी और बेकार पद्धतियों और एक संरचित पूंजी की अनुपलब्धता से भी भुगतना पड़ा। लगातार सामने आते इन मुद्दों ने मुझे समाधान तलाशने के लिये भी प्रेरित किया। और समाधान के संघर्षों के इसी दौर के फलस्वरूप परिवार की वंशावली को बरकरार रखते हुए एसएलसीएम समूह (सोहन लाल कमोडिटी मैनेजमेंट) का जन्म हुआ, जैसा कि इसके नाम से ही साफ होता है।

image


यह समूह वृद्धि करते हुए व्यापार में काफी अच्छा नाम कमा रहा है लेकिन यह पूरा सफर इतना आसान नहीं रहा है जितना लगता है। इस सफर के दौरान मैं अपने निर्णयों, चाहे वे अच्छे रहे हों या बुरे, के माध्यम से हुत से सबक सीखने में सफल रहा हूँ। आज हब हमारा हमूह एक स्थिर स्थिति में है तो मैं कड़ी मेहनत के उस दौर के कुछ सबकों को साझा करना चाहता हूँ जो अपने दम पर कुछ अलग करने का सपना देखने वाले युवाओं के लिये काफी उपयोगी साबित हो सकता है।

1- अपने ऊपर भरोसा करो

सामने वाला आपपर तभी भरोसा करेगा जब आप स्वयं पर विश्वास करेंगे। लोगों को यकीन दिलवाने के साथ अपने विचार को सफलतापूर्वक निष्पादित करने के लिये आपको पहले अपने विचार पर विश्वास होना चाहिये। चाहे आपको दिन-रात एक करना पड़े लेकिन आपका अपने उद्यम में विश्वास कम नहीं होना चाहिये। जब मैंने एसएलसीएम की स्थापना की मेरे आसपास के अधिकतर लोगों की प्रतिक्रिया इतनी उत्साहजनक नहीं थी। सिर्फ मेरे परिजनों और मित्रों ने ही नहीं बल्कि इस क्षेत्र में बीते काफी समय से व्यवसाय कर रही बड़ी कंपनियों ने भी इसे लेकर अपनी आशंकाएं व्यक्त की थीं। यह आशंकाएं मुख्यतः इस वजह से थीं क्योंकि मैं इस क्षेत्र के पुराने और स्थापित नियमों को बदलते हुए व्यवसाय के नए प्रतिमानों के साथ आने का प्रयास कर रहा था और व्यापार करने की मेरी अवधारणा बिल्कुल नई होने के अलावा विशिष्ट थी जो पहली बार पेश की जा रही थी। मैं एक बिल्कुल नवीन प्रक्रिया को सामने ला रहा था जबकि दूसरों ने कभी एक प्रक्रिया संचालित दृष्टिकोंण वाले भांडारणगृह के बारे में सोचा भी नहीं था। मेरे सामने सबसे बड़ी चुनौती यह थी कि मैं इस क्षेत्र के स्थापित प्रतिमानों को बदल रहा था क्योंकि यह क्षेत्र कभी भी आकर्षक नहीं था और मैं इसके नीतिगत ढांचे में अमूलचूल परिवर्तन लाने का प्रयास कर रहा था। आज यह समूह इस क्षेत्र में एक बहुत बड़े बदलाव के वाहक के रूप में जाना जाता है जिसने प्रक्रियाओं को परिभाषित करने के अलावा समूची आपूर्ति श्रृंखला को अभिनव उत्पादों और सेवाओं के साथ पूर्ण किया है। मुझे बहुत प्रसन्नता होती है कि मैं अपनी तैयार की हुई योजनाओं को निष्पादित करने में सफलल रहा।

2- आपके गलत निर्णय इतने भी बुरे नहीं होते हैं

मनुष्य को गलतियों का पुतला ऐसे ही नहीं कहा जाता है। कई बार कोई निणर्य बहुत मुश्किल होता है और ऐसा लगता है कि आप एक ठीक निर्णय लेने में सफल नहीं रहेंगे। कई बार ऐसा होता है कि आप बिना किसी सकारात्मक परिणाम या जवाब के बोर्डरूम में अपने और दूसरों के कई महत्वपूर्ण घंटे बर्बाद कर देते हैं। कई बार निर्णय गलत और महत्वहीन भी हो जाते हैं। लेकिन सफलता की यात्रा के दौरान ऐसी गलतियों की अनदेखी करते हुए ठीक को पहचानकर आगे बढ़ते रहना बहुत जरूरी हो जाता है। मैं अपने प्रारंभिक दौर के उदाहरण को आपके साथ साझा करता हूँ जब मैं ब्रांडिंग पर होने वाले खर्च में कमी करना चाहता था। लेकिन वह मेरा एक गलत निर्णय था क्योंकि धारणाओं को बदलने के लिये ब्रांडिंग बहुत जरूरी थी और ऐसे में वह खर्च न होते हुए एक प्रकार का निवेश था। दूरगामी परिणामों के रूप में इस एक निर्णय की वजह से हमारी ब्रांडिंग का काम पिछड़ गया लेकिन इसी के साथ मुझे परसेप्शन मैनेजमेंट की अहमियत के बारे में पता चल गया। और इसने मेरी आगे की यात्रा के लिये नींव रखी।

