संस्करणों
विविध

नौकरी छीनने वाले रोबोट पर लगे टैक्स: बिल गेट्स

माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स ने इंसानों की नौकरियां छीनने वाले रोबोट पर कर लगाए जाने की वकालत की है।

yourstory हिन्दी
21st Feb 2017
Add to
Shares
14
Comments
Share This
Add to
Shares
14
Comments
Share

"क्वार्ट्ज वेबसाइट के मुताबिक बिल गेट्स का कहना है, कि यदि अभी कोई व्यक्ति पचास हजार डॉलर का काम करता है, तो उसकी आय पर आयकर, सामाजिक सुरक्षा कर आदि लगाए जाते हैं। यदि कोई रोबोट भी इतना काम करता है तो हमें निश्चित उसके ऊपर भी बराबर कर लगाने चाहिए।"

बिल गेट्स

बिल गेट्स


"सरकारों को रोबोट का इस्तेमाल कर रही कंपनियों पर कर लगाना चाहिए, जिसकी मदद से अॉटोमेशन की रफ्तार कम हो और रोजगार के मौकों को बचाया जा सके: बिल गेट्स"

माइक्रोसॉफ्ट के सह-संस्थापक बिल गेट्स ने कहा है, कि रोबोट्स को टैक्स का भुगतान करना चाहिए। उन्होंने यह बात इंसानों की जगह रोबोट्स का इस्तेमाल करने पर रोजगार चुराने को लेकर कही है। उन्होंने कहा है कि इंसानों की नौकरियां चुराने वाले रोबोट्स पर भी टैक्स लगाना चाहिए। साथ ही वे कहते हैं, कि मान लीजिए एक व्यक्ति जो काम करता है, उसकी कमाई 50,000 डॉलर की है और यह पैसा वह किसी कारखाने में नौकरी करके कमा रहा है, तो उसकी कमाई से आपको आयकर, सामाजिक सुरक्षा कर आदि सरकार को मिलता है। यदि उसका काम एक रोबोट करता है, तो उस पर भी उसी स्तर पर टैक्स लगाया जाना चाहिए।

दुनिया के सबसे अमीर लोगों में शुमार बिल गेट्स ने कहा, कि सरकारों को रोबोट का उपयोग करने वाली कंपनियों पर टैक्स लगाना चाहिए। उनका मानना है कि इससे कंपनियों में ऑटोमेशन के काम में अस्थाई कमी आएगी और अन्य रोजगारों के लिए फंड की व्यवस्था की जा सकेगी।

गौरतलब है कि 61 वर्षीय बिल गेट्स बेहद परोपकारी व्यक्ति हैं और कई तरह की सामाजिक गतिविधियों में सक्रिय रहते हैं। उनका कहना है, जो कर हम रोबोट्स से लेगें उस कर को बुजुर्ग लोगों की देखभाल करने वालों या स्कूलों में बच्चों के साथ नौकरी कर रहे लोगों के काम में लाया जा सकता है। उन्होंने तर्क दिया कि सरकारों को कारोबार पर भरोसा करने के बजाए इस तरह के कार्यक्रमों की निगरानी करनी चाहिए। इससे कम आय वाले लोगों को मदद करने के लिए नौकरियों को दिशानिर्देश देने में मदद मिलेगी।

Add to
Shares
14
Comments
Share This
Add to
Shares
14
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें