मिलें देश की इस होनहार एथलीट से जिन्हें चुना गया ‘वुमेन ऑफ द ईयर’

By शोभित शील
December 03, 2021, Updated on : Wed Dec 08 2021 05:02:59 GMT+0000
मिलें देश की इस होनहार एथलीट से जिन्हें चुना गया ‘वुमेन ऑफ द ईयर’
वर्ल्ड एथलेटिक्स ने अंजू को इस साल के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला चुना है और उन्हें देश में प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने के साथ ही लैंगिक समानता की आवाज़ बनने के लिए सम्मानित किया गया है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

देश की जानी-मानी एथलीट रहीं अंजू बॉबी जॉर्ज को ‘वुमेन ऑफ द ईयर’ से सम्मानित किया गया है और यह सम्मान उन्हें वर्ल्ड एथलेटिक्स की तरफ से दिया गया है। वर्ल्ड एथलेटिक्स ने अंजू को इस साल के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला चुना है और उन्हें देश में प्रतिभाओं को आगे बढ़ाने के साथ ही लैंगिक समानता की आवाज़ बनने के लिए सम्मानित किया गया है।


मालूम हो कि अंजू बॉबी जॉर्ज लॉन्ग जंप की खिलाड़ी हैं और वे भारत के लिए विश्व चैम्पियनशिप में कांस्य मेडल जीतने वाली एकलौती खिलाड़ी हैं। साल 2003 में पेरिस में आयोजित हुए वर्ल्ड चैंपियनशिप के दौरान अंजू ने यह उपलब्धि हासिल की थी।

अंजू बॉबी जॉर्ज

अंजू बॉबी जॉर्ज

वर्ल्ड एथलेटिक्स ने दी बधाई

देश में लगातार बदलाव की आवाज बन युवा लड़कियों को नक्शेकदम पर चलने के लिए मार्गदर्शन कर 'वुमन ऑफ द ईयर' बनीं अंजू बीते कई सालों से खेल में प्रतिभाओं को बढ़ावा देने का काम कर रही हैं।


अंजू बॉबी जॉर्ज को सम्मानित करने पर वर्ल्ड एथलेटिक्स ने ट्वीट पर उन्हें बधाई देते हुए लिखा,

"अंजू बॉबी जॉर्ज को वर्ल्ड एथलेटिक्स अवार्ड्स में इस साल की वुमन ऑफ द ईयर का ताज पहनाए जाने पर बधाई। भारत में खेल को आगे बढ़ाने के उनके प्रयासों के साथ-साथ अधिक महिलाओं को प्रेरित करना उन्हें इस वर्ष के पुरस्कार के योग्य बनाता है।"


वर्ल्ड एथलेटिक्स ने इसी के साथ आगे लिखा, "भारत की पूर्व अंतरराष्ट्रीय लॉन्ग जंप स्टार अभी भी खेल में सक्रिय रूप से शामिल हैं। साल 2016 में अंजू ने युवा लड़कियों के लिए एक प्रशिक्षण एकेडमी खोली, जिसने पहले ही विश्व अंडर 20 पदक विजेता दे दिया है। लैंगिक समानता के लिए एक निरंतर आवाज बनने के साथ ही वे खेल भविष्य के लिए स्कूली छात्राओं को भी सलाह देती है।"

अंजू ने जताया आभार

अंजू बॉबी जॉर्ज ने इसके पहले गुरुवार को ट्वीट कर इस उपलब्धि के बारे में बताया था। उन्होंने लिखा कि वह "वर्ल्ड एथलेटिक्स द्वारा वुमन ऑफ द ईयर से सम्मानित होने के लिए सम्मानित महसूस कर रही हैं।"


उन्होंने आगे कहा, "हर रोज जागने और खेल को बढ़ावा देने से बेहतर कोई एहसास नहीं है, जिससे युवा लड़कियों को सक्षम और सशक्त बनाया जा सके! मेरे प्रयासों को पहचानने के लिए धन्यवाद।”

मुश्किलों में भी डटी रहीं

अंजू बॉबी जॉर्ज ने बीते साल ही सोशल मीडिया के जरिये बताया था कि किस तरह वे एक किडनी के साथ इतनी सफलताएँ हासिल करती रही हैं और टॉप पर पहुंची हैं। अंजू के अनुसार उन्हें दवाओं से भी एलर्जी थी और दौड़ के दौरान उनके एक पैर में भी काफी दर्द रहता था। हालांकि इन सब के बावजूद अंजू ने सभी परेशानियों को पीछे छोडते हुए विश्व पटल पर देश का नाम रोशन किया है। अंजू साल 2004 के ओलंपिक्स में हिस्सा लेते हुए 5वें स्थान पर रही थीं।


 


Edited by रविकांत पारीक