CERT-In, Koo और CyberPeace Foundation ने छात्रों के लिए शुरू किया साइबर सुरक्षा जागरूकता अभियान

By रविकांत पारीक
July 13, 2022, Updated on : Wed Jul 13 2022 17:30:53 GMT+0000
CERT-In, Koo और CyberPeace Foundation ने छात्रों के लिए शुरू किया साइबर सुरक्षा जागरूकता अभियान
इस अभियान का मकसद देश भर के कॉलेजों से साइबरसिक्योर युवाओं को तैयार करना और सुरक्षित ऑनलाइन प्रथाओं के लिए जागरूकता फैलाना है.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

Indian Computer Emergency Response Team (CERT-In), इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (MeitY), Koo App और साइबरपीस फाउंडेशन (CyberPeace Foundation) ने भारतीय युवाओं के बीच साइबर सुरक्षा जागरूकता (CyberSecurity awareness) फैलाने के लिए संयुक्त पहल '#साइबर कूल' (#CybersKool) शुरू की है. इस पहल का उद्देश्य अगले 11 महीनों में पूरे भारत में कॉलेज स्तर के छात्रों और बच्चों को इंटरनेट और सोशल मीडिया को सुरक्षित, और विश्वसनीय बनाने के लिए संवेदनशील बनाना है. इसके जरिए टेक्नोलॉजी के सुरक्षित और सदुपयोग के लिए युवाओं को प्रोत्साहित किया जायेगा.


#CybersKool नैतिक ऑनलाइन प्रथाओं, साइबर अधिकारों और कर्तव्यों, और जिम्मेदार ऑनलाइन व्यवहार के बारे में सूचना के आदान-प्रदान पर केंद्रित इंटरैक्टिव वेबिनार, पैनल चर्चा, कार्यशालाएं और प्रतियोगिताएं आयोजित करेगा. देशी भाषाओं में विचारों को साझा करने के लिए एक समावेशी मंच के रूप में, Koo ऑनलाइन सुरक्षा के बारे में नॉलेज-शेयरिंग को प्रोत्साहित करने के लिए छात्रों के लिए नारा लेखन (slogan writing) और प्रश्नोत्तरी (quizzes) जैसी इंटरैक्टिव गतिविधियों को चलाएगा. छात्रों के साथ, अन्य संबंधित हितधारकों जैसे माता-पिता, अभिभावकों आदि के इन गतिविधियों में भाग लेने की उम्मीद है. साल भर चलने वाले इस अभियान का समापन एक डिजिटल साइबर सिक्योरिटी मैनुअल (Digital CyberSafety Manual) के विमोचन के साथ होगा जो #CybersKool से सीख लेगा. छात्रों को डाउनलोड करने और पढ़ने के लिए मैनुअल Koo और CyberPeace Foundation की वेबसाइट पर उपलब्ध होगा.


CyberPeace Foundation के फाउंडर और ग्लोबल प्रेसीडेंट मेजर विनीत कुमार ने कहा, “छात्र सक्रिय इंटरनेट उपयोगकर्ता (active internet users) हैं और इसलिए, सबसे वध्य और असुरक्षित लोगों में से एक हैं. #CybersKool — Koo और CERT-In जैसे प्लेटफार्मों के साथ साझेदारी में युवाओं और संबंधित लोगों को सुरक्षित ऑनलाइन प्रथाओं के बारे में शिक्षित करने के लिए जरुरी हो गया है. हम साझेदारी के लिए आभारी हैं और आगे एक सफल अभियान की आशा करते हैं."

CybersKool

CybersKool अभियान के तहत वर्चुअल सेशन के दौरान उपस्थित छात्र (फोटो साभार: CyberPeace Foundation)

Koo साइबर सिक्योरिटी के लिए CERT-In के साथ मिलकर लगातार नागरिकों तक पहुंचने के प्रयासों को चला रहा है. भारत दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ते इंटरनेट बाजारों में से एक होने के साथ, उपयोगकर्ताओं, विशेष रूप से युवाओं को साइबर स्वच्छता (cyber hygiene) के बारे में सूचित करने और शिक्षित करने की आवश्यकता का अत्यधिक महत्व है.


Koo के प्रवक्ता ने कहा, "Koo में, सोशल मीडिया पर देशी भाषाओं में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के हमारे प्रयास में, सुरक्षित और जिम्मेदार उपयोगकर्ता व्यवहार को बढ़ावा देना हमारी प्राथमिकता है. CERT-In और CyberPeace Foundation के साथ मिलकर #CybersKool पहल इस दिशा में एक और कदम है."


CERT-In के डायरेक्टर जनरल डॉ. संजय बहल ने कहा, "ताजा दुर्भावनापूर्ण साइबर गतिविधियों पर साइबर सुरक्षा जागरूकता इंटरनेट उपयोगकर्ताओं और नागरिकों के लिए ऐसी गतिविधियों से खुद को बचाने का अहम टूल है. CERT-In, Koo App और CyberPeace Foundation मिलकर एक साल के साइबर सुरक्षा जागरूकता अभियान "#CybersKool" का आयोजन कर रहे हैं और इसे 6 जुलाई 2022 को 'साइबर जागरुकता दिवस' (Cyber Jagrookta Diwas) के हिस्से के रूप में लॉन्च किया गया है."


बहल ने अपनी बात को जारी रखते हुए आगे कहा, "इस कार्यक्रम का उद्देश्य इंटरनेट उपयोगकर्ताओं विशेष रूप से कॉलेज स्तर के छात्रों और स्कूली बच्चों को साइबर अटैक, धोखाधड़ी और अपराधों से खुद को बचाने के लिए जरुरी सिक्योरिटी टूल्स के बारे में जागरूक करना है. CERT-In, KooApp के साथ, भारतीय माइक्रो-ब्लॉगिंग और बहु-भाषा मंच भारतीय नागरिकों के बीच उनकी स्थानीय भाषा में साइबर सुरक्षा जागरूकता पैदा करने के लिए सक्रिय रूप से काम कर रहा है. CERT-In को पूरी उम्मीद है कि यह अभियान इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को यह समझने में मदद करेगा कि क्रिएटिविटी और इनोवेशन को बढ़ावा देने के लिए उन्हें सशक्त बनाने के लिए उपयोग की जाने वाली तकनीक का उपयोग जिम्मेदार, भरोसेमंद और सुरक्षित तरीके से किया जाना चाहिए."