संस्करणों
विविध

कभी रंगभेद का शिकार हुई, आज इंडियन रिहाना नाम से फेमस है छत्तीसगढ़ की यह मॉडल

28th Jul 2018
Add to
Shares
305
Comments
Share This
Add to
Shares
305
Comments
Share

जहां त्वचा के रंग के आधार पर अधिकतर चीजें तय कर दी जाती हों, जहां किसी को खूबसूरत कहने का पैमाना सिर्फ उसका गोरापन हो, वहां सांवली या काले रंग की लड़कियों को किस तरह की मुश्किलें झेलनी पड़ती होंगी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। छत्तीसगढ़ के बगीचा की रिनी कुजूर को भी ऐसी ही समस्याओं से दो चार होना पड़ा।

रिनी कुजूर

रिनी कुजूर


भारत में रंग को लेकर फैले रूढ़िवाद के बावजूद रिनी ने अपनी मेहनत औक लगन के दम पर देश-विदेश के मीडिया में अपनी जगह बनाई है। हालांकि उनका अभी भी मानना है कि उनके त्वचा के रंग की वजह से आज भी उनकी प्रतिभा का सही आकलन नहीं किया जाता।

जहां त्वचा के रंग के आधार पर अधिकतर चीजें तय कर दी जाती हों, जहां किसी को खूबसूरत कहने का पैमाना सिर्फ उसका गोरापन हो, वहां सांवली या काले रंग की लड़कियों को किस तरह की मुश्किलें झेलनी पड़ती होंगी इसका अंदाजा लगाया जा सकता है। छत्तीसगढ़ के बगीचा की रिनी कुजूर को भी ऐसी ही समस्याओं से दो चार होना पड़ा। लेकिन उन्होंने समाज को मुंह तोड़ जवाब देते हुए अपना मुकाम बनाया और आज मॉडलिंग की दुनिया की चर्चित हस्ती बन गई हैं। उनका लुक इंटरनेशनल सिंगर रिहाना से मिलता जुलता है इसीलिए उन्हें भारत की रिहाना भी कहा जा रहा है।

भारत में रंग को लेकर फैले रूढ़िवाद के बावजूद रिनी ने अपनी मेहनत औक लगन के दम पर देश-विदेश के मीडिया में अपनी जगह बनाई है। हालांकि उनका अभी भी मानना है कि उनके त्वचा के रंग की वजह से आज भी उनकी प्रतिभा का सही आकलन नहीं किया जाता। वह कहती हैं, 'फोटोग्राफर्स अपने क्लाइंट को कहते हैं कि वे रिहाना की तरह एक मॉडल को ला सकते हैं। इसलिए उनके लिए यह आसान हो जाता है क्योंकि फिर कोई ये नहीं कहेगा कि रिहाना खूबसूरत नहीं हैं।' रिनी बताती हैं कि इस तरह चीजें उनके पक्ष में चली जाती हैं।

अपने बारे में बात करने को लेकर रिनी काफी सख्त हैं। अगर उन्हें कोई काली या बदसूरत कहता है तो वह उनसे माफी तक मंगवा लेती हैं। उनकी जिंदगी का एक सपना है रिहाना से मिलना। वह कहती हैं कि उन्हें इसके सिवा जिंदगी में और कुछ नहीं चाहिए। रिनी को मॉडलिंग की दुनिया में आए अभी कुछ साल ही हुए हैं, लेकिन उन्हें न जाने कितनी बार रिजेक्शन का सामना करना पड़ा। वह बताती हैं कि उन्हें ज्यादा से ज्यादा मेकअप और फोटोशॉप करने की सलाह मिलती थीं ताकि उनका रंग फोटो में कुछ निखरा दिखे।

वह बताती हैं, 'मुझे याद है एक बार मेरे पिता से मेरी तस्वीरें मांगी थीं। जब उन्हें पहली फोटो पंसद नहीं आईं तो उन्होंने कहा कि थोड़ी सी गोरी फोटो मिल सकती है क्या। हमारे यहां लोगों की मानसिकता ही ऐसी है।' अपने बचपन की यादें साझा करते हुए हिंदुस्तान टाइम्स से रिनी ने कहा, 'बचपन में मुझे याद है मैं एक कॉम्पिटीशन में गई थी। वहां स्टेज शो हो रहा था। जब मैं स्टेज पर आई तो दर्शकों में से आवाज आई कि देखो, काली परी आ गई। दरअसल वे मेरे रंग का मजाक उड़ा रहे थे।'

एक बार उनके किसी दोस्त ने कहा कि वह इंटरनेशनल आईकन रिहाना की तरह लगती हैं। लेकिन इस बात को रिनी ने गंभीरता से नहीं लिया और उस दोस्त की बात पर हंस पड़ीं। लेकिन कुछ ही दिनों में उन्हें हर किसी के मुंह से यही सुनने को मिल रहा था। इसके बाद उन्होंने मॉडलिंग के क्षेत्र में करियर बनाने का फैसला कर लिया। मॉडलिंग की दुनिया में जाने का सपना देखने वाली रिनी को अधिकतर मौकों पर हताश होना पड़ा। इस क्षेत्र में उन्हें काफी चुनौतियों का सामना करना पड़ा। उनसे शारीरिक संबंध बनाने को कहा गया। वह बताती हैं कि मॉडलिंग की दुनिया में अधिकतर लोग यही कहते थे कि जब तक आप क्लाइंट्स को 'खुश' नहीं करेंगी तब तक आपको काम मिलना मुश्किल है।

यह भी पढ़ें: विंबलडन के लिए क्वॉलिफाई करने वाले इंडियन आर्मी के पहले शख्स बने श्रीराम बालाजी

Add to
Shares
305
Comments
Share This
Add to
Shares
305
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें