चेन्नई के इस शख्स ने COVID-19 से अपने पिता को बचाने के लिए तय किया 1000 किमी का सफर

चेन्नई के इस शख्स ने COVID-19 से अपने पिता को बचाने के लिए तय किया 1000 किमी का सफर

Thursday June 11, 2020,

3 min Read

जब डॉक्टरों ने जोएल पिंटो को बताया कि COVID-19 से जूझ रहे उनके पिता का इलाज अगर टोसीलिज़ुमाब (Tocilizumab) नामक दवा से किया जाए तो वे कोविड-19 से जंग जीत सकते हैं। तब 28 वर्षीय जोएल दवा की तलाश में निकल पड़े लेकिन जल्द ही उन्हें महसूस हुआ कि पिछले 15 दिनों से शहर में दवा उपलब्ध नहीं है।


क

जोएल पिंटो (फोटो साभार: newindianexpress)


Tocilizumab, केवल एक निर्माता द्वारा बनाई गई एक पेटेंट दवा है, जिसका उपयोग सूजन को दबाने के लिए किया जाता है, और इसकी लागत कहीं भी 75,000 रुपये से 95,000 रुपये के बीच होती है।


इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, जोएल कहते हैं,

"डॉक्टरों ने शुरू में मुझे बताया कि वे खुद दो दिनों के भीतर इसकी व्यवस्था कर लेंगे। बाद में, उन्होंने मुझे इसे लाने के लिए कहा। मैंने शहर के सैकड़ों फार्मेसियों को फोन किया, और सोशल मीडिया पर कई अनुरोध किए।"

जोएल ने आगे कहा,

"मुझे दवा नहीं मिली, लेकिन मुझे लगा कि मेरी तरह दूसरे लोग भी अपने प्रियजनों को बचाने के लिए टोसीलिज़ुमाब की तलाश में पांव मार रहे हैं।"

उनके पिता को दो साल पहले फेफड़ों में संक्रमण हुआ था। सूजन और सांस लेने में तकलीफ को कम करने के लिए उन्हें दवा की जरूरत थी।


उन्होंने कहा,

"सोमवार को मेरे पिताजी को अस्पताल में भर्ती हुए 13 दिन हो गए थे। डॉक्टरों ने मुझे चेतावनी दी थी कि समय समाप्त हो रहा है। अगर इसमें देरी होती है, तो इलाज संभव नहीं हो सकेगा। मैं उस डर को व्यक्त नहीं कर सकता जो मैंने महसूस किया।"


जोएल फार्मासिस्टों को फोन करते रहे। अंत में, ओटेरी में एक फार्मासिस्ट ने उन्हें बताया कि हैदराबाद में एक फार्मेसी से उन्हें यह दवा मिल सकती है।


मुश्किल यह थी कि ड्रग को चेन्नई तक डाक से आने में कम से कम तीन दिन लगेंगे। तब जोएल वहाँ खुद ही जाना था और दवा को खरीदना था।


वे आगे बताते हैं,

"फार्मासिस्ट ने मुझसे 92,000 रुपये लिये। मेरे पास यह तय करने का समय नहीं था कि क्या मुझे उस पर भरोसा करना चाहिए। मैंने बिना कोई सवाल किए उसे एडवांस पेमेंट किया और ई-पास के लिए आवेदन किया।"

चूंकि अस्पताल का पत्र संलग्न था, इसलिए मुझे अगले 45 मिनट में ई-पास मिल गया। मैं बस अपनी कार लेकर हैदराबाद के लिए रवाना हुआ। मैं मंगलवार को लगभग 1 बजे पहुंचा और दवाई ली। मुझे बहुत राहत मिली। मैं जल्द ही वापस चेन्नई के लिए रवाना हो गया और मंगलवार दोपहर तक घर आ गया," जोएल कहते हैं। डॉक्टरों ने उनके पिता का टोसीलिज़ुमाब के साथ इलाज शुरू कर दिया है, और परिवार को उम्मीद है कि वह जल्द ही ठीक हो जाएंगे।



Edited by रविकांत पारीक