संस्करणों

कार वॉश कराना है, Mypitstop है ना

...ताकि आप छुट्टी के दिन मस्ती करें, न कि कार साफ

15th Jul 2015
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share

आइडियाज़ अक्सर उस समय आते हैं जब हम उसकी उम्मीद बहुत कम करते हैं। कुछ तो भूल जाते हैं तो कुछ तुरंत खत्म हो जाते हैं, वहीं कुछ सॉल्यूशन का रूप अख्तियार करते हैं। इसी तरह Mypitstop का जन्म हुआ।

कोवलम में पूलसाइड के पास एक शांत शाम। चार दोस्त रोहित माथुर, अमित थापर, संजीव सिन्हा और टीना डी’क्रूज़ बीयर पीते हुए आसान और सिंपल कार वाशिंग के आइडिया पर चर्चा कर रहे थे। उन्हें अपनी छुट्टी के बाद अपनी कार को साफ करने में लगने वाले समय और मेहनत का अनुभव हुआ था।

चर्चा की शुरुआत रोहित की एक कहानी से हुआ। वीकेंड का दिन था और उसने अपनी कार को साफ करने का फैसला किया। उसे अपनी कार को वहां छोड़कर आना था और शाम को वहां से वापस लाना था। पूरे दिन उसने महसूस किया कि उसके छुट्टी का एक पूरा दिन अपनी कार को वॉश सेंटर छोड़ने, उसे वापस लाने और डेली लगेज को फिर से लोड करने में खराब हो गया।

कॉमन प्रॉब्लम की सॉल्विंग

चर्चा के दौरान ही Mypitstop का आइडिया उनके दिमाग में आया। रोहित उसके फाउंडर बने, अमित थापर बिजनेस और स्ट्रेटजी हेड, संजीव सिन्हा और टीना डी’क्रूज़ ऑपरेशंस हेड।

उनके पास एक साझा लक्ष्य है- कार ओनर्स को उनके दरवाजे पर इफेक्टिव सोल्यूशंस प्रोवाइड कराना। 12 साल से ज्यादा वक्त तक रोहित इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री में काम कर चुके हैं और उन्हें देश के पहले टेन-पिन बोलिंग सेंटर स्थापित करने का श्रेय जाता है। वह कहते हैं कि टीम के एक अहम मेंबर के पास ऑटोमोबाइल सेक्टर का 30 साल का अनुभव है। ये उनका जूनून है जिसने टीम को इस सेक्टर में एक नई जगह बनाने को प्रेरित किया।

Mypitstop आपकी कार को साफ करने के लिए पानी के बजाय भाप का इस्तेमाल करती है। टीम बताती है कि कार धोने में करीब 200 लीटर पानी खर्च करने के बजाय वो ईकोफ्रेंडली तकनीक अपनाती है और प्रति कार सिर्फ 2 गैलन पानी का इस्तेमाल करती है। स्टीम क्लीन प्रॉसेज में करीब आधे घंटे का वक्त लगता है।

Mypitstop टीम

Mypitstop टीम


चुनौतियां

आज पहले से ज्यादा यूजर-फ्रेंडली और तेज कार वॉश सिस्टम का मार्केट तेजी से उभर रहा है। इस सेक्टर में दूसरा प्लेयर Speed Car है। फिर भी भारत में कार सोल्यूशंस खासकर कार वॉशिंग और क्लीनिंग सेगमेंट पूरी तरह से ऑर्गनाइज्ड नहीं हुआ है। इसलिए जिन सबसे बड़ी चुनौतियों का टीम को सामना करना पड़ा उनमें से एक स्किल्ड कार क्लीनर्स को आकर्षित करना था।

रोहित एक और चैलेंज के बारे में बताते हैं जिनका उन्होंने सामना किया- “लोग हमारी सर्विस को 400 रुपये वाली कार वॉश से तुलना करने की कोशिश करते हैं। दूसरी बड़ी चुनौती परंपरागत कार वॉश सेक्टर में सेंध लगाना था। हमारे स्टार्टअप का जो सबसे बड़ा एडवांटेज था वो ये कि हम एक एसेट-लाइट कंपनी हैं और हम सिर्फ आयात या महज स्टीमर मशीन पर इन्वेस्ट करते हैं। बाकी के इक्विपमेंट जैसे जनरेटर्स और एमयूवी को फिलहाल हम आउटसोर्स कर रहे हैं।”

मार्केट और ग्रोथ

हालांकि टीम को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ा है मगर Mypitstop ने महीने दर महीने 100% ग्रोथ दर्ज किया है। रोहित आगे बताते हैं- “लोग ये देखकर हैरान होते हैं कि स्टीम टेक्नोलॉजी कैसे काम करता है। ये जिद्दी से जिद्दी ग्रीस जैसे दाग को सिर्फ कुछ मिनट में ही साफ कर देता है। हम निश्चित तौर पर रिपीट ऑर्डर्स की उम्मीद कर रहे हैं।” Mypitstop कस्टमर को दी जाने वाली प्रत्येक सर्विस के आधार पर चार्ज करती है।

ई-कॉमर्स पर बढ़ती निर्भरता और अचानक आए इसके अचानक बूम से Mypitstop उम्मीद करती है कि कि उसकी रीच जल्द बढ़ेगी, खासकर उनके डोरस्टेप सर्विस गारंटी की वजह से। रोहित कहते हैं कि परंपरागत कार वॉशिंग तरीके में कई गैलन पानी बर्बाद होता है। लोग भी स्टीम वॉश की वैल्यू समझते हैं और वो भी उनके डोरस्टेप पर। इसलिए वो Mypitstop को चुन रहे हैं।

image


हालांकि उनका मानना है कि इस काम में समय लगेगा क्योंकि भारत की सिर्फ 20 फीसदी आबादी के पास इंटरनेट की पहुंच है। मगर ये संख्या तेजी से बढ़ रही है।

आखिर में रोहत कहते हैं- “हम भौगोलिक विस्तार करना चाहते हैं। अपनी सर्विस को मुंबई के अलावा भारत के अन्य शहरों में पहुंचाना चाहते हैं, खासकर वहां जहां वर्किंग क्लास फैमिलीज की बड़ी संख्या है जिनके पास कार क्लीनिंग स्टेशनों तक जाने के लिए समय नहीं है। इसके अलावा हम कुछ अन्य सर्विस जैसे पहियों का बदलना, सीट कवर्स, टायर्स और दूसरे कार एसेसरीज को भी शुरू करना चाहते हैं।”

Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags