कोविड स्क्रीनिंग ड्राइव साबित हुई वरदान! 4 साल बाद अपने बेटे से मिली आंध्र प्रदेश की एक मां

By yourstory हिन्दी
July 20, 2020, Updated on : Mon Jul 20 2020 12:31:30 GMT+0000
कोविड स्क्रीनिंग ड्राइव साबित हुई वरदान! 4 साल बाद अपने बेटे से मिली आंध्र प्रदेश की एक मां
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

COVID-19 के दौरान अनाथ और सड़क पर रहने वाले बच्चों की स्क्रीनिंग के लिए आंध्र प्रदेश में शुरू किए गए राज्यव्यापी अभियान की बदौलत, एक माँ अपने खोए हुए बेटे से फिर से मिलने में कामयाब रही।


क

फोटो साभार: indiatimes


पश्चिम गोदावरी जिले के पलाकोलु के निवासी बोब्बा श्री ललिता ने अपने दूसरे बेटे श्रीनिवास के जन्म के बाद अपने पति को खो दिया। इसके बाद परिवार का पेट भरने के लिए, गरीब माँ को चीर बीनने वाले की तरह काम करना पड़ता था।


आईएएनएस की एक रिपोर्ट के अनुसार, श्रीनिवास घर से भाग गया और 2016 में विजयवाड़ा रेलवे स्टेशन पर पहुंच गया। रेलवे पुलिस ने उसे वहां से बचाया और विजयवाड़ा के चाइल्ड केयर सेंटर में स्थानांतरित कर दिया, जहां वह तब से था।


इसके साथ ही अधिकारियों को बिहार के 10 बच्चे भी मिले जिन्हें बंधुआ मजदूर के रूप में रहने के लिए मजबूर किया जा रहा था। यह आंध्र प्रदेश पुलिस द्वारा 'ऑपरेशन मुस्कान कोविड​​-19' शुरू करने के दो दिन बाद हुआ।


ऑपरेशन मुस्कान के दौरान, श्रीनिवास ने अधिकारियों को बताया कि वह पश्चिम गोदावरी जिले के पलाकोलू का निवासी है। इसके बाद पुलिस अधिकारियों ने बिना समय गंवाएं लड़के को उसकी मां के पास पहुँचा दिया।


डीजीपी गौतम सवंग ने आईएएनएस से बात करते हुए बताया,

"लगभग चार वर्षों के बाद एक माँ-बेटे की जोड़ी के पुनर्मिलन को सुविधाजनक बनाने में सक्षम होना बेहद खुशी की बात है। इस तरह की चीजें हमें असीम संतुष्टि देती हैं और हमें आगे बढ़ाती हैं। प्रत्येक बच्चे को बचाया गया है, जिसकी दिल झकझोर देने वाली कहानी है। इस पहल को शुरू करने वाले कमजोर लोगों के जीवन में इस तरह का अंतर था।"


अधिकारियों के अनुसार, इस ऑपरेशन के लॉन्च के 72 घंटों के भीतर 2,546 बच्चों को बचाया गया है। यह अभियान 20 जुलाई तक जारी रहेगा।



Edited by रविकांत पारीक