संस्करणों

डाउनलोड करो LingosMio बनो विदेशी भाषा के चैंपियन

LingosMio वेबसाइट और ऐप में मौजूदअब तक LingosMio ऐप के 60 हजार डाउनलोडफिलहाल ऐन्ड्रॉइड फोन के लिए ऐप

Harish Bisht
14th Jul 2015
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

आज की वैश्विक अर्थव्यवस्था में अलग अलग भाषाओं को जानना और समझना बहुत लोगों के लिए जरूरी हो गया है। भाषा की इसी दिकक्त को दूर करता है LingosMio। ये एक ऐप है जो लोगों को मजेदार और प्रभावी तरीके से दूसरी भाषा सीखने में मदद करता है। इस तरह का विचार आया आलोक अरोड़ा को जब वो दक्षिण अमेरिका के दौरे पर थे।

आलोक अरोड़ा, संस्थापक और सीईओ, LingosMio

आलोक अरोड़ा, संस्थापक और सीईओ, LingosMio


लंदन के बार्कलेज में निवेशक बैंकर आलोक ने देखा कि उनको स्पैनिश भाषा आने के कारण दक्षिण अमेरिका में लोगों से बातचीत करने में ज्यादा दिक्कत नहीं हुई लेकिन जब वो ब्राजील गए तो उनको पुरचगीज़ ना आने के कारण कई तरह की परेशानियां पेश आई। जिसके बाद आलोक ने तय किया कि वो पुरचगीज़ भाषा को सीखेंगे। लेकिन उनको अच्छे ट्यूटर को ढूंढने में काफी दिक्कत पेश आई और इसके लिए उन्होने ऑनलाइन भी खोजबीन की पर सफलता नहीं मिली। तब उनके मन में LingosMio का विचार आया। आलोक को विभिन्न भाषाएं सीखने का शौक है। तभी तो उन्होने पहले ही दिन से तय कर लिया था कि LingosMio कैसा होगा और उसमें क्या क्या चीजें होंगी। इसके साथ साथ उन्होने इस बात का भी ध्यान रखा की लोग भाषा सीखने के अलावा उनको सीखने में मजा भी आए।

शुरूआती महिनों में LingosMio के पास कोई ऑफिस नहीं था। टीम की मीटिंग स्थानीय कैफे कॉफी डे में होती थी। आलोक के मुताबिक टीम में एक भाषा शिक्षक भी शामिल थे जो 9 भाषाओं को बोलना जानते थे और वो ही पहले विदेशी भाषा के शिक्षक बने। आलोक के मुताबिक उन्होने एक ऐसी टीम तैयार की जिसमें उनके अलावा फ्रीलांस भाषा विशेषज्ञ, देशी वक्ता और वो छात्र जो विदेशी भाषा सीखने के इच्छुक थे। इस तरह टीम ने सटीक, मजेदार, इंटरैक्टिव और प्रभावी कोर्स को तैयार किया। जो LingosMio के लिए जरूरी भी था।

आलोक के मुताबिक शुरूआत में सबसे बड़ी चुनौती ऐप डेवलपर का ना होना था और इसके अलावा पढ़ाई का कोर्स जिसे कागजों में उतारा जा सके साथ ही वो प्रभावी और इंटरैक्टिव हो। शुरूआत में इस ऐप के उपयोगकर्तों को ढूंढना भी किसी चुनौती से कम नहीं था। लेकिन धीरे धीरे ये लोगों के बीच जगह बनाता गया और लोग इसे दूसरी भाषाओं को सीखने के लिए इस्तेमाल करने लगे। आखिरकार LingosMio को इस साल मार्च में ऐन्ड्रॉइड फोन के लिए ऐप के विकल्प के तौर पर शुरू कर दिया गया। तब से अब तक 70 हजार लोग इसका इस्तेमाल कर चुके हैं जबकि 60 हजार लोग इस ऐप को डाउनलोड कर चुके हैं। यही कारण है कि ये ऐप 9 देशों में विभिन्न तरह के शैक्षिक ऐप में टॉप 10 में शामिल है। तो वहीं कई देशों में ये नंबर एक शैक्षिक ऐप है।

आलोक को घुमने और विदेशी भाषाएं सीखने का शौक  इस वजह से उन्होने बनाया  LingosMio

आलोक को घुमने और विदेशी भाषाएं सीखने का शौक इस वजह से उन्होने बनाया LingosMio


आलोक इस बात को मानते हैं कि विभिन्न भाषाओं को सीखने के लिए कई ऐप और वेबसाइट बाजार में उपलब्ध हैं आलोक के मुताबिक इनमें से ज्यादातर सिर्फ अतिरिक्त उपकरण के तौर पर काम कर रही हैं। जबकि LingosMio कोई भी स्वतंत्र रूप से भाषा को सीख सकता है। आलोक के मुताबिक आज के दौर में कई लोगों के पास इतना वक्त नहीं होता कि वो कोई क्लास में जाकर दूसरी भाषा सीख सकें ऐसे में उनके लिये ये काफी काम का ऐप है। इस ऐप से ना सिर्फ कोई किसी दूसरी भाषा को सीख सकता है बल्कि उस भाषा के हर शब्द को गहराई से समझ भी सकता है। इतना ही कैसे शब्दों का इस्तेमाल कर वाक्य में बदला जाता है इसे भी इस ऐप में सिखाया जाता है। आलोक का मानना है कि कोई भी भाषा, अपने विचारों को जाहिर करने का तरीका होती है। ज्यादातर लोग भाषा को याद करने की कोशिश करते हैं ऐसे वो इसे सीख नहीं पाते और इसे छोड़ देते हैं।

भाषा सिखाने के साथ साथ LingosMio उसे बोलने का लहजा भी सिखाता है और लोगों को इसका प्रशिक्षण भी देता है। हर चैप्टर के अंत में भाषा से जुड़ी बातचीत रिकॉर्ड होती है जिसका अनुसरण कर कोई भी व्यक्ति उस भाषा का लहजा सीख सकता है। भाषा का ये कोर्स कोई भी मुफ्त में वेबसाइट या ऐप के माध्यम से कर सकता है। हालांकी LingosMio की टीम इसमें कई और फीचर जोड़ने पर विचार कर रही है जिसमें से कुछ पर शुल्क लगाया जा सकता है। जिस तरह से स्मॉर्टफोन का चलन बढ़ा है उसी तरीके से बाजार में भाषा सीखने के कई ऐप आ गए हैं। जैसे Babbel, Duolingo और Busuu । भारत में भले ही ऑनलाइन विदेशी भाषा सीखने का तरीका खासा प्रचलित ना हो लेकिन अमेरिका और यूरोप में इसकी काफी मांग है। फिलहाल LingosMio अंग्रेजी, हिन्दी, स्पैनिश, उर्दू, मंडेरियन भाषाएं सिखाता है। जल्द ही कंपनी की योजना दूसरी और भाषाओं को भी जोड़ने की है ताकि ज्यादा देशों में इसकी पहुंच बन सके।

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags