संस्करणों
विविध

माहवारी के बारे मेंं महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों में भी जागरूकता फैला रहे हैं प्रवीण निकम

3rd Oct 2017
Add to
Shares
205
Comments
Share This
Add to
Shares
205
Comments
Share

18 साल की उम्र में, जब किशोर वयस्क हो जाते हैं, तो वे बहुत से करियर संबंधी आकांक्षाओं को ध्यान में रखते हैं। कोई इंजीनियर या डॉक्टर बनना चाहता है, तो कोई उद्यमी, लेकिन कितने लोग हैं, जो समाज को बदलने के बारे में सोचते हैं? जब प्रवीण निकम 18 साल के हो गए, तो उन्होंने समाज के लिए काम करने का फैसला किया। आईये जानें उस अनोखे काम के बारे में जो प्रवीण करना चाहते थे...

साभार: सोशल मीडिया

साभार: सोशल मीडिया


प्रवीण निकम ने सरकार से मांग की है, माहवारी स्वच्छता और सेनेटरी उत्पादों पर करों को खत्म किया जाए। प्रवीण निकम को 2016 में ही राष्ट्रीय युवा सम्मान से नवाजा गया और उन्हें यूनाइटेड नेशंस के ग्लोबल यूथ एम्बेसडर के तौर पर नियुक्त किया गया।

2011 में छः साल पहले, उन्होंने रोशनी नामक एक एनजीओ खोला। प्रवीण एक शैक्षणिक दौरे पर असम गए थे। दौरे के दौरान, उन्होंने एक किशोर लड़की से मुलाकात की थी, जिसे हाल ही में स्कूल जाने से रोक दिया था। ऐसी क्या वजह थी, कि उस लड़की को स्कूल जाने से रोक दिया गया?  

18 साल की उम्र में, जब किशोर वयस्क हो जाते हैं, तो उनके पास बहुत से करियर संबंधी आकांक्षाओं को ध्यान में रखते हैं कोई इंजीनियर या डॉक्टर या उद्यमी बनना चाहता है लेकिन, कितने लोग समाज को बदलने के बारे में सोचते हैं? जब प्रवीण निकम 18 साल के हो गए, तो उन्होंमे कुछ असामान्य किया। उन्होंने समाज के लिए काम करने का फैसला किया। प्रवीण निकम ने सरकार से मांग की है, माहवारी स्वच्छता और सेनेटरी उत्पादों पर करों को खत्म किया जाए। एक शहरी लड़के के लिए सेलिब्रिटी की भीड़ और दुनिया के नेताओं को इस तरह किसी मंच से संबोधित करना बिल्कुल भी पहली बार नहीं था। प्रवीण निकम को 2016 में ही राष्ट्रीय युवा सम्मान से नवाजा गया और उन्हें यूनाइटेड नेशंस के ग्लोबल यूथ एम्बेसडर के तौर पर नियुक्त किया गया।

2011 में छः साल पहले, उन्होंने रोशनी नामक एक एनजीओ खोला। प्रवीण एक शैक्षणिक दौरे पर असम गए थे। दौरे के दौरान, उन्होंने एक किशोर लड़की से मुलाकात की थी, जिसे हाल ही में स्कूल जाने से रोक दिया था। इसका कारण यह था कि उसके मासिक धर्म शुरू हो गए थे। इसे एक अभिशाप को देखते हुए, उसके पिता ने उसका नाम स्कूल से कटा दिया। प्रवीण के लिए यह एक चौंकाने वाला क्षण था। इसके अलावा, मासिक धर्म से संबंधित परिवार में स्वास्थ्य और स्वच्छता जागरूकता की कमी थी। उस परिवार में चार महिलाएं अपने मासिक धर्म के दौरान उसी कपड़े का इस्तेमाल करती थीं। 