3- उपभोक्ता को किसी अन्य चीज के मुकाबले प्राथमिकता दें

अगर आपके उपभोक्ता आपसे खुश और संतुष्ट हैं तो विकास और सफलता को अपने कदम चूमने से कोई नहीं रोक सकता और एक कंपनी के मामले में वे मुफ्त के विज्ञापन की तरह काम करते हैं। आपका पूरा ध्यान अपने उपभोक्ता को सबसे बेहतरीन उत्पाद उपलब्ध करवाने के अलावा उन्हें सबसे विश्वयनीय ग्राहक सेवा की अनुभूति देने पर होना चाहिये। एसएलसीएम में मैंने अपने उपभोक्ताओं को सर्वापरि मानते हुए अत्याधुनिक प्रक्रियाओं और तकनीक के उपयोग को प्रारंभ किया। इसका सबसे आदर्श उदाहरण यह है कि हमारे सबसे पहले पांच उपभोक्ता जिन्होंने वर्ष 2009 में सबसे पहले हमारी सेवाओं का फायदा उठाया आज भी हमारे उपभोक्ता है और निश्चित ही वे हमारी सेवाओं से बहुत खुश हैं।

4- सुझावों के लिये खुद को खुला रखें

इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपने किसी प्रतिष्ठित बिजनेस स्कूल से स्नातक किया है या आप अपने स्कूली दिनों से ही एक मेधावी छात्र रहे हैं। आपको खुद को सुझावों के लिये खुला रखना होगा। एक कंपनी का सीईओ या एमडी होने पर आपके भीतर हठ या मालिक वाली प्रवृति नहीं पैदा होनी चाहिये क्योंकि एक अच्छा विचार कहीं से भी आपके सामने आ सकता है फिर चाहे वह प्रबंधन में शीर्ष पद पर काम कर रहे व्यक्ति से आए या किसी प्रशिक्षु से या फिर किसी ऐसे व्यक्ति से भी मिल सकता है जिसका आपकी कंपनी से कोई संबंध तक न हो। अगर आप किसी निर्णय को लेकर असमंजस की स्थिति में हैं तो निश्चित रूप से सबसे राय लें लेकिन एक अगुवा होने के नाते अंतिम निर्णय आपको स्वयं ही लेना है।

5- अपनी टीम पर भरोसा करो

आपको अपना अधिकतर समय अपनी टीम के साथ व्यतीत करना होता है और वे आपके दूसरे परिवार की तरह होते हैं। भरोसा, अृापसी समझ और एकजुटता किसी भी कंपनी के विकास के सबसे महत्वपूर्ण घटक हैं। समय के साथ आप प्रत्येक व्यक्ति की क्षमताओं के बारे में जानने लगेंगे और आप भी उनके साथ विकसित होंगे। इसके विपरीत कई बार ऐसा मौका आएगा जब आपको कुछ कठिन निर्णय लेने पड़ेंगे और ऐसे सदस्यों को जो आपकी कंपनी के लिये उपयुक्त नहीं हैं या जो कार्य के प्रति आपके मूल्यों पर खरे नहीं उतर रहे हैं उनसे अपने रास्ते जुदा करने होंगे। अगर आपके सामने ऐसा मौका आता है तो पीछे न हटें क्योंकि आप इसके सकारात्मक प्रभाव को आने वाले समय में महसूस कर पाएंगे।

6- अंत में, अपना ध्यान रखें और तनाव से मुक्त रहें

कोई भी स्टार्टअप आपका समय और समर्पण मांगता है और कई बार आप तनाव और खराब स्वास्थ्य का सामना कर सकते हैं। तो ऐसे में अपना ख्याल रखें और खुद को तनाव से दूर रखने का प्रयास करते हुए उन तरीकों को खोजें जो आपको फिर से ऊर्जावान बनने में सहायता करें। आपके स्टार्टअप को एक स्वस्थ नेतृत्व का आकांक्षा है और आपको यह सुनिश्चित करना चाहिये।

Add to
Shares
13
Comments
Share This
Add to
Shares
13
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags