संस्करणों
विविध

हाइकोर्ट ने 16 साल के रितिक को तोहफे में दिया उसका खोया हुआ हाथ

yourstory हिन्दी
7th Nov 2017
Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share

पिछले हफ्ते, दिल्ली उच्च न्यायालय ने रितिक को एक अमूल्य उपहार दिया जो उसके जीवन में रंग जोड़ देगा। कोर्ट ने रितिक को प्रोस्थेटिक हाथ उपहार में दिया है। प्रोस्टेथिक हाथ मतलब कृत्रिम हाथ। सोलह वर्षीय रितिक अब तक अपने दाहिने हाथ की तरह दाहिने पैर का उपयोग करता है। 

image


एक दशक पहले, उसके माता-पिता ने उसे क्रेयॉन रंगों का एक सेट उपहार दिया था। तब से वह स्केचेस से आकर्षक पेंटिंग बना रहा है, हाथ से नहीं अपने पैरों से। उसकी मां ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ये क्रेयॉन पेंसिल न सिर्फ उसके चित्रों में रंग भरते हैं, बल्कि उसका जीवन भी रंगीन बनाते हैं।

रितिक, जो सरकारी सहायता प्राप्त स्कूल में पढ़ते थे, ने कहा, मुझे किताबें रखने में समस्याएं होती थीं। चित्रकारी और स्केचिंग मेरा जुनून है, मेरी ताकत का एक स्रोत है मेरा ये सपना कि मैं एक दिन एक कलाकार बनूंगा। मुझे मेरे ये क्रेयॉन रंग अपना सपना हासिल करने के करीब एक कदम ला देते हैं।

सोलह वर्षीय रितिक अपने दाहिने हाथ की तरह दाहिने पैर का उपयोग करता है। एक दशक पहले, उसके माता-पिता ने उसे क्रेयॉन रंगों का एक सेट उपहार दिया था। तब से वह स्केचेस से आकर्षक पेंटिंग बना रहा है, हाथ से नहीं अपने पैरों से। उसकी मां ने इंडियन एक्सप्रेस को बताया, ये क्रेयॉन पेंसिल न सिर्फ उसके चित्रों में रंग भरते हैं, बल्कि उसका जीवन भी रंगीन बनाते हैं। पिछले हफ्ते, दिल्ली उच्च न्यायालय ने उन्हें एक और उपहार दिया जो उसके जीवन में रंग जोड़ देगा। कोर्ट ने रितिक को प्रोस्थेटिक हाथ उपहार में दिया है। प्रोस्टेथिक हाथ मतलब कृत्रिम हाथ।

रितिक, जो सरकारी सहायता प्राप्त स्कूल में पढ़ते थे, ने कहा, मुझे किताबें रखने में समस्याएं होती थीं। चित्रकारी और स्केचिंग मेरा जुनून है, मेरी ताकत का एक स्रोत है मेरा ये सपना कि मैं एक दिन एक कलाकार बनूंगा। मुझे मेरे ये क्रेयॉन रंग अपना सपना हासिल करने के करीब एक कदम ला देते हैं। एक दशक से अधिक समय से उसकी मां उषा, जो सदर बाजार में मिठाई की दुकान चलाती हैं, शहर भर में दर्जन से ज्यादा अस्पतालों में चक्कर पर चक्कर लगाती रहीं। रितिक के माता-पिता लगातार उसके सही इलाज की मांग कर रहे थे। रितिक जन्मजात अंग की कमी से पीड़ित हैं और जन्मे के बाद से उसके असामान्य रूप से विकसित अंग हैं।

image


1 नवंबर को, दिल्ली उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश ने दिल्ली सरकार को दो महीनों के भीतर रितिक को कृत्रिम अंग प्रदान करने का निर्देश दिया। रितिक की मां बताती हैं, जब वह सिर्फ दो साल का था, मैंने एम्स के द्वार पर दस्तक दी थी। उन्होंने तब कहा था कि इसका कोई इलाज नहीं है। मैं कम से कम पांच विभिन्न सरकारी अस्पतालों में गई और हर किसी ने हमें एम्स वापस भेज दिया। एक दशक से भी अधिक समय तक, एक भी सरकारी अस्पताल कृत्रिम अंग को तय करना नहीं चाहता था। अंत में, मेरे पास कोई अन्य विकल्प नहीं था। हमें अदालत से हस्तक्षेप करने के लिए पूछना पड़ा।

उच्च न्यायालय ने पूर्व में वकील अशोक अग्रवाल द्वारा दायर एक जनहित याचिका पर दिल्ली सरकार और सामाजिक न्याय मंत्रालय को नोटिस जारी किए थे। इस याचिका के तहत वो लोग कृत्रिम अंग के लिए 13 लाख रुपये की मांग कर रहे थे। अग्रवाल ने अदालत में तर्क दिया था कि दिव्यांग व्यक्तियों के अधिकार अधिनियम, 2016 को सरकार ने ऐसे बच्चों को नि: शुल्क बिना सहायता उपकरणों उपलब्ध कराएगा, जब तक कि वे 18 वर्ष से कम उम्र के हैं।

नोटिस के जवाब में, लोक नायक अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर ने अदालत को बताया कि बच्चा "गंभीर विकलांगता से ग्रस्त है" और कृत्रिम अंग के लिए पैसा "दिल्ली आरोग्य कोष के माध्यम से संगठित" किया जाएगा। खरीद की प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं, इस बच्चे को दो महीने के भीतर कृत्रिम अंग के साथ फिट किया जाएगा। अग्रवाल ने कहा कि अदालत ने याचिका का निपटान करने में तीन महीने से कम समय लगाया है। लेकिन इस मामले का अध्ययन करने के लिए छह महीने से अधिक का समय लगेगा। 

ये भी पढ़ें: खुद की कंपनी चलाते हुए पूरी की पढ़ाई, कॉलेज से मिला 30 लाख का पैकेज

Add to
Shares
5
Comments
Share This
Add to
Shares
5
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें