खुल गए ये दो बड़े IPO, तेजी से बढ़ रहा ग्रे मार्केट प्रीमियम, जानिए आपको पैसे लगाने चाहिए या नहीं

आज से बीकाजी फूड्स और ग्लोबल हेल्थ का आईपीओ खुल चुका है. यह दोनों ही अब 7 नवंबर को बंद होंगे. दोनों की जीएमपी भी तेजी से बढ़ रहा है. जानिए इनसे जुड़ी हर जानकारी.

खुल गए ये दो बड़े IPO, तेजी से बढ़ रहा ग्रे मार्केट प्रीमियम, जानिए आपको पैसे लगाने चाहिए या नहीं

Thursday November 03, 2022,

3 min Read

आज यानी 3 नवंबर से दो बड़े आईपीओ (IPO) खुल रहे हैं. इनमें से एक है ग्लोबल हेल्थ आईपीओ (Global Health IPO) और दूसरा है बीकाजी फूड्स का आईपीओ (Bikaji Food IPO). दोनों ही आईपीओ की चर्चा काफी दिनों से चल रही है. वहीं इनके जीएमपी (GMP) यानी ग्रे मार्केट प्रीमियम (Grey Market Premium) भी अच्छे दिख रहे हैं. आइए जानते हैं इनकी सारी डिटेल्स.

पहले जानिए बीकाजी फूड्स के आईपीओ के बारे में

बीकाजी फूड्स का आईपीओ भी 3 नवंबर को खुला है और 7 नवंबर को बंद होगा. इस आईपीओ के जरिए कंपनी करीब 1000 करोड़ रुपये जुटाने की प्लानिंग कर रही है. कंपनी के प्रमोटर्स की तरफ से कंपनी के करीब 2.94 करोड़ शेयरों की बिक्री की पेशकश लाई जाएगी. कंपनी ने आईपीओ का प्राइस बैंड 285-300 रुपये रखा है. उम्मीद है कि इस आईपीओ के जरिए बीकाजी फूड्स 881 करोड़ रुपये जुटाएगी.

बीकाजी फूड्स की कितनी डिमांड है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि इसका ग्रे मार्केट प्रीमियम 52 रुपये तक जा पहुंचा है. यानी कंपनी का शेयर इसका आईपीओ खुलने के पहले ही दिन करीब 17 फीसदी के प्रीमियम पर है. उम्मीद है कि इस आईपीओ की शेयर बाजार में लिस्टिंग 16 नवंबर को होगी.

क्या करती है कंपनी?

बीकाजी फूड्स इंटरनेशनल लिमिटेड भारत की सबसे बड़ी एफएमसीजी कंपनियों में से एक है. यह कंपनी भारत ही नहीं बल्कि विदेशों में भी मिठाइयां और स्नैक्स का बिजनेस करती है. इसके फाउंडर हैं शिव रतन अग्रवाल, जो हल्दीराम के फाउंडर गंगाबिशन अग्रवाल के पोते हैं. इस कंपनी की शुरुआत 1986 में शिवदीप इंडस्ट्रीज लिमिटेड नाम से हुई थी, लेकिन 1993 में इसका नाम बीकाजी फूड्स कर दिया गया.

ग्लोबल हेल्थ के आईपीओ की हर जानकारी

ग्लोबल हेल्थ के आईपीओ में आप 3 नवंबर से 7 नवंबर तक पैसे लगा सकेंगे. मेदांता नाम से अस्पतालों की चेन चलाने वाली कंपनी ग्लोबल हेल्थ आईपीओ से 2206 करोड़ रुपये जुटाने की प्लानिंग कर रही है. कंपनी करीब 500 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी करेगी, जबकि 5.08 करोड़ शेयरों को बेचने की पेशकश करेगी. कंपनी ने इस आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 319-336 रुपये प्रति शेयर तय किया है. इस आईपीओ की डिमांड कितनी है, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि ग्रे मार्केट में इसका प्रीमियम 19 रुपये हो गया है. बीएसई और एनएसई पर इसकी लिस्टिंग 16 नवंबर को होने की उम्मीद है.

क्या करती है ये कंपनी?

यह कंपनी उत्तर भारत और पूर्वी भारत में हेल्थकेयर सेवाएं मुहैया कराती है. इसकी शुरुआत जाने माने कार्डियोवास्कुलर और कार्डियोथोरेसिक सर्जन डॉक्टर नरेश त्रेहान ने की थी. ग्लोबल हेल्थ गुरुग्राम, इंदौर, रांची, लखनऊ और पटना में 'मेदांता' ब्रांड के तहत कुल 5 अस्पताल चलाती है.

पैसे लगाएं या नहीं?

अगर बात बीकाजी फूड्स की करें तो कंपनी की ग्रोथ अच्छी है, इंडस्ट्री में इसकी लीडिंग पोजीशन है, भविष्य में कंपनी और विस्तार करने की सोच रही है, नए-नए प्रोडक्ट ला रही है. इन सबके अलावा इसका जीएमपी भी बहुत शानदार है, जो संकेत देता है कि इस आईपीओ को सब्सक्राइब किया जा सकता है.

वहीं दूसरी ओर बात अगर ग्लोबल हेल्थ की करें तो भले ही उसका जीएमपी अभी बहुत ज्यादा नहीं है, लेकिन कंपनी की स्थिति बहुत बेहतर है. हेल्थकेयर सेक्टर में मेदांता एक बड़ा नाम है. इसके अस्पतालों में लोग दूर-दूर से इलाज के लिए आते हैं. देखा जाए तो भविष्य में भी इस कंपनी को फायदा ही होगा. ऐसे में आप इस आईपीओ में भी पैसे लगा सकते हैं. हालांकि, आईपीओ को सब्सक्राइब करने से पहले अपने वित्तीय सलाहकार से एक बार बात जरूर करें.