संस्करणों
विविध

HIV वायरस की पहचान करने का कामगार तरीका वैज्ञानिकों ने खोज निकाला

6th Sep 2017
Add to
Shares
43
Comments
Share This
Add to
Shares
43
Comments
Share

यूके के क्रैंक स्कूल ऑफ मेडिसिन में हुई एक शोध के अनुसार, एचआईवी वायरस के बारे में जानने के लिए वायरस के बजाय मानव प्रोटीन के लक्षणों का अध्ययन करना ज्यादा मुफीद रहता है। एक दिन इस शोध से चिकित्सा उपचार में एचआईवी पॉजिटिव लोगों की सहायता की जा सकेगी। 

फोटो साभार: सोशल मीडिया

फोटो साभार: सोशल मीडिया


 पूरे विश्व में एचआईवी पीड़ितों की आबादी के मामलें में हमारा देश पूरे विश्व में तीसरा स्थान रखता है। यहां 15-20 लाख लोग एड्स से पीड़ित हैं और 1.50 लाख लोग वर्ष 2011-2014 के बीच इसकी वजह से मर चुके हैं। हमारे देश में कुल एड्स पीड़ितों में 40% महिलाएं इससे पीड़ित हैं।

'वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक, दुनिया भर में करीब 37 मिलियन लोगों में एचआईवी और 2 करोड़ से अधिक एंटीवायरल थेरेपी हैं। हालांकि, अधिकांश लोग एचआईवी-दबाने वाले उपचारों को अपना रहे हैं। लेकिन बड़ी संख्या में लोग दवा के प्रतिरोध का सामना कर रहे हैं। 

यूके के क्रैंक स्कूल ऑफ मेडिसिन में हुई एक शोध के अनुसार, एचआइवी वायरस के बारे में जानने के लिए वायरस के बजाय मानव प्रोटीन के लक्षणों का अध्ययन करना ज्यादा मुफीद रहता है। एक दिन इस शोध से चिकित्सा उपचार में एचआईवी पॉजिटिव लोगों की सहायता की जा सकेगी। साल 2014 की रिपोर्ट के अनुसार 3.99 करोड़ लोग पूरे विश्व में एड्स से पीड़ित हैं और वर्ष 2014 तक 12 लाख लोगों की एड्स से मौतें हो चुकी हैं। पिछले 15 वर्षों में एड्स के मामलों में 35% कमी आई है और पिछले एक दशक में एड्स से हुई मौतों के मामलों में 42% कमी आई है। अगर हम भारत की स्थिति की बात करें तो पूरे विश्व में एचआईवी पीड़ितों की आबादी के मामलें में हमारा देश पूरे विश्व में तीसरा स्थान रखता है। यहां 15-20 लाख लोग एड्स से पीड़ित हैं और 1.50 लाख लोग वर्ष 2011-2014 के बीच इसकी वजह से मर चुके हैं। हमारे देश में कुल एड्स पीड़ितों में 40% महिलाएं इससे पीड़ित हैं

एचआईवी वायरस से लड़ने की नई तकनीक-

ये शोध वैज्ञानिक चुन्ह ह्यूंग के नेतृत्व में किया गया। चुन्ह ह्यूंग ने इस रिसर्च को पूरा करने में 13 साल का समय लगा दिया। ह्यूंग ने कहा है कि 'हमें और अधिक शोध करने की जरूरत है, क्योंकि हमें एचआईवी संक्रमण के तीव्र इलाज के लिए एक नया दृष्टिकोण पहचाना होगा। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन के मुताबिक, दुनिया भर में करीब 37 मिलियन लोगों में एचआईवी और 2 करोड़ से अधिक एंटीवायरल थेरेपी हैं। हालांकि, अधिकांश लोग एचआईवी-दबाने वाले उपचारों को अपना रहे हैं। लेकिन बड़ी संख्या में लोग दवा के प्रतिरोध का सामना कर रहे हैं। ह्यूंग ने अपनी प्रयोगशाला में हाल ही में एक प्रोटीन संस्करण की खोज की है। जिसका उपयोग एचआईवी पॉजिटिव व्यक्तियों में इम्युनोडिफीसिन्सी वायरस को रोकने के लिए किया जा सकता है।

