संस्करणों

मलेरिया के शक्तिशाली मच्छरों से लड़ने को वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाली नई दवा

अब नहीं होगी मलेरिया से किसी व्यक्ति की मौत...

18th Sep 2017
Add to
Shares
41
Comments
Share This
Add to
Shares
41
Comments
Share

ट्यूलेन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक नई दवा विकसित कर ली है जो कि मलेरिया से लड़ने में अब तक की मौजूद दवाइयों से ज्यादा कारगर होगी। लैंसेंट इंफेक्शस डिजीजेज के हालिया रिलीज अंक में ये शोध प्रकाशित हुआ है। ये निष्कर्ष आज के समय में इसलिए भी ज्यादा जरूरी हो गए हैं क्योंकि दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने ये चेतावनी दे रखी है कि मलेरिया को पैदा करने वाले मच्छर मौजूदा दवाइयों के लिए प्रतिरक्षा तंत्र विकसित करने में सफल हो चुके हैं। 

image


मलेरिया एक जानलेवा रोग है। अगर उचित समय पर मलेरिया की चिकित्सा न की जाए तो रोगी की मौत हो सकती है। इसके अलावा अगर मलेरिया की चिकित्सा में लेट हो जाए तो रोगी का कोई भी अंग लकवाग्रस्तत हो सकता है। मलेरिया होने का कोई निश्चित समय नही होता है, लेकिन बदलते मौसम में मलेरिया का संक्रमण फैलने की संभावना ज्यासदा होती है।

एक परजीवी द्वारा संक्रमित मच्छरों से मलेरिया फैलता है, जिससे विश्वभर में 200 मिलियन लोगों पीड़ित होते हैं और सालाना 400,000 से अधिक मौतें होती हैं। दशकों तक, क्लोरोक्वाइन का इस्तेमाल मलेरिया के इलाज के लिए किया जाता रहा है, जब तक कि प्लास्मिडियम फॉल्सपीरम ने प्रतिरोध विकसित नहीं किया था। अब एक ड्रग संयोजन दस्तकारी और ल्यूफिंटाइन मिलकर मलेरिया के लिए प्राथमिक उपचार के रूप में काम करेंगे। 

ट्यूलेन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने एक नई दवा विकसित कर ली है जो कि मलेरिया से लड़ने में अब तक की मौजूद दवाइयों से ज्यादा कारगर होगी। लैंसेंट इंफेक्शस डिजीजेज के हालिया रिलीज अंक में ये शोध प्रकाशित हुआ है। और ये सारे निष्कर्ष एफडीए सुपरविजन में क्लीनिकल ट्रायल को पास करक प्रकाशित किए गए हैं। ये निष्कर्ष आज के समय में इसलिए भी ज्यादा जरूरी हो गए हैं क्योंकि दुनिया भर के वैज्ञानिकों ने ये चेतावनी दे रखी है कि मलेरिया को पैदा करने वाले मच्छर मौजूदा दवाइयों के लिए प्रतिरक्षा तंत्र विकसित करने में सफल हो चुके हैं। ऐसे में काफी संभव है कि उन पर छिड़काव और दवाइयों का कोई असर ही न हो। मलेरिया से लड़ने के लिए नई और परिवर्द्धित दवाइयों का बनाया जाना बहुत जरूरी हो गया था।

एक्यू-13 नामक ये दवा, एक सप्ताह के भीतर रोग के लिए जिम्मेदार परजीवी को साफ करने में सक्षम है, जो सबसे व्यापक रूप से प्रयुक्त उपचार आहार की प्रभावशीलता से मेल खाती है। सार्वजनिक स्वास्थ्य के वरिष्ठ लेखक और ट्यूलेन विश्वविद्यालय के स्कूल में उष्णकटिबंधीय चिकित्सा के प्रोफेसर डॉ डोनाल्ड क्रोगस्टेड के मुताबिक, चिकित्सकीय परीक्षण के परिणाम असाधारण रूप से प्रोत्साहित कर रहे हैं। मलेरिया के इलाज के लिए मौजूदा पहली लाइन की सिफारिश की तुलना में, नई दवा बहुत अच्छी तरह से काम करती है। 

एक परजीवी द्वारा संक्रमित मच्छरों से मलेरिया फैलता है, जिससे विश्वभर में 200 मिलियन लोगों पीड़ित होते हैं और सालाना 400,000 से अधिक मौतें होती हैं। दशकों तक, क्लोरोक्वाइन का इस्तेमाल मलेरिया के इलाज के लिए किया जाता रहा है, जब तक कि प्लास्मिडियम फॉल्सपीरम ने प्रतिरोध विकसित नहीं किया था। अब एक ड्रग संयोजन दस्तकारी और ल्यूफिंटाइन मिलकर मलेरिया के लिए प्राथमिक उपचार के रूप में काम करेंगे। हालांकि प्रतिरोध कुछ देशों में दवा संयोजन के लिए भी विकसित हो रहा है।

कैसे किया गया यह शोध-

शोधकर्ताओं ने 66 वयस्क पुरुषों, जो कि मलेरिया से पीड़ित थे, उन्हें अपने सेंटर पर भर्ती कराया। उनमें मलेरिया का स्तर काफी तीव्र था, लेकिन उन्हें जीवन का खतरा नहीं था। आधे मरीजों का एक्यू -13 के साथ इलाज किया गया और अन्य आधे मरीजों को ल्यूफैंट्रिन की दवा के इलाज में। दोनों दवा समूहों में समान इलाज दर थी हालांकि एक्यू-13 समूह में पांच प्रतिभागियों ने अध्ययन छोड़ दिया था या फॉलो-अप करने के दौरान खो दिया गया था। इससे पहले कि इसे नए उपचार के रूप में व्यापक रूप से अनुशंसित किया जा सके, शोधकर्ताओं ने महिलाओं और बच्चों सहित अधिक प्रतिभागियों को दवा का परीक्षण विस्तार करने की उम्मीद की है।

क्रॉगस्टैड ने कहा कि एक ही जैव प्रौद्योगिकी टीम में मदद की नई दवा विकसित भी ऐसी दवाओं की पहचान की है जो भी दवा प्रतिरोधी परजीवी के खिलाफ तगड़ा काम करेगी। संभावित दीर्घकालिक प्रभाव एक दवा से भी बड़ा कारक है। यहां पर ये संकल्पनात्मक कदम यह है कि यदि आप प्रतिरोध को अच्छी तरह से समझते हैं, तो आप वास्तव में दूसरों को विकसित करने में सक्षम होंगे। हमने 200 से अधिक अनुरूपता संश्लेषित किए हैं और उनमें से 66 प्रतिरोधी परजीवी के खिलाफ काम किया है।

मलेरिया खतरनाक ही नहीं घातक-

मलेरिया मलेरिया एक जानलेवा रोग है। अगर उचित समय पर मलेरिया की चिकित्सा न की जाए तो रोगी की मौत हो सकती है। इसके अलावा अगर मलेरिया की चिकित्सा में लेट हो जाए तो रोगी का कोई भी अंग लकवाग्रस्तत हो सकता है। मलेरिया होने का कोई निश्चित समय नही होता है, लेकिन बदलते मौसम में मलेरिया का संक्रमण फैलने की संभावना ज्यासदा होती है। गर्मी और बरसात में मलेरिया के मच्छर ज्यादा पैदा होते हैं। सामान्यतः मलेरिया से ग्रसित होने वाले सभी लोगों को इससे खतरा होता है। खासतौर पर जब एनोफिलिस मच्छर प्लाज्मोडियम फाल्सीपेरम जीवाणु शरीर में फैलाता है।

ये परजीवी न सिर्फ जानलेवा मलेरिया फैलाते है बल्कि कई घातक बीमारियों को भी जन्म देते हैं। मलेरिया परजीवी हर व्यभक्ति पर अलग-अलग रूप में प्रभाव डालते है। इन प्रभावों का असर मलेरिया से ग्रसित होने वाले रोगी की कैटेगिरी पर निर्भर करता है। मलेरिया में सबसे अधिक खतरा जिन लोगों को होता है उनमें शामिल है गर्भवती महिलाएं। गर्भवती युवतियों में मलेरिया होने से उनके बच्चों का वजन आवश्यरकता से कम होता है साथ ही वे कई बीमारियों या फिर संक्रमण का भी शिकार हो सकते हैं। एनीमिया से ग्रस्तो हो सकते है। इतना ही नहीं ऐसे बच्चोंह की एक वर्ष तक मृत्यु के चांस भी बने रहते है।

ये भी पढ़ें: HIV वायरस की पहचान करने का कामगार तरीका वैज्ञानिकों ने खोज निकाला

Add to
Shares
41
Comments
Share This
Add to
Shares
41
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें