सभी फलों से खास तरह के चिप्स बना रहा है 'फ्रूट-ट्रीट स्टार्टअप'

'फ्रूट ट्रीट' नाम के ब्रांड के तहत कटहल, केला, चीकू, भिंडी, पपीता, आम, शकरकंद, चुकंदर, और लहसुन के साथ स्नैक्स की 12 किस्मों का निर्माण शुरू किया जा चुका है।
116 CLAPS
0

'फ्रूट ट्रीट' नाम के ब्रांड के तहत कटहल, केला, चीकू, भिंडी, पपीता, आम, शकरकंद, चुकंदर, और लहसुन के साथ स्नैक्स की 12 किस्मों का निर्माण शुरू किया जा चुका है।


फोटो साभार: theprofessionaltimes


कर्नाटक के चिक्कमगलुरु जिले में श्रृंगेरी के रहने वाले पीएचडी स्कॉलर, लेक्चरर और आंत्रप्रेन्योर भारद्वाज कारंत ने जुलाई 2017 में 'कारंथ्स फूड्स' (Karanth’s Foods) को शुरू किया। 'फ्रूट ट्रीट' नाम के ब्रांड के तहत उन्होंने कटहल, केला, चीकू, भिंडी, पपीता, आम, शकरकंद, चुकंदर, और लहसुन के साथ स्नैक्स की 12 किस्मों का निर्माण शुरू किया। लगभग 100 टन उपज, 100 से अधिक किसानों से प्राप्त, कीटनाशक मुक्त की जाती है।

इसके अलावा, चिप्स को वैक्यूम फ्राइंग विधि का उपयोग करके तैयार किया जाता है जो पारंपरिक तरीकों की तुलना में लगभग 80-90 प्रतिशत कम तेल का उपयोग करता है। ये स्नैक्स भी 100 प्रतिशत प्राकृतिक हैं, जिसका अर्थ है कि इनमें कोई कृत्रिम योजक (artificial additives), शर्करा (sugar), संरक्षक (preservatives) या रंग नहीं हैं।

ये प्रोडक्ट अब कैफे कॉफी डे आउटलेट, हवाई अड्डों, बिग बास्केट जैसे ई-कॉमर्स प्लेटफार्म्स और 100 से अधिक कंपनियों के कैफेटेरिया में बेचे जाते हैं। स्नैक्स को मिडल ईस्ट में भी एक्पोर्ट किया जा रहा है।

द बेटर इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार कारंथ्स फूड्स के फाउंडर और सीईओ भारद्वाज कारंत ने बताया,

“चूंकि हम जो कर रहे थे वह नया था, खासकर इस क्षेत्र में, किसानों के पास बहुत सारे सवाल थे। उन्हें नहीं पता था कि हम उनसे क्यों खरीद रहे थे और किसलिए खरीद रहे थे। इसलिए, उन्हें विश्वास दिलाने में समय लगा लेकिन अब वे हमारे कारखाने की यूनिट में अपनी उपज पहुँचाने के लिए आते हैं।”

जब कंपनी की स्थापना 2017 में हुई थी, तो इसे 'सुविधा फूड्स एंड बेवरेज्स' नाम दिया गया था। केवल जून 2019 में भारद्वाज ने एंटरप्राइज को एक कंपनी के रूप में रजिस्टर करने का फैसला किया और इसका नाम बदलकर कारंथ्स फूड्स प्राइवेट लिमिटेड कर दिया।

1,500 वर्ग फुट की किराए की जगह से काम शुरू करने के बाद उन्होंने हाल ही में इसी महीने से अपनी 7,000 वर्ग फुट की फैक्ट्री यूनिट में प्रोडक्शन शुरू किया है।

भारद्वाज ने आगे बताया,

“मैं अधिक नौकरियां पैदा करने और अधिक किसानों की मदद करने की इच्छा रखता हूं। लोगों को लगता है कि पश्चिमी घाट में एक दूरस्थ क्षेत्र औद्योगिक रूप से नहीं पनप सकता है। लेकिन यह कहीं भी एक नैतिक व्यवसाय शुरू करने और क्षेत्र के लोगों का समर्थन करने के लिए संभव है।”

Latest

Updates from around the world