ह्यूंग (क्रैंक स्कूल ऑफ़ मेडिसिन में आणविक माइक्रोबायोलॉजी और इम्यूनोलॉजी के सहायक प्राध्यापक) का कहना है कि 'एचआईवी वायरस को दवाओं के द्वारा खत्म किया जा सकता है। लेकिन वायरस स्थिर नहीं है, ये हमेशा म्यूटेट समस्याग्रस्त होते हैं। जोकि वायरस प्रभावी दवाओं के लिए प्रतिरोधी हो सकता है।' नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज द्वारा प्रकाशित इस अध्ययन में डॉक्टरों ने बीमारी को बेहतर तरीके से दूर करने के लिए शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को निर्देशित करने की दिशा में एक पहला कदम उठाया है। इस पद्धति में वायरस को दूर करने के अधिक परंपरागत तरीके है, जो विशिष्ट चिकित्सा उपचारों के प्रति प्रतिरोधी हो सकते हैं।

वायरल तत्वों की हो सकेगी रोकथाम-

ह्यूंग ने प्रयोगशाला में पहले ऐसे प्रोटीन की पहचान की थी जो संक्रमण के प्रारंभिक चरण में वायरस, फ्लू, डेंगू वायरस और वेस्ट नाइल वायरस के साथ साथ अधिक संक्रामक वायरस को प्रतिबंधित करते हैं। एचआईवी 1 पर केंद्रित नए अध्ययन, दुनिया भर में सबसे व्यापक संक्रमण है। एचआईवी को आर 5 और एक्स 4 वायरस में वर्गीकृत किया जा सकता है। आर 5 वायरस विशेष रूप से प्राथमिक संक्रमण से जुड़ा हुआ है, और एक्स 4 वायरस एचआईवी रोगियों के बाद के चरणों में एचआईवी वाहक के आधे हिस्से में उभरकर आते हैं। एक्स 4 का पता लगाने का यह संकेत है कि रोगी के एचआईवी संक्रमण ने बहुत ही जहरीली अवस्था में प्रगति की है। ह्यूंग ने लैब में प्रोटीन के पहचाने गए रूप के भीतर एक संक्रमण की पहचान की। उन्होंने इसे 'डेल्टा 20' नामक एक प्रतिरक्षा प्रणाली का नाम दिया। जो कोशिकाओं को संक्रमित करने से वायरस को रोकने के द्वारा सबसे हानिकारक एचआईवी विषाणु, एक्स 4 को दबा देता है।

'हमारे शोध से वैक्सीन विकसित करने में मदद नहीं की जाएगी क्योंकि ध्यान वायरस के बजाय सहज प्रतिरक्षा पर है। शायद एक दिन वैज्ञानिक वैज्ञानिक बना लेंगे, जैसे 'एचआईवी कॉकटेल' को अनिश्चित काल तक लेना होगा। लेकिन नया उपचार अधिक प्रभावी हो सकता है क्योंकि यह वायरस के शरीर के बचाव से बचने के लिए कठिन है। हमारी रिसर्च में वैक्सीन को विकसित करने में मदद नहीं मिलेगी क्योंकि यह वायरस से प्रतिरक्षा करने में मदद करता है। शायद ऐसी कोई तरकीब एक दिन वैज्ञानिक कर सके। नया उपचार अधिक प्रभावशाली भी हो सकता है। क्योंकि यह वायरस को शरीर से बचाने में कठिन साबित हो सकता है।

ये भी पढ़ें- अब चली गई याद्दाश्त को वापस लाना हुआ आसान!

Add to
Shares
43
Comments
Share This
Add to
Shares
43
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags