क्रॉस-बॉर्डर पेमेंट स्टार्टअप PayGlocal ने टाइगर Tiger Global, Sequoia, BEENEXT से जुटाए 93 करोड़ रुपये

कंपनी इस फंडिंग का उपयोग अपने क्रॉस-बोर्डर पेमेंट सॉल्यूशन को बढ़ाने और अधिक लोगों को हायर करने के लिए करेगी.
0 CLAPS
0

फिनटेक स्टार्टअप, PayGlocal ने हाल ही में Tiger Global और Sequoia Capital India के सह-नेतृत्व में अपने सीरीज बी फंडिंग राउंड में 12 मिलियन डॉलर (करीब 93 करोड़ रुपये) जुटाए हैं. कंपनी इस फंडिंग का उपयोग अपने क्रॉस-बोर्डर पेमेंट सॉल्यूशन को बढ़ाने और अधिक लोगों को हायर करने के लिए करेगी.

कंपनी के बोर्ड द्वारा पारित एक विशेष प्रस्ताव में, PayGlocal ने 12 मिलियन डॉलर जुटाने के लिए 56,315.73 रुपये प्रति शेयर के निर्गम मूल्य पर 16,510 सीरीज बी अनिवार्य संचयी वरीयता शेयर आवंटित किए.

PayGlocal के लिए पिछले छह महीनों में फंडिंग का यह दूसरा राउंड है. स्टार्टअप ने दिसंबर 2021 में BeeNext, जितेंद्र गुप्ता और अमरीश राव की भागीदारी के साथ Sequoia India के नेतृत्व में सीरीज़ ए राउंड में 4.9 मिलियन डॉलर जुटाए थे.

इस राउंड में Tiger Global ने 46.3 करोड़ रुपये और Sequoia और Beenext ने क्रमश: 33.01 करोड़ रुपये और 8.56 करोड़ रुपये का निवेश किया है. QED Innovation और दूसरे इन्वेस्टर्स जैसे अमरीश राव, स्वेता राव, जितेंद्र गुप्ता और रूबी जैन ने मिलकर 5.1 करोड़ रुपये का निवेश किया है.

पेमेंट इंडस्ट्री के दिग्गजों प्राची धरानी, ​​रोहित सुखीजा, योगेश लोखंडे और रूबी जैन ने साल 2021 में PayGlocal को शुरू किया था. यह व्यापारियों को अपनी पसंद की मुद्रा में भारत के बाहर के ग्राहकों से पेमेंट स्वीकार करने और कलेक्ट करने और अपने स्वयं के कार्ड या नॉन-कार्ड पेमेंट विकल्पों का उपयोग करने में सक्षम बनाता है.

स्टार्टअप अपने मौजूदा मर्चेंट क्रॉस-बॉर्डर पेमेंट सॉल्यूशंस को बढ़ाने और दुनियाभर के ग्राहकों को टारगेट करते हुए नए प्रोडक्ट सॉल्यूशन लॉन्च करने के लिए फंडिंग का उपयोग करेगा. ताजा फंडिंग का उपयोग अपने यूजर बेस में नए ग्राहकों को जोड़ने के लिए अपने बिजनेस-टू-बिजनेस (B2B) वर्टिकल को लॉन्च करने के लिए भी किया जाएगा.

Sequoia India के मैनेजिंग डायरेक्टर आशीष अग्रवाल ने कहा, “भारतीय मर्चेंट हर साल 400 बिलियन डॉलर से अधिक का निर्यात करते हैं. इंटरनेशनल कार्ड स्वीकार करना उनके बिजनेस के लिए महत्वपूर्ण है. PayGlocal ने इस तरह के क्रॉस-बोर्डर ट्रांजेक्शन के लिए बड़ी सफलता देखी और धोखाधड़ी की रोकथाम के लिए सफलतापूर्वक हल निकाले हैं.”

Latest

Updates from around the world