साभार: सोशल मीडिया

साभार: सोशल मीडिया


वहां उन्होंने शिक्षा के जरिए जागरूकता पैदा करके इस मुद्दे पर काम करने का फैसला किया। इसके बाद उन्होंने पुणे में झुग्गी बस्तियों के बच्चों को शिक्षा प्रदान करने और महिलाओं की स्वास्थ्य स्थितियों में सुधार लाने पर ध्यान केंद्रित किया। उन्हें 'ए वर्ल्ड एट स्कूल' कार्यक्रम के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा एक वैश्विक युवा राजदूत के रूप में अभिषेक किया गया। वह रॉयल कॉमनवेल्थ सोसाइटी, लंदन के साथ भी सहयोगी साथी हैं। प्रवीण का उद्देश्य है मासिक धर्म से संबंधित वर्जनाओं का उन्मूलन करना। उन्होंने दुनिया के नेताओं से मासिक धर्म से जुड़े स्वास्थ्य विज्ञान को अपनाने और दुनिया भर में सेनैटरी उत्पादों को टैक्स मुक्त करने का आग्रह किया।

अपने एक भाषण में इस युवा ने दुनिया के नेताओं से अपील की कि माहवारी एक साफ सुथरी और जैववैज्ञानिक प्रक्रिया है। आपको दुनिया के तमाम देशों से अपील करनी चाहिये कि कम से कम इसके लिए बने उत्पादों जैसे कि सेनैटरी पैड पर करों को खत्म करना चाहिए और इसके लिए दुनिया भर के पुरूषों को इसके लिए आगे आकर बात करनी होगी। निकम ने बताया कि फिल्म डायरेक्टर करण जौहर और अभिनेत्री सोनम कपूर जैसी मशहूर हस्तियों ने भी माहवारी धर्म की स्वच्छता के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए अपना समर्थन दिया। रोशनी के तहत प्रवीण विभिन्न सामाजिक अभियान चला रहे हैं जैसे कि पीरियड प्रोजेक्ट, राइट टू पी, किताब एक्सप्रेस, पाठकों और लेखकों की परियोजना और पिंक प्रोजेक्ट। प्रवीण कहते हैं कि हम समाज के उन सदस्यों में जागरूकता और क्षमता विकसित करने के लिए काम करते हैं जो असमानता और शोषण के कारण अपने अधिकार से वंचित हैं।

साभार: सोशल मीडिया

साभार: सोशल मीडिया


रोशनी स्वच्छता और स्वच्छता पर जागरूकता कार्यशालाएं आयोजित करता है। 'मासिक धर्म चक्र क्या है' इस विषय पर संगोष्ठियां आयोजित करवाता है। और पूरे देश में मलिन बस्तियों और श्रमिक शिविरों में सैनिटरी नैपकिन के उपयोग पर प्रदर्शनों पर प्रस्तुतीकरण करता है। प्रवीण के अनुसार, हम महिलाओं को शिक्षित करने और माहवारी से संबंधित भ्रांतियों को दूर करने के लिए एक मासिक धर्म स्वच्छता प्रबंधन पाठ्यक्रम विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं। पाठ्यक्रम क्रियाकलाप आधारित शिक्षा का उपयोग करता है और शिक्षकों को प्रशिक्षित करने के लिए डिज़ाइन किया गया है जो बदले में किशोर लड़कियों और लड़कों को शिक्षित करता है। 

वंचित पृष्ठभूमि से महिलाओं को शिक्षित करना भी हमारा उद्देश्य है। कठोर परिस्थितियों, सैनिटरी नैपकिन तक सीमित पहुंच और कम जागरूकता स्तरों के कारण महिलाओं और लड़कियों के लिए मासिक धर्म का प्रबंधन अक्सर मुश्किल होता है। अक्सर, महिलाओं और लड़कियों के लिए सैनिटरी नैपकिन खरीदना बजट के बाहर हो जाता है। उन्हें विवश होकर कपड़े, पत्तियों और यहां तक ​​कि जानवरों की त्वचा का उपयोग करना पड़ता है। 

ये भी पढ़ें: चार दोस्तों ने एक डेयरी फॉर्म से शुरुआत कर खड़ा कर डाला 100 करोड़ का कारोबार

Add to
Shares
205
Comments
Share This
Add to
Shares
205
